4 weeks ago
अंगिका भाषा क संविधान केरौ ८मो अनुसूची आरू बिहार केरौ दोसरौ राज्यभाषा के श्रेणी मँ शामिल करबाबै ल मुख्यमंत्री, विधि मंत्री सँ माँग
1 month ago
जनगणना मँ अपनौ नामौ सथें मातृभाषा के कॉलम मँ अंगिका जरूर दर्ज करैइयै : अंगिका निवेदन पत्र, नेपाली गीत गोष्ठी
1 month ago
अंगिका क संविधान केरौ ८मो अनुसूची मँ डलबाबै आरू बिहार केरौ दोसरौ राजभाषा के रूपौ मँ मान्यता दिलाबै तलक जारी रहतै संघर्ष – प्रीतम विश्वकर्मा कवियाठ
1 month ago
अंगिका क संविधान केरौ ८ मो अनुसूची मँ आरू बिहार केरौ दोसरौ राज्यभाषा के श्रेणी मँ सूचीबद्ध करबाबै लेली नेपाली गीत-गोष्ठी आयोजित करतै कार्यक्रम
1 month ago
अपनो माय भाषा अंगिका क संविधान केरौ ८ मो अनुसूची मँ डलबाय क संवैधानिक दर्जा दिलाबै लेली हजारों के भीड़ नँ बनैलकै मानव श्रृंखला

माल खानपुर । जानकारी के अभाव म॑ पाश्चात्य संस्कृति अपनाय लेला सें ओकरऽ दुष्प्रभाव दूरगामी हुअ॑ सकै छै । वेलेंटाइन डे केरऽ सकारात्मकता ई बात म॑ छै कि हर एक इंसान दोसरऽ इंसान सें दिल सें जुड़लऽ रह॑ आरू एकरऽ इझहार भी करतें रह॑ । ई एगो प्रतीकात्मक पर्व छेकै जे कि पश्छिम केरऽ देशऽ म॑ जादे लोकप्रिय छै । लेकिन जेना-जेना वेलेंटाइन डे लगीच आबै वाला रहै छै यहाँ लोगऽ सिनी के दिल दिमाग प॑ एकरऽ नाकारात्मक असर सें घऽर-परिवार टूटै के कगार प॑ भी पहुँच॑ सकै छै ।

हाल ही म॑ एकरा सें जुड़लऽ एगो मजेदार घटना भागलपुर केरऽ बाथ थाना क्षेत्र केरऽ खानपुर माल गाँव म॑ घटलै । बाथ थाना क्षेत्र केरऽ खानपुर पंचायत स्थित मालखानपुर गाँव निवासी चार बच्चा केरऽ बाप फंटूश कुमार आरू दू बच्चा केरऽ माय आठ फरवरी क॑ गाँव छोड़ी क॑ भागी गेलै । सोमवार, १२ फरवरी क॑ ग्रामीण न॑ दूनू क॑ शंभूगंज थाना केरऽ केहनीचक सें बरामद करी क॑ गाँव लानलकै । ग्रामीण न॑ बैठक करी क॑ सरपंच नीलू कुमारी आरू बाथ पुलिस केरऽ उपस्थिति म॑ छोटऽ-छोटऽ बच्चा के ख्याल करतें हुअ॑ दूनू क॑ सुधरै के मौका देलऽ गेलै । महिला क॑ अपनऽ बच्चा सहित पति सथे॑ भेजी देलऽ गेलै । जबकि फंटूश क॑ भी अपनऽ बच्चा सहित पत्नी सथें भेजी देलऽ गेलै ।

मालखानपुर ग्रामवासी, पंचायत केरऽ सरपंच आरू बाथ थाना पुलिसकर्मी केरऽ सहज समझदारी स॑ दू गो परिवार टुटतें-टुटतें बचलै आरू सथें छौ-छौ बुतरू सिनी केरऽ जिनगी भी भंगठै स॑ बची गेलै । ई निर्णय केरऽ जेतना तारीफ करलऽ जाय कम छै । आशा छै कि परिवार आरू बच्चा सब के भविष्य केरऽ ख्याल करी क॑ प्रेमी-प्रेमिका जमीनी हकीकत क॑ पहचानतै आरू प्यार केरऽ नशा उतारी क॑ अपनऽ-अपनऽ परिवार केरऽ खुशहाली लेली जिनगी जीना शुरू करी देतै ।

Comments are closed.

error: Content is protected !!