Post Tagged with: "angika"

आज सॆं तीन दिन केरॊ पटना लिटरेचर फेस्टिवल शुरू : अंगिका, हिंदी, उर्दू, मैथिली, भोजपुरी, मगही,बज्जिका, अंग्रेजी लिटरेचर एक मंच पॆ

पटना : आज से सेकेंड पटना लिटरेचर फेस्टिवल का आगाज बिहार के सीएम द्वारा सुबह दस बजे किया जाएगा. दैनिक जागरण, नवरस स्कूल ऑफ परफॉर्मिग आ‌र्ट्स और बिहार सरकार के आर्ट, कल्चर एंड यूथ डिपार्टमेंट द्वारा पटना म्यूजियम में आर्गनाइज इस तीन दिनों के फेस्टिवल में लिटरेचर के साथ-साथ कल्चर के कई इवेंट होंगे. इसके बारे में नवरस स्कूल ऑफ परफॉर्मिग आ‌र्ट्स के फाउंडर डायरेक्टर डॉ अजित प्रधान ने बताया कि ऐसे फेस्टिवल का उद्ेश्य लिटरेचर और आर्ट के विभिन्न एरिया से जुडे़ प्रोफेशनल को एक मंच पर लाना है. इंडियन लैंग्वेज के लिटरेचर एक साथ हिंदी, उर्दू, मैथिली, भोजपुरी, मगही, अंगिका, बज्जिका के साथ-साथ अंग्रेजी लिटरेचर इसमें शामिल हैं. जिसमें कई नामचीन आर्थर की बुक्स और उसके सोशल कांटेक्स्ट के बारे में लोग रू-ब-रू होंगे. मैथिली के बारे में डिस्कशन किया जाएगा. इस सेशन में देव नंदन सिंह के द्वारा एडिटेड बुक सक्ताप्रमोध की लांचिंग संस्था के एडवाइजर पवन कुमार वर्मा द्वारा किया जाएगा.… Read More

अंगिका महासम्मेलन में जुटे हजारों अंगभाषी

अंगिका महासम्मेलन में जुटे हजारों अंगभाषी

जमशेदपुर : अंगिका जागृति संघ, जमशेदपुर के अध्यक्ष कौशल कुमार सिंह की अध्यक्षता में रविवार (2 फरवरी-2014) को अंगिका समाज ने केबुल टाउन मैदान में विशाल पारिवारिक मिलन समारोह किया। कार्यक्रम में मुख्य अतिथि के तौर पर राज्यसभा सांसद प्रदीप कुमार बलमुचू उपस्थित थे। बलमुचू ने कहा कि आज आधुनिकता के कारण जहां समाज में दरार पैदा हो रही है वहीं अंगिका समाज अपनी संस्कृति को बचाने में जुटा है। इससे बड़ी बात नहीं हो सकती। उन्होंने संघ को अपने फंड से एंबुलेंस प्रदान किया। साथ ही टाटा से भागलपुर के बीच ट्रेन चलाने के लिए प्रयास करने की बात कही। विधायक रघुवर दास ने कहा कि विश्व में भारत की पहचान इसकी अपनी संस्कृति व सभ्यता है। आज जहां लोग पश्चिमी सभ्यता की ओर रूख कर रहे हैं, इसके बीच अपनी माटी की भाषा से एक दूसरे को जोड़ने का काम किया जा रहा है। इसके लिए खासकर संघ शिवशंकर सिंह, कौशल सिंह व रविंद्र… Read More

Deoghar gets FM airwaves  – Stress on Angika, Santhali languages

Deoghar gets FM airwaves – Stress on Angika, Santhali languages

Dumka, Jan. 20: Citizens of the temple town can now tune in to FM channels and listened to aakashvani with the All India Radio launching a relay centre in Deoghar today. The facility will allow people to enjoy uninterrupted services of the Vividh Bharati through a single 100watt transmitter that has been installed here for the purpose. Initially, the FM services will be available within a radius of 10km radius from the relay centre situated in Satsangnagar locality of the town. Godda MP Nishikant Dubey of the BJP formally inaugurated the relay centre at an event here, marking the beginning of a new era in this historic and religious town. Addressing the gathering, Dubey said that he had already approached the authorities concerned to set up studios of All India Radio as well as Doordarshan in Deoghar, known for its rich cultural and religious heritage. “With a studio here, AIR can produce programmes based on local languages, like… Read More

अंग देश केरॊ स्थानीय कलाकारॊ सीनी कॆ प्राथमिकता मिलतै ‘ऐलै हो मिलन के बेला’ मॆं

अंग विश्व सांई छाया बैनर तलॆ नवनिर्माणाधीन अंगिका फिल्म,’ ऐलै हो मिलन के बेला ‘ केरॊ निर्माण मॆं अंग देश केरॊ स्थानीय कलाकारॊ सीनी कॆ प्राथमिकता देलॊ जैतै. अंगिका फिल्म ‘ ऐलै हो मिलन के बेला ‘जुलाई-2014 तक रिलीज होय जैतै. इ कहना छै  फिल्म केरॊ निर्माता-निदेशक  राजीव रंजन दास के. अंगिका.कॉम सॆं बातचीत करतॆं हुऎ श्री राजीव रंजन दास नॆ कहलकै कि अंग देश क्षेत्र मॆं काफी प्रतिभावान कलाकार सीनी  छै, जेकरॊ प्रतिभा के सही उपयाग नै होय रहलॊ छै. ऐन्हॆ प्रतिभा सभ कॆ पहचान करी कॆ ओकरा अंगिका फिल्म उद्योग सॆं जोड़ै के जरूरत छै. सही प्रतिभा के खोज लेली हुनी अंग क्षेत्र के विभ्न्न भागॊ के व्यापक दौरा भी करलकै. ‘ ऐलै हो मिलन के बेला ‘ मॆं स्थानीय कलाकार, गौरव गर्ग, कौशल किशार मिश्रा, आरू नवनीता वर्मा, सानवी झा कॆ क्रमशः  मुख्य अभिनेता आरू अभिनेत्री के रोल मिलै के संभावना छै. हालाँकि मुख्य अभिनेत्री के नाम तय करना अभी शेष छै. श्री राजीव रंजन दास के अनुसार मेन हिरोइन के तलाश जल्दिये पूरा होय जैतै.… Read More

चार-चार अंगिका फिल्म निर्माण के राजीव रंजन दास केरॊ महत्वाकांक्षी योजना

चार-चार अंगिका फिल्म निर्माण के राजीव रंजन दास केरॊ महत्वाकांक्षी योजना

मुंबई :अंगिका भाषा सिनेमा केरॊ ऐगॊ नया युग  शुरू होय वाला छै जबॆ आबै वाला समय मॆं अंगिका भाषा मॆं एक सॆं बढ़ी कॆ एक उत्कृष्ट आरू मनोरंजक सिनेमा निर्मित होय कॆ सिनेमा घरॊ मॆं प्रदर्शित करलॊ जैतै.  केवल ‘अंग विश्व सांई छाया’ द्वारा ही चार-चार अंगिका फिल्म निर्माण के योजना छै. जेकरा मॆं प्रमुख छै – ‘ऐलै हो मिलन के बेला’, ‘जहियो नै हमरा सॆं दूर’, ‘रंगॊ मॆं तोरे रंगी गेलॊं हो’. एगॊ अन्य फिल्म केरॊ नाम अभी तय होना शेष छै. चारॊ फिल्म केरॊ निर्माता-निदेशक  राजीव रंजन दास केरॊ कहना छै कि नवनिर्माणाधीन अंगिका फिल्म,”ऐलै हो मिलन के बेला” जुलाई-2014 तक रिलीज होय जैतै. श्री  दास कॆ फिल्म निर्माण केरॊ क्षेत्र मॆं एक लम्बा अनुभव छै आरू फिल्म निर्माण केरॊ बारीकी के बड़ा बढ़िया समझ छै. श्री  प्रकाश झा के साथ मुख्य सहायक निर्देशक केरॊ रूप मॆं काम करी चुकलॊ  श्री राजीव रंजन दास कॆ 1993 ई. सॆं ही प्रकाश झा सथॆं काम करै के मौका मिलतॆं रहलॊ छै. हिनकॊ… Read More

नवनिर्माणाधीन अंगिका फिल्म,”ऐलै हो मिलन के बेला” जुलाई-2014 तक रिलीज होतै

मुंबई :अंगिका फिल्म निर्माता-निदेशक  राजीव रंजन दास केरॊ कहना छै कि नवनिर्माणाधीन अंगिका फिल्म,”ऐलै हो मिलन के बेला” जुलाई-2014 तक रिलीज होय जैतै. अंगिका फिल्म,”ऐलै हो मिलन के बेला” मॆं सात-सात मधुर आरू उत्कृष्ट गाना आरू गीत रहतै जेकरा मॆं अंग संस्कृति के विशिष्टता विशेष रूप सॆं परिलक्षित होतै. श्री राजीव रंजन दास के अनुसार फिल्म केरॊ ट्रैक आरू रिदम केरॊ  रेकार्डिंग 20 फरवरी सॆं मुंबई मॆं आरू गाना आरू दृश्य केरॊ शूटिंग अंग क्षेत्र केरॊ विभिन्न जगहॊ पर 6 मार्च सॆं प्रारंभ करलॊ जैतै. पूरा होला पर “ऐलै हो मिलन के बेला” कॆ  बिहार आरू झारखंड केरॊ 60-70 सिनेमा हॉल (UFO Centre) मॆं एक साथ प्रदर्शित करलॊ जैतै. ‘अंग विश्व सांई छाया’ द्वारा  चार-चार अंगिका फिल्म निर्माण के योजना छै. जेकरा मॆं प्रमुख छै – ‘ऐलै हो मिलन के बेला’, ‘जहियो नै हमरा सॆं दूर’, ‘रंगॊ मॆं तोरे रंगी गेलॊं हो’. एगॊ अन्य फिल्म केरॊ नाम अभी तय होना शेष छै. श्री प्रकाश झा के साथ मुख्य सहायक निर्देशक… Read More

डॉ. अमरेंद्र द्वारा लिखित अंगिका खंड काव्य ‘शबरी’ पर मंथन

देवघर : बरमसिया स्थित नंदन सदन में डॉ. अमरेंद्र द्वारा लिखित अंगिका खंड काव्य ‘शबरी’ पर मंथन किया गया। गोष्ठी में विभिन्न साहित्यकारों ने रामायण की पात्र शबरी के बहाने स्त्री पर विमर्श किया। विषय प्रवेश कराते हुए उदित अंगिका साहित्य परिषद के महामंत्री धीरेंद्र छतारवाला ने कहा कि डॉ. अमरेंद्र अंगिका साहित्य के ऐसे साहित्यकार हैं, जिन्होंने हिंदी, संस्कृत एवं लोक साहित्य में प्रचलित कहानियों को आधुनिक बनाने का कार्य किया। इसकी झलक रामायण के पात्र शबरी में देखी जा सकती है। डॉ. अमरेंद्र की साध्य प्रकाशित खंड काव्य है शबरी। इसमें कवि ने शबरी के जीवन से जुड़ी सारी कथाओं को समेटते हुए उनके व्यक्तित्व को उजागर किया है। स्त्री विमर्श के दृष्टिकोण से यह काबिलेतारीफ है। बलराम दसौंधी ने कहा कि यह काव्य अंगिका में प्रस्तुत किया गया है। इसकी जितनी तारीफ की जाए कम है। मोहनदास उमंग ने कहा कि शबरी एक कोल जाति है, जिसका संबंध साबरमती के तटीय जीवन से… Read More

अंग माधुरी : दिसंबर-2013 ( बर्ष-45, अंक-1)

अंग माधुरी : दिसंबर-2013 ( बर्ष-45, अंक-1)

अंग माधुरी : दिसंबर-2013  ( बर्ष-45, अंक-1) पढ़ने के लिये क्लिक करें  Angika.com Exclusive : Ang Madhuri : December-2013 संबंधित अंगिका समाचार पढ़ऽ / Read similar Angika News :क्या आज प्रधानमंत्री अंगिका को अष्टम अनुसूची में…अंगिका को अष्टम अनुसूची में शामिल करने की आनाकानी…Double centurion Rohit Sharma blasts India to series winPranab Mukherjee condoles death of renowned Hindi…अंगिका मासिक अंग माधुरी केरऽ प्रकाशिका श्रीमती…इंगलैंड के अंतर्राष्ट्रीय बहुभाषीय संगोष्ठी में…Deepavali decorations at shopping malls reflect…Short story writer Alice Munro wins the 2013 Nobel…अंगिका भाषा का साहित्यिक परिदृश्यअंगिका विकिपीडिया (प्रारम्भिक चरण) मॆं आपनॆ सॆं…

लिखे हुए नोटों को स्वीकार नहीं किए जाने के बारे में फैलाई गई अफवाह पर ध्यान न दें : भारतीय रिजर्व बैंक

भारतीय रिजर्व बैंक ने लोगों से कहा है कि वे एक जनवरी 2014 से लिखे हुए नोटों को स्वीकार नहीं किए जाने के बारे में फैलाई गई अफवाह पर ध्यान न दें। एक अधिसूचना जारी कर रिजर्व बैंक ने कहा है कि बाजार में उड़ रही अफवाह को देखते हुए लोगों से अपील की जाती है कि वे इसका हिस्सा न बनें और अपने नोट का इस्तेमाल बिना किसी डर के करें। केंद्रीय बैंक ने कहा कि नोट पर लिखावट के कारण उसे स्वीकार नहीं करने के बारे में उसके तरफ से कोई निर्देश जारी नहीं किया गया है। इससे पहले के स्पष्टीकरण में रिजर्व बैंक ने बैंकों के कर्मचारियों को नोट पर कुछ नहीं लिखने का निर्देश दिया था। इसमें कहा गया था कि ऐसा देखा गया है कि नोट पर बैंक कर्मचारी ही लिखते हैं, जो आरबीआई की क्लीन नोट पॉलिसी के खिलाफ है। आरबीआई ने समाज के सभी वर्गों से कहा है… Read More

सुखरात मॆं आतिशबाजी सॆं निजात

सुखरात मॆं आतिशबाजी सॆं निजात

हर साल जबॆ सुखरात (दिवाली) आबै वाला रहै छै आरू आबी कॆ चल्लॊ जाय छै, इ मुद्दा चरम चर्चा मॆ रहै छै कि आतिशबाजी आरू आतिशबाजी जनित प्रदूषण सॆं केना निजात पैलॊ जाय. तरह-तरह के तर्क-वितर्क, तरह-तरह के बयानबाजी, तरह-तरह के पाबंदी के दौर चलै छै. तमाम तरह के विनम्र आग्रह भी करलॊ जाय छै. शुरू मॆ एन्हॊ प्रतीत होय छै कि शायद अबरी दाफी आतिशबाजी नियंत्रण मॆं रहतै. एन्हॊ भी अनुमान लगै छै कि बढ़तॆं मँहगाई के चलतॆं एकरा पर कुछू लगाम लगतै. धीर मॊन अधीर होय जाय छै जबॆ सब चीज कॆ धता बतलैतॆं छोटी दिवाली के रात सॆं ही आतिशबाजी केरॊ अंतहीन सॆं नजर आबै वाला दौर शुरू होय जाय छै. करोङॊं रूपया आगिन मॆं झोंकी देलॊ जाय छै. भारतीय क्रिकेट टीमॊ द्वारा विभिन्न अन्तराष्ट्रीय, राष्ट्रीय, आय.पी. एल. मैच जीतला पर आतिशबाजी केरॊ प्रदर्शन तॆं होतै छै,  पर दिवाली मॆं आतिशबाजी आपनॊ चरम पर रहै छै. एकरा सॆं कि इ  बात  साफ होय  छै कि आतिशबाजी आरो आतिशबाजी जनित… Read More

error: Content is protected !!