3 days ago
उधाडीह गाँव मँ मनैलौ गेलै शौर्य चक्रधारी अंग गौरव शहीद निलेश कुमार नयन केरौ शहादत दिवस | New in Angika
4 days ago
गिनीज बुक ऑफ वर्ल्ड रिकॉर्ड मँ जग्घौ बनाबै लेली आय 122 भाषा के गाना कार्यक्रम मँ अंगिका मँ भी गैतै पुणे केरौ मंजुश्री ओक | News in Angika
2 weeks ago
अंगिका भाषा क आठमौ अनुसूची मँ दर्ज कराबै लेली दिसम्बर मँ दिल्ली मँ होय वाला आन्‍दोलन क सफल बनाबै के करलौ गेलै आह्वान | News in Angika
2 weeks ago
अंगिका आरू हिन्दी केरौ वरिष्ठ कवि व गीतकार, कविरत्न महेन्द्र प्र.”निशाकर” “दिनकर सम्मान” सँ सम्मानित  | News in Angika Angika
1 month ago
चाँद पर विक्रम लैंडर के ठेकानौ के लगलै पता, पर अखनी नै हुअय सकलौ छै संपर्क | ISRO found Vikram on surface of moon, yet to communicate | Chandrayaan 2 | News in Angika

Post Tagged with: "angika language"

अंगिका महोत्सव-२०१६, २० फरवरी क॑ करहरिया हाय इसकूल मं॑ आयोजित होतै

करहरिया, भागलपुर : कल २० फरवरी क॑ अंगिका महोत्सव – २०१६ समारोह के आयोजन करलऽ जैतै। अबरी दाफी अंगिका महोत्सव भागलपुर जिलान्तर्गत करहरिया गामऽ के हाय स्कूल, देवी प्रसाद महतो उच्च विद्यालय करहरिया केरऽ प्रांगन मं॑ आयोजित करलऽ जैतै । एगो सादा समारोह के रूप मं॑ अंगिका महोत्सव – २०१६, २० फरवरी २०१६ क॑ ११ बजे सं॑ २ बजे तक आयोजित होतै । जाहन्वी अंगिका संस्कृति संस्थान, पटना आरो अंगिका.कॉम, नवी मुंबई केरऽ संयुक्त तत्वाधान मं॑ आयोजित होय रहलऽ ई समारोह मं॑ बिहार अंगिका अकादमी केरऽ माननीय अध्यक्ष सहित कईएक गनमान्य अंगिका साहित्यकारऽ सिनी के भाग लै के संभावना छै । समारोह मं॑ ४६ सालऽ सं॑ प्रकासित होय रहलऽ अंगिका भासा केरऽ मासिक पत्रिका ‘अंग माधुरी’ केरऽ ४७ वाँ बरस के प्रवेसांक के विमोचन भी करलऽ जैतै । सथं॑ अंगिका भासा के साहित्यकारऽ सिनी के उदबोधन आरो अँगिका कविता पाठ भी करलऽ जैतै । ज्ञातव्य छै कि पिछला लगभग ४५ सालऽ सं॑ अंगिका पुरोधा, दिवंगत डॉ. नरेश… Read More

बिहार अंगिका अकादमी क॑ मिललै कार्यालय भवन, जल्दिये होतै उदघाटन !

पटना : बिहार अंगिका अकादमी लेली कार्यालय भवन के पहचान करी क॑ एकरऽ आवंटन लेली कागजी प्रकिया प्रगति पर छै । जल्दिये बेली रोड स्थित इ कार्यालय भवन क॑  बिहार अंगिका अकादमी के नाम करी क॑ एकरऽ उदघाटन करलऽ जैतै । अंगिका.कॉम सें इ बात करतें बिहार अंगिका अकादमी के अध्यक्ष डॉ. लखनलाल आरोही न॑ बतैलकै कि उच्च शिक्षा विभाग के निदेशक प्रो. एम. खालिद मिर्जा फीता काटी क॑ एकरऽ उदघाटन करतै । डॉ. आरोही न॑ बतैलकै कि उच्च शिक्षा विभाग केरऽ निदेशक क॑ बिहार अंगिका अकादमी केरऽ विस्तृत जिम्मेवारी आरो कामकाज क॑ रेखांकित करी क॑  जानकारी द॑ देलऽ गेलऽ छै । सथें हुनका चालू आरू आगामी वित्तीय बर्ष लेली योजना सौंपी क॑ पर्याप्त धनराशि आवंटित करै के अनुरोध करलऽ गेलऽ छै । निदेशक न॑ इ संबंध में सकारात्मक डेग उठाबै के बात कहन॑ छै ।   संबंधित अंगिका समाचार पढ़ऽ / Read similar Angika News :गौतम सुमन क अंगिका अकादमी अध्यक्ष बनाबै के माँगअंगिका को अष्टम अनुसूची… Read More

अंगिका भाषा आंदोलन केरऽ पुरोधा आरू अंगिका साहित्य केरऽ महानतम हस्ताक्षर डॉ. नरेश पांडेय चकोर पंचतत्व म॑ विलीन

अंगिका भाषा आंदोलन केरऽ पुरोधा आरू अंगिका साहित्य केरऽ महानतम हस्ताक्षर डॉ. नरेश पांडेय चकोर पंचतत्व म॑ विलीन

पटना, 15 नवंबर. अंगिका आरू हिंदी केरऽ वरिष्ठ साहित्यकार, आरू अंगिका भाषा केरऽ 46 साल स॑ निरंतर प्रकाशित होय रहलऽ मासिक पत्रिका केरऽ संपादक डॉ. नरेश पांडेय चकोर केरऽ पार्थिव-शरीर रविवार क॑ पंचतत्व म॑ विलीन होय गेलै.  हुनकऽ अंतिम संस्कार पटना केरऽ गुलबी घाट पर करलऽ गेलै. हुनकऽ ज्येष्ठ पुत्र शशि शेखर न॑ मुखाग्नि देलकै. इ अवसर पर बड़ी भारी संख्या म॑ साहित्यकार आरू डॉ. चकोर केरऽ शोकाकुल परिजन उपस्थित रहै. एकरऽ पूर्व दोपहर एक बजे कदमकुआं स्थित साहित्य सम्मेलन म॑ हुनकऽ पार्थिव शरीर क॑ अंतिम दर्शन लेली लानलऽ गेलै. अंगिका पुरोधा डॉ. नरेश पाण्डेय चकोर यहाँ सम्मेलन अध्यक्ष डा. अनिल सुलभ, प्रधानमंत्री आचार्य श्रीरंजन सूरिदेव, वरिष्ठ साहित्यकार डा. शिववंश पांडेय, बलभद्र कल्याण, उपाध्यक्ष नृपेंद्रनाथ गुप्त, पं शिवदत्त मिश्र, डा. मेहता नगेंद्र सिंह, कवि योगेंद्र प्रसाद मिश्र, डा. कल्याणी कुसुम सिंह, अधिवक्ता पंडितजी पांडेय, आचार्य आनंद किशोर शास्त्री, डॉ. वासुकीनाथ झा, बच्चा ठाकुर, घमंडी राम, आरएन मिश्र, शंकर शरण मधुकर, जगदीश राय, डा. नागेशवर यादव,… Read More

क्या आज प्रधानमंत्री अंगिका को अष्टम अनुसूची में शामिल करने की घोषणा करेंगें?

क्या आज प्रधानमंत्री अंगिका को अष्टम अनुसूची में शामिल करने की घोषणा करेंगें? —  कुंदन अमिताभ — यह एक अनबूझ पहेली सी ही है कि बिहार, झारखंड, पं. बंगाल के लगभग छह करोड़ भारतीयों द्वारा बोली जाने वाली भाषा अंगिका को अब तक भारतीय संविधान की अष्टम अनुसूची में शामिल नहीं किया गया है. जबकि वास्तविकता यह है कि विश्व के प्राचीनतम भाषाओं में से एक अंगिका भारत के अलावा नेपाल, कंबोडिया, वियतनाम, लाओस आदि देशों में बोली जाने वाली एक अंतर्राष्ट्रीय भाषा है. यह एक अत्यंत गंभीर और विचारणीय विषय है कि आजादी के इतने बरसों के बाद भी एक विशाल जनसमुदाय की भाषा अंगिका अपने वाजिब हक से वंचित क्यों है. पर्याप्त पात्रता और ठोस आधार होने के बावजूद अंगिका को अष्टम अनुसूची में शामिल करने में भारत सरकार द्वारा किया जा रहा अप्रत्याशित विलंब समझ से परे है. क्या आज भागलपुर में आयोजित होने वाली परिवर्तन रैली में माननीय प्रधानमंत्री श्री नरेंद्र… Read More

सरह / सरहपा केरऽ बौद्ध महामुद्रा निर्देश – लामा कुंगा चोऐदक द्वारा पठित

 लामा कुंगा चोऐदक द्वारा पठित सरह (सरहपा) केरऽ बौद्ध महामुद्रा निर्देश  Buddhist Mahamudra instruction of Saraha, recited by Lama Kunga Choedak  Reference: https://www.youtube.com/watch?v=1zXfa-ZWvSQ&feature=youtu.be  संबंधित अंगिका समाचार पढ़ऽ / Read similar Angika News :फीफा अंडर-१७ कप फाइनल म॑ शनिचर क॑ होतै इंग्लैंड आरू…विश्वस्तरीय बिहार संग्रहालय केरऽ कला दीर्घा सब के…जाह्न्वी अंगिका संस्कृति संस्थान न॑ बिहार अंगिका…राजगीर महोत्सव केरऽ हास्य कवि सम्मेलन म॑ अंगिका…अंगिका भाषा क॑ संविधान के आठमऽ अनुसूची म॑ शामिल…वेलेंटाइन डे केरऽ मस्ती म॑ घऽर स॑ भागलऽ दू बच्चा…बिहार सरकार न॑ अंगिका केरऽ विकास लेली कोय फंड नै…जापान सथ॑ भारत केरऽ बुलेट संबंधऽ के रखलऽ गेलै नींवउधाडीह, सुलतानगंज केरऽ निलेश नयन के आतंकी मुठभेड़ म॑…संस्कृत, पाली, प्राकृत, हिंदी आरू अंगिका केरऽ…

जाह्न्वी अंगिका संस्कृति संस्थान न॑ बिहार अंगिका अकादमी मं॑ सेवा प्रदान करै वास्तें अनुशंसा करलकै 105 अंगिका साहित्यकारऽ के नाम

जाह्न्वी अंगिका संस्कृति संस्थान न॑ बिहार अंगिका अकादमी मं॑ सेवा प्रदान करै वास्तें अनुशंसा करलकै 105 अंगिका साहित्यकारऽ के नाम

पटना :  जाह्न्वी अंगिका संस्कृति संस्थान , पटना न॑ नवगठित बिहार अंगिका अकादमी मं॑ सेवा प्रदान करै वास्तें उम्र केरऽ वरीयता केरऽ आधार पर 105 अंगिका साहित्यकारऽ के नाम अनुशंसित करी क॑ बिहार सरकार कं॑ भेजन॑ छै. जाह्न्वी अंगिका संस्कृति संस्थान  केरऽ महासचिव, अंगिका केरऽ वरिष्ठ साहित्यकार आरू पिछला 46 साल सं॑ लगातार प्रकाशित होय रहलऽ अंगिका भाषा के पत्रिका “अंग माधुरी” केरऽ सम्पादक डा. नरेश पांडेय चकोर न॑ फोन करी क॑ इ सूचना अंगिका.कॉम क॑ आज देलकै. डा. चकोर न॑ बतैलकै कि दू बरस पूर्व  प्रकाशित “अंगिका साहित्य – अब तक” पुस्तक केरऽ आधार पर उपरोक्त अनुशंसा करलऽ गेलऽ छै. पिछला 56 साल सं॑ लगातार अंगिका भाषा साहित्य सृजन मं॑ जुटलऽ डा. नरेश पांडेय चकोर न॑ बतैलकै कि 105 अंगिका साहित्यकारऽ के नाम अनुशंसित करी क॑ बिहार सरकार कं॑  इ लेली भेजलऽ गेलऽ छै जेकरा सं॑  बिहार अंगिका अकादमी केरऽ गठन के सिलसिला मं॑ ऐकरऽ कार्यकारिणी समिति आरू साधारण समिति केरऽ सदस्य केरऽ सूची बनाबै मं॑ सरकार क॑ सुविधा हुए॑ सक॑. साथैं-साथ  बिहार अंगिका अकादमी… Read More

बिहार कैबिनेटं॑ देलकै बिहार अंगिका अकादमी मं॑ पदऽ के सृजन लेली स्वीकृति

पटना : गत 23 जून क॑ बिहार कैबिनेट द्वारा अंगिका अकादमी केरऽ गठन के घोषणा के उपरांत गत 30 जून क॑ अंगिका अकादमी केरऽ गठन के बाद बिहार कैबिनेट केरऽ कल बुधवार 8 जुलाई केरऽ होलऽ मीटिंग मं॑ बिहार अंगिका अकादमी लेली पदऽ के सृजन पर मुहर लगी गेलै . मुख्यमंत्री श्री नीतिश कुमार केरऽ अध्यक्षता मं॑ पटना मं॑ आयोजित बिहार मंत्रीपरिषद केरऽ बुधवार केरऽ होलऽ बैठक मं॑ कुल 57 एजेंडा पास होलै, जेकरा म॑ एजेंडा नं. 33 के तहत बिहार अंगिका अकादमी लेली पदऽ के सृजन लेली स्वीकृति देलऽ गेलै. एकरऽ पहले गत 23 जून क॑ बिहार केरऽ कैबिनेट द्वारा अंगिका अकादमी केरऽ गठन क॑ मंजूरी देला के पश्चात राज्य योजनान्तर्गत संकल्प संख्या – 15 / एम -4 – 01 /2015 -1251 द्वारा गत 30 जून क॑ अंगिका अकादमी केरऽ विधिवत गठन करलऽ गेलै . कैबिनेट केरऽ बैठक मं॑ अंगिका अकादमी लेली तत्काल पाँच लाख रूपया टोकन स्वरूप सहायता अनुदान मंजूर भी करलऽ गेलऽ… Read More

बिहार सरकार करलकै अंगिका अकादमी केरॊ गठन – अंगिका भाषा कॆ संविधान केरॊ अष्टम सूची मॆं शामिल करै के दिशा मॆं महत्वपूर्ण कदम

पटना : बिहार मॆं अंगिका अकादमी केरॊ गठन करलॊ गेलॊ छै. कल मंगलवार कॆ बिहार केरॊ कैबिनेट नॆ अंगिका अकादमी केरॊ गठन कॆ मंजूरी देलकै. कैबिनेट केरॊ बैठक मॆं अंगिका अकादमी लेली तत्काल पाँच लाख रूपया टोकन स्वरूप सहायता अनुदान मंजूर करलॊ गेलॊ छै. बिहार राज्य केरॊ पंद्रह जिला केरॊ लगभग चार करोड़ अंगिका भाषी सहित अंगिका भाषाविद केरॊ बरसॊॆ पुराना माँग अबॆ जाय कॆ पूरा होलॊ छै. बिहार , झारखंड आरू पश्चिम बंगाल मॆं सब मिलाय कॆ पाँच करोड़ सॆं भी जादा लोगॊ द्वारा अंगिका बोललॊ जाय छै. अंगिका अकादमी केरॊ गठन अंगिका भाषा कॆ संविधान केरॊ अष्टम सूची मॆं शामिल करै के दिशा मॆं एगॊ महत्वपूर्ण कदम मानलॊ जाय रहलॊ छै. इ साल केरॊ अप्रैल माह मॆं मुख्यमंत्री नीतिश कुमार जबॆ अगवानी पुल केरॊ कार्यारंभ करै लॆ भागलपुर केरॊ सुलतानगंज गेलॊ रहै तॆ हुनी अंगिका अकादमी केरॊ गठन के बात करनॆ रहै. गत मई मॆं बिहार केरॊ मुख्यमंत्री नीतिश कुमार कॆ अंग उत्थानान्दोलन… Read More

Closing day of the Patna Festival marked by discussion on the ‘Art of Governance’

Closing day of the Patna Festival marked by discussion on the ‘Art of Governance’

PATNA: “Everyday women face the same ‘Lakshman rekha’ and same ‘agni pariksha’ as did Sita,” said noted author and activist Namita Gokhale and added Sita’s story is not about feminism but about all who are marginalized. She was speaking during a session on ‘Sita: Of Godness and Woman’ on the third and last day of Patna Literature Festival (PLF) on Sunday. She was in conversation with Anuradha Sen, Soumya Shankar and Yatindra Mishra. Anuradha Sen said in the Valmiki Ramayan, there was a strong Sita. One needs to deconstruct the image of Sita. She also said there were 300 versions of ‘Ramayan’ and Chandravati wrote a Bengali Ramayana seen from Sita’s point of view and criticized Ram. She also gave voice to women characters of the epic such as Mandodari. The session followed screening of a short movie on Sita. The closing day of the fest was marked by a heated discussion on the ‘Art… Read More

Wordsmith weaves magic at meet – Poet focuses on regional languages, their presence in his next book

Wordsmith weaves magic at meet – Poet focuses on regional languages, their presence in his next book

On Day 2 of the Patna Literature Festival, Shambhavi Singh of The Telegraph caught up with prolific writer-cum-poet-filmmaker Gulzar at a city hotel. In the city to attend an interactive session with culture aficionados and budding authors, the man whose pen creates magic, talked about reading habits, the focus on regional languages and his upcoming literary projects. You have attended two consecutive literature festivals in Patna. How do you find the readers? There is a large number of readers of Indian languages here in Patna. English books sell like hot cakes, but we can’t deny that the Patna Book Fair registers sale of Hindi books in the range of thousands every day. Only here, in Patna, will you meet a reader who might have read a book two decades ago but will remember the second line of the third chapter. Be it the autorickshaw driver or the chaiwallah — they will save money to buy… Read More

error: Content is protected !!