3 hours ago
अंगिका गजल | रेत रो राग | डॉ. अमरेन्द्र | स्वर – डॉ. सत्यानंद । Angika Gazal | Ret Ro Raag | Dr Amrendra | Recitation : Dr. Satyanand
1 day ago
सुमिरौं प्रथम पूजनीय माय क | अंगिका कविता | परमानंद प्रेमी | Sumiron Pratham Pujniya Mai ke | Angika Poetry | Permanand Premi
2 days ago
मुख्यमंत्री नँ अररिया, किशनगंज, सहरसा, सुपौल,  पूर्णिया आरू कटिहार जिला केरौ बूहो प्रभावित इलाका के करलकै हवाई सर्वेक्षण | News in Angika | CM nitish Kumar conducted aerial survey of flood affected areas of Araria, Kishanganj and Katihar of Ang Pradesh
3 days ago
फाइनल मैच आरू सुपर ओवर टाय होला के बाद न्यूजीलैंड क हराय क इंगलैंड क्रिकेट विश्व चैंपियन | World Cup Final: NZ vs ENG | News in Angika Language | England is new Cricket World Cup Champion
1 week ago
जों समय सीमा 11 बजी क 5 मिनट क पार करी जैतै त काल न्यूजीलैंड के टीम आजको स्कोर सँ आगे खेलना शुरू करतै | विश्व कप क्रिकेट- २०१९ | IND vs NZ 1st Semifinal| World Cup Cricket – 2019

परम प्रिय मामू आचार्य श्रीरंजन सूरिदेव क॑ श्रद्धांजलि

— अक्षय मोहन भट्ट—

(मौसम विज्ञानी, मौसम विज्ञान विभाग, भारत सरकार, अम्बिकापुर, छत्तीसगढ़)

आज साहित्य आकाश में दर्द बहुत है !
कवि हृदय की पीड़ा में सिंचित शब्दों का आभाव बहुत है !
जीवन की प्रथम परिभाषा,
सारस्वत होवे शब्दों की मर्यादा,
विराम लेखनी को मिली,
अंतिम पन्ने पर पूर्ण हस्ताक्षर
रञ्जन तुम्हारी विराम लेखनी में अश्रु का पारावार बहुत है !
साहित्य जगत का गला रुंधता,
शब्द नहीं हैं कवि शब्द ढूंढता,
मग शाकद्वीपी के रत्न रञ्जन,
हुए ओझल ,रह गयीं शेष चक्षु क्रंदन,
यादें शेष अब रञ्जन कृति में , नम आंखों में आभार बहुत है !
ओज प्रवीण पंडित श्री रञ्जन,
माधर्य बोध के विज्ञ श्री रञ्जन,
सरस्वती पुत्र प्रखर श्री रञ्जन,
श्रद्धावनत हूँ मातुल श्री रञ्जन,
बैकुंठ प्रकाशित आज हुआ होगा, गर्व मुझे अभिमान बहुत है !
आज साहित्य आकाश में दर्द बहुत है !
श्रद्धांजलि —

11.11.2018 *

Comments are closed.

error: Content is protected !!