2 months ago
उधाडीह गाँव मँ मनैलौ गेलै शौर्य चक्रधारी अंग गौरव शहीद निलेश कुमार नयन केरौ शहादत दिवस | New in Angika
2 months ago
गिनीज बुक ऑफ वर्ल्ड रिकॉर्ड मँ जग्घौ बनाबै लेली आय 122 भाषा के गाना कार्यक्रम मँ अंगिका मँ भी गैतै पुणे केरौ मंजुश्री ओक | News in Angika
2 months ago
अंगिका भाषा क आठमौ अनुसूची मँ दर्ज कराबै लेली दिसम्बर मँ दिल्ली मँ होय वाला आन्‍दोलन क सफल बनाबै के करलौ गेलै आह्वान | News in Angika
2 months ago
अंगिका आरू हिन्दी केरौ वरिष्ठ कवि व गीतकार, कविरत्न महेन्द्र प्र.”निशाकर” “दिनकर सम्मान” सँ सम्मानित  | News in Angika Angika
3 months ago
चाँद पर विक्रम लैंडर के ठेकानौ के लगलै पता, पर अखनी नै हुअय सकलौ छै संपर्क | ISRO found Vikram on surface of moon, yet to communicate | Chandrayaan 2 | News in Angika

भागलपुर । अखिल भारतीय साहित्यकार परिषद द्वारा भागलपुर केरऽ भगवान पुस्तकालय में आयोजित एगो कार्यक्रम में बितलऽ रविवार क॑ अंग क्षेत्र केरऽ साहित्यकार उमाकांत झा ‘अंशुमाली’ केरऽ प्रथम हिंदी पुस्तक “श्री दुर्गा चरित” केरऽ लोकार्पण सम्पन्न होलै । ई अवसर पर अंगिका केरऽ साहित्यकार गण मौजूद छेलै ।

भागलपुर विश्वविद्यालय केरऽ कुलगीतकार श्री आमोद कुमार मिश्र केरऽ अध्यक्षता में आयोजित ई कार्यक्रम में पुस्तक केरऽ लोकार्पण पाकुड़ महाविद्यालय केरऽ सेवानिवृत हिंदी प्राध्यापक डॉ. मनमोहन मिश्र न॑ करलकै । कार्यक्रम केरऽ उदघाटन डा. मधुसूदन झा न॑ करलकै । मुख्य अतिथि छेलै डा. प्रेम चंद पाण्डेय तथा विशिष्ट अतिथि द्वय छेलात साथी सुरेश सूर्य आरू महेन्द्र निशाकर । अतिथि सिनी केरऽ स्वागत डॉ. आनन्द कु. झा “बल्लू” न॑ करलकै । अंगिका केरऽ वरिष्ठ साहित्यकार नवीन निकुंज न॑ मंच संचालन करलकै ।

akhil-bhartiya-sahityakar-parishad-5-11-2017-1

डॉ. मनमोहन मिश्र न॑ माय दुर्गा तत्व केरऽ गूढ रहस्यऽ प॑ प्रकाश डालतें हुअ॑ “श्री दुर्गा चरित” क॑ समाज लेली बहुत उपयोगी ग्रन्थ बतैतें हुअ॑ सब क॑ एकरा अपनाबै के सलाह देलकै ।

श्री आमोद कुमार मिश्र न॑ माय शब्द क॑ सम्पूर्ण ब्रह्माण्ड केरऽ सबसें प्रिय शब्द बतैतें हुअ॑ कहलकै कि “श्री दुर्गा चरित” केरऽ रचना अंशुमाली पर माय केरऽ अपार कृपा के फल छेकै ।

डॉ. पाण्डेय न॑ कहलकै कि श्री दुर्गा चरित में श्री दुर्गा सप्तशती केरऽ मूल आत्मा सुरक्षित छै ।

डॉ. मधु सूदन झा न॑ कहलकै कि सब्भे दिब्य ग्रंथ कठिन भाषा संस्कृत में होला के कारण लोग हिन्दू धर्म केरऽ महानता क॑ समझै सें वंचित रही जाय छै आरू हुनका धर्मांतरुण लेली प्रेरित करलऽ जाय छै । अतः हिन्दी में “श्री दुर्गा चरित “जैसनऽ रचना हुअ॑ आरू ओकरऽ प्रचार-प्रसार हुअ॑ यह॑ समय के जरूरत छै ।

श्री राजकुमार जी न॑ रचना क॑ प्रशंसनीय बतैंत॑ हुअ॑ भविष्य में ई प्रकार के कृति लेली प्रेरित करलकै । श्री साथी सुरेश सूर्य ,श्री महेंद्र निशाकर, श्री एस. के.माथुर, डॉ.मीरा झा, श्री दिव्यांशु आरू श्रीनिकुंज न॑ पुस्तक केरऽ भूरि-भूरि प्रशंसा करतें हुअ॑ भविष्य में भी ऐसनऽ रचना के प्रकाशन लेली प्रोत्साहित करलकै ।

श्री निकुंज न॑ अपनऽ वक्तृत्व कला सें कार्यक्रम केरऽ संचालन में चार चाँद लगाय देलकै । कार्यक्रम में विकास गुलटी, परमानंद प्रेमी, डॉ. अमर सिंह, नरेश ठाकुर, संजय भागलपुरी, उमाकांत भारती, अभय भारती, अंजनी कुमार सुमन, गौतम सुमन आदि मौजूद रहै ।

Comments are closed.

error: Content is protected !!