Post Tagged with: "nitish kumar"

विश्वस्तरीय बिहार संग्रहालय केरऽ उदघाटन करत॑ बिहार केरऽ मुख्यमंत्री नीतिश कुमार

विश्वस्तरीय बिहार संग्रहालय केरऽ कला दीर्घा सब के लोकार्पण करलऽ गेलै

पटना : बिहार संग्रहालय हलाँकि अभी पूरा बनी क॑ तैयार नै होलऽ छै, कुछ काम बचलऽ छै पूरा होय ल॑, लेकिन एकरऽ कला दीर्घा सब के उद्घाटन दू अक्तूबर क॑ मुख्यमंत्री नीतीश कुमार के हाथों होलै । मुख्यमंत्री नीतीश कुमार न॑ कहलकै  कि बहुत तरह के विरोध के बावजूद पूरा भव्यता के साथ बिहार संग्रहालय बनी क॑ तैयार होय गेलै । ई ल॑ क॑ पटना हाईकोर्ट म॑ कईएक जनहित याचिकाएं (पीआईएल) दायर करलऽ गेलऽ रहै । कोर्ट म॑ ई कहलऽ गेलै कि एकरा प॑ फिजूल पैसा खर्च होय रहलऽ छै ।कोर्ट न॑ एकरा ल॑ क॑ कईएक दिशा-निर्देश देल॑ छेलै । मुख्यमंत्री नीतीश कुमार न॑ कहलकै  कि ई इतना सुंदर बनलऽ छै कि एकरा देखै वाला एकरऽ विरोध करना भूली जैतै । कुछ अधुरा काम पूरा होथैं कोर्ट केरऽ दिशा-निर्देश क॑ कहीं टगबैबै, जेकरा देखी क॑ लोग जान॑ सकत॑ कि एकरा बनवाबै म॑ केतना परेशानी झेल॑ ल॑  पड़लै । मुख्यमंत्री  न॑ कहलकै  कि साल २०१३ म॑ जब॑ एकरऽ निर्माण शुरू… Read More

बाल विवाह आरू दहेज प्रथा के खिलाफ एकजुट होय क॑ मेटाबै के नीतिश कुमार के आहवान

बाल विवाह आरू दहेज प्रथा के खिलाफ एकजुट होय क॑ मेटाबै के नीतिश कुमार के आहवान

पटना । आय बिहार केरऽ मुख्य मंत्री केरऽ हाथ स॑ बाल-विवाह आरू दहेज प्रथा के खिलाफ सशक्त राज्यव्यापी महाअभियान के आगाज होलै । गाँधी जयंती प॑ ई अभियान क॑ शुभारंभ मुख्यमंत्री नीतीश कुमार पटना स्थित सम्राट अशोक कन्वेंशन सेंटर केरऽ बापू सभागार म॑ करलकै । बिहार केरऽ मुख्यमंत्री नीतीश कुमार न॑ आय गांधी जयंती केरऽ अवसर प॑ कहलकै कि जेना बिहार न॑ शराबबंदी लेली शपथ ल॑ करी क॑ एकरा सफल बनैलकै, वेन्हैं बाल विवाह आरू दहेज प्रथा के खिलाफ भी एकजुट होय क॑ ई सब कुरीति क॑ समाज स॑ मेटाना छै । हुनी कहलकै कि अब॑ बिहार म॑ नै त॑ कोय बेटी जलतै आरू नै ही बाल विवाह होतै । मुख्यमंत्री नीतीश कुमार न॑ कहलकै कि २१ जनवरी क॑ बाल विवाह, दहेज प्रथा आरू शराब सेवन के खिलाफ मानव श्रृंखला बनैलऽ जैतै । ई मौका प॑ मुख्यमंत्री बाल-विवाह आरू दहेज उन्मूलन लेली जागरूकता रथ आरू कला जत्था क॑ झंडी दिखैलकै । ई दूनू जत्था पूरा… Read More

Second Patna Literature Festival begins

Second Patna Literature Festival begins

The three-day Patna Literature Festival began here Friday with well-known poets Gulzar and Ashok Vajpayee, fiction writers, filmmakers and others discussing different colours of the age-old literary tradition in the ancient land of Patliputra. Bihar Chief Minister Nitish Kumar, who inaugurated the festival at the state museum here, urged the participants and organisers to make the event lively like the Jaipur Literature Festival, if not equal to it. “I hope that Patna Literature Festival has potential to turn it into a big event in coming years. It is purely a literature festival focussed on Indian languages,” he said. Gulzar said that this festival is a welcome step to give a stage to and opportunity to discuss literary traditions of Indian languages. “I am upbeat and happy to be part of this unique literary festival in Patna,” he said. Vajpayee said this festival will contribute to improving discussion and knowledge of the Indian languages. Festival director Ajit Pradhan… Read More

error: Content is protected !!