Post Tagged with: "angika akademi"

स्थापना के दू साल बाद भी बिहार अंगिका अकादमी सड़कै प॑, मुख्यमंत्री सचिवालय केरऽ आदेश के भी नै होय रहलऽ छै पालन

पटना । आपनऽ स्थापना केरऽ दू साल पूरा होला के बाद भी सरकार द्वारा बिहार अंगिका अकादमी क॑ अखनी तलक कार्यालय उपलब्ध नै करैलऽ गेलऽ छै । ई तथ्य लोगऽ सिनी के ई आरोप क॑ प्रमाणित करी रहलऽ छै कि नीतिश सरकार क॑ करोड़ों अंगिका भाषा भाषी केरऽ भावना के कोय खयाल नै छै । एकरा स॑ जहाँ बिहार सरकार केरऽ…. Read More संबंधित अंगिका समाचार पढ़ऽ / Read similar Angika News :स्थापना केरऽ साल भर बाद भी कागज प॑ ही चली रहलऽ छै…संस्कृत, पाली, प्राकृत, हिंदी आरू अंगिका केरऽ…अंगिका क॑ साजिशमुक्त कराय क॑ एकरऽ विकास के पथ…बिहार अंगिका अकादमी केरऽ उद्देश्य क॑ धरातल प॑ उतारै…बिहार केरऽ प्राइमरी इसकूली मं॑ माध्यम भासा के रूप…सरकारी उपेक्षा केरऽ शिकार बिहार अंगिका अकादमी केरऽ…सरकार केरऽ अनुमति के बगैर ही चली रहलऽ छै तिलकामाँझी…अंगिका भाषा आंदोलन केरऽ पुरोधा आरू अंगिका साहित्य…फऽल एक फैदा अनेक : इमलीजाह्न्वी अंगिका संस्कृति संस्थान न॑ बिहार अंगिका…

अंगिका अकादमी केरऽ अध्यक्ष अकादमी दफ्तर लेली लगाय रहलऽ छै २१ महीना स॑ सचिवालय के चक्कर

पटना : राज्य आरू केंद्र सरकार भाषा बचाबै लेली आरू ओकरऽ संरक्षण लेली  खूब जोर दै छै । कागजी स्तर पर एकरऽ संरक्षण केरऽ प्रयास भी करलऽ जाय छै । लेकिन अंगिका अकादमी केरऽ अध्यक्ष डॉ. लखन लाल सिंह आरोही ऐसनऽ कुछ लोग केरऽ चिट्ठी धरातल पर करलऽ जाय रहलऽ सरकारी कोशिशऽ के सब पोल खोली दै छै । संबंधित अंगिका समाचार पढ़ऽ / Read similar Angika News :संस्कृत, पाली, प्राकृत, हिंदी आरू अंगिका केरऽ…स्थापना केरऽ साल भर बाद भी कागज प॑ ही चली रहलऽ छै…अंगिका भाषा आंदोलन केरऽ पुरोधा आरू अंगिका साहित्य…बिहार केरऽ प्राइमरी इसकूली मं॑ माध्यम भासा के रूप…फऽल एक फैदा अनेक : इमलीअंगिका, कोसली सहित सब्भे ३८ अनुसूचित भाषा केरौ…जाह्न्वी अंगिका संस्कृति संस्थान न॑ बिहार अंगिका…अंगिका भाषा क॑ संविधान के आठमऽ अनुसूची म॑ शामिल…सर्वसम्मति स॑ आठ महत्वपूर्ण प्रस्ताव पारित करी क॑…सरकारी उपेक्षा केरऽ शिकार बिहार अंगिका अकादमी केरऽ…

स्थापना केरऽ साल भर बाद भी कागज प॑ ही चली रहलऽ छै बिहार अंगिका अकादमी

स्थापना केरऽ साल भर बाद भी कागज प॑ ही चली रहलऽ छै बिहार अंगिका अकादमी

पटना : बिहार अंगिका अकादमी केरऽ बदहाल स्थिति सं॑ भला के अंगिका भाषा-भाषी अवगत नै छै । पिछला विधानसभा चुनाव के ठीक पहल॑ लगभग ६ करोड़ अंगिका भाषी केरऽ वोट क॑ ध्यान मं॑ रखतं॑ हुअ॑ सरकार द्वारा अंगिका अकादमी केरऽ करलऽ गेलऽ स्थापना अखनी तलक खाली राजनीतिक लाभ लै लेली करलऽ गेलऽ प्रयास ही सिद्ध होलऽ छै । सबसं॑ रोचक बात त॑ ई छै कि अकादमी अध्यक्ष प्रो. (डॉ.) लखन लाल आरोही के साथ-साथ अंगिका भाषा केरऽ साहित्यकार, आम जन, प्रिंट मीडिया आरू इलेक्ट्रानिक्स मीडिया द्वारा सरकार केरऽ ध्यान बार – बार ई दिशा म॑ दिलैलऽ जाय रहलऽ छै, परंतु फिर भी कोय असर होतं॑ नै दिखै छै । स्थापना के साल भर बाद भी कागज प॑ ही चली रहलऽ छै बिहार अंगिका अकादमी । नै त॑ अध्यक्ष क॑ बैठै लेली कोनो कार्यालय छै, नै कोनो कर्मचारी केरऽ पदस्थापना ही होलऽ छै आरू नै कोनो वेतन के भुगतान ही करलऽ गेलऽ छै । अकादमी अध्यक्ष केरऽ आपनऽ… Read More

error: Content is protected !!