Post Tagged with: "angika"

दिल्ली सरकार करतै अंगिका अकादमी केरऽ स्थापना

दिल्ली सरकार करतै अंगिका अकादमी केरऽ स्थापना

दिल्ली सरकार अंगिका अकादमी केरऽ स्थापना करतै ।दिल्ली म॑ प्रवास करी रहलऽ अंग क्षेत्र केरऽ लाखों अंगिका भाषी के भाषा अधिकार के सम्मान करतें हुअ॑ हुनकऽ भाषा के नाम अंगिका प॑ अकादमी के गठन करतै ।  उपरोक्त जानकारी मैथिली भोजपुरी अकादमी केरऽ उपाध्यक्ष नीरज पाठक न॑ सोमवार ३ दिसंबर-२०१८ क॑ मुलाकात लेली ऐलऽ अंगिका प्रतिनिधि सिनी क॑ देलकै । मुलाकात करै वाला म॑ साहित्यकार शिवनारायण, अखिल भारतीय अंगिका साहित्य कला मंच केरऽ प्रदेश महासचिव एस.के.प्रोग्रामर, अंग मदद फाउंडेशन केरऽ अध्यक्ष प्रसून लतांत, अंगिका जन-जागरण अभियान केरऽ संयोजक शशिधर मेहता, डॉ. पंकज प्रियम, अंजनी कुमार शर्मा आदि शामिल छेलै । अकादमी केरऽ स्वरूप कैसनऽ होतै एकरा प॑ चर्चा अगला साल अप्रैल म॑ होतै । अंगिका.कॉम केरऽ संस्थापक कुंदन अमिताभ न॑ सबक॑ बधाई देतें कहल॑ छै कि दिल्ली सरकार द्वारा अंगिका अकादमी केरऽ स्थापना के प्रयास म॑ लगलऽ अंग सपूतऽ सब के मेहनत अंगिका के नयऽ भविष्य गढ़तै एकरा म॑ कोय शक नै । संबंधित अंगिका समाचार पढ़ऽ… Read More

बिहार अंगिका अकादमी क॑ मिललै कार्यालय, भवन के नाम ‘अंग भवन’ रहतै, दीवार मंजूषा कला स॑ अलंकृत रहतै

बिहार अंगिका अकादमी क॑ मिललै कार्यालय, भवन के नाम ‘अंग भवन’ रहतै, दीवार मंजूषा कला स॑ अलंकृत रहतै

बिहार अंगिका अकादमी के कार्यालय भवन के नाम अंग भवन रहतै आरू ओकरऽ दीवार मंजूषा कला स॑ अलंकृत रहतै। स्थापना केरऽ तीन साल सें भी जादे वक्त बितला के बाद आखिरकार बिहार अंगिका अकादमी क॑ स्वतंत्र कार्यालय मिली गेलऽ छै । आपनऽ फेसबुक केरऽ माध्यम स॑ अंगिका अकादमी अध्यक्ष न॑ १ दिसंबर-२०१८ क॑ जानकारी देन॑ छै कि बिहार अंगिका अकादमी केरऽ कार्यालय वासतें सरकार स॑ पटना के महेन्द्रू इलाका म॑ एस.सी.आर.टी.परिसर म॑ एगो भव्य कमरा आवंटित होय गेलै, जेकरो पत्र अध्यक्ष क॑ ३० नवंबर,२०१८ क॑ मिली गेलै । अब॑ कार्यालय के जल्दी उद्घाटन वासतें व्यवस्था होय रहलऽ छै । ५ दिसंबर -२०१८ क॑ फेसबुक के माध्यम सें ही हुनी जानकारी देन॑ छै कि बिहार अंगिका अकादमी के कार्यालय भवन के नाम ‘अंग भवन’ रहतै आरू ओकरऽ दीवार मंजूषा कला स॑ अलंकृत रहतै।   बिहार अंगिका अकादमी क॑ कार्यालय मिलला प॑ बधाई आरू शुभकामना देतें हुअ॑ अंगिका.कॉम केरऽ संस्थापक कुंदन अमिताभ न॑ कहन॑ छै कि निश्चित… Read More

सुलतानगंज के उत्तरवाहिनी गंगा तट प॑ सांत्वना साह केरऽ पार्थिव शरीर पंच-तत्व म॑ विलीन

सुलतानगंज के उत्तरवाहिनी गंगा तट प॑ सांत्वना साह केरऽ पार्थिव शरीर पंच-तत्व म॑ विलीन

सुलतानगंज । ९ नवंबर, २०१८ । सुलतानगंज केरऽ उत्तरवाहिनी गंगा तट प॑ सांत्वना साह केरऽ पार्थिव शरीर पंच-तत्व म॑ विलीन भ॑ गेलै । सुलतानगंज केरऽ श्मसान घाट प॑ आकाशवाणी भागलपुर केरऽ नूर, अंगिका केरऽ मशहूर कोकिल कंठी “चंपा बहन” केरऽ दाहसंस्कार पूरा श्रद्धा आरू साहित्यिक सम्मान के साथ करी देलऽ गेलै । मुखाग्नि श्रीमती साह केरऽ बड़का बेटां सलिल कुमार न॑ देलकै । ई अवसर पर अखिल भारतीय साहित्य कला मंच आरू अजगैवीनाथ साहित्य मंच के वरीय पदाधिकारीयऽ म॑ हीरा प्रसाद हरेन्द्र, डॉ. ब्रह्मदेव नारायण सत्यम, सुधीर कुमार प्रोग्रामर, अंजनी कुमार शर्मा, साथी सुरेश सूर्य, मनीष कुमार गूंज, हरिनंदन चौरसिया, प्राण मोहन प्रीतम, साथी इंद्रदेव, डॉ. श्यामसुन्दर आर्य के अलावे दर्जनऽ साहित्यप्रेमी उपस्थित होय करी क॑ फूलमाला द॑ करी क॑ “अंग कोकिला सांत्वना साह अमर रह॑” के नारा स॑ अपनऽ श्रद्धांजलि अर्पित करलकै। ज्ञातव्य छै कि वरिष्ठ अंगिका साहित्यकार आरू आकाशवाणी कलाकार सांत्वना साह केरऽ निधन ८ नवंबर,२०१८ क॑ सबरगरे बंगलोर के अपोलो अस्पताल म॑ इलाज… Read More

सांत्वना साह

वरिष्ठ अंगिका साहित्यकार सांत्वना साह केरऽ निधन, अंग देश म॑ शोक के लहर

भागलपुर । वरिष्ठ अंगिका साहित्यकार आरू आकाशवाणी कलाकार सांत्वना साह नै रहलै । हुनकऽ फेसबुक पर हुनकऽ बेटा श्री सलील कुमार द्वारा प्रकाशित सूचना के आधार प॑ आय ८ नवंबर,२०१८ क॑ सबरगरे बंगलोर केरऽ एगो नामी अस्पताल म॑ हुनी अंतिम साँस लेलकै । हुनी जीबीएम-4 नामक बीमारी सें जूझी रहलऽ छेलै । बैंगलोर केरऽ एगो प्रीमियम अस्पताल में जीबीएम-4 केरऽ इलाज चली रहलऽ छेलै ।  हुनी अपना पीछू दू बेटा, एक बहू आरू दू पोता छोड़ी क॑ गेलै । कल भोरे 08:00 बजे पश्चात रेडियो कॉलोनी, आदमपुर, भागलपुर में हुनकऽ अन्तिम दर्शन करलऽ जाब॑ सकै छै आरू श्रद्धांजलि अर्पित करलऽ जाब॑ सकै छै । सांत्वना साह एगो मृदुभाषी व्यक्तित्व वाला साहित्यकार आरू कलाकार छेलै । हुनी आकाशवाणी के माध्यम स॑ अंगिका केरऽ महत्वपूर्ण सेवा करलकै जेकरा भुलाना बहुत मुश्किल छै । अंगिका.कॉम हुनका प्रति हार्दिक श्रद्धांजलि अर्पित करै छै । भगवान हुनकऽ आत्मा क॑ चिर शांति प्रदान कर॑ । हुनकऽ  निधन स॑ अंग देश म॑ शोक के लहर व्याप्त… Read More

सीताकांत महापात्रा समिति द्वारा अनुशंसित अंगिका, भोजपुरी, कोसली समेत ३७ भाषा क॑ अष्टम अनुसूची म॑ तुरंत शामिल कराबै लेली जंतर-मंतर प॑ धरलऽ गेलै धरना

सीताकांत महापात्रा समिति द्वारा अनुशंसित अंगिका, भोजपुरी, कोसली समेत ३७ भाषा क॑ अष्टम अनुसूची म॑ तुरंत शामिल कराबै लेली जंतर-मंतर प॑ धरलऽ गेलै धरना

नई दिल्ली । ५ नवंबर, २०१८  । आय विभिन्न भारतीय भाषा-भाषी समूह केरऽ कार्यकर्ता सब द्वारा जंतर-मंतर प॑  एक दिवसीय धरना धरी क॑ सीताकांत महापात्रा समिति द्वारा अनुशंसित ३७ भाषा क॑ अष्टम अनुसूची म॑ तुरंत शामिल करै के सरकार स॑ आग्रह करलऽ गेलै । देश केरऽ लोकतांत्रिक व्यवस्था म॑ विश्वास रखत॑ हुअ॑ एकात्मक व सामूहिक रूप सें सरकार स॑ माँग करलऽ गेलै  कि बर्ष २००४ म॑ सीताकांत महापात्रा समिति द्वारा अनुशंसित अंगिका, भोजपुरी, कोसली समेत ३७ भाषा क॑ भारतीय संविधान केरऽ अष्टम अनुसूची म॑ तुरंत शामिल करलऽ जाय । पिछला कुछ दशक के दौरान केंद्र सरकार न॑ स्वंय द्वारा गठित विभिन्न समिति सब के सिफारिश प॑ संविधान केरऽ आठमऽ अनुसूची म॑ विभिन्न भारतीय भाषा क॑ शामिल करल॑ छै । हालाँकि, जैन्हऽ कि सरकार के ही कहना छै कि ऐसनऽ करै म॑ कोय भी निश्चित मानक मापदंड केरऽ पालन नै करलऽ गेलऽ छै । भारतबर्ष केरऽ भाषाई विविधता केरऽ जटिलता क॑ समझी करी क॑  भाषा सब क॑… Read More

अपनऽ जिला के  भाषा म॑ पास करला प॑ ही होतै तृतीय आरू चतुर्थ श्रेणी पदऽ प॑ नौकरी – झारखंड नियोजन नीति

अपनऽ जिला के भाषा म॑ पास करला प॑ ही होतै तृतीय आरू चतुर्थ श्रेणी पदऽ प॑ नौकरी – झारखंड नियोजन नीति

रांची । झारखंड नियोजन नीति के अनुसार झारखंड म॑ हर जिला के अपनऽ भाषा होतै जेकरा म॑ पास करला प॑ ही तृतीय आरू चतुर्थ श्रेणी पदऽ प॑ नौकरी हुअ॑ सकतै । झारखंड राज्य म॑ नियोजन नीति क॑ अंतिम रूप द॑ देलऽ गेलऽ छै । जों ई नीति राज्य म॑ लागू होय छै त॑ हर जिला लेली एगो अलग भाषा अथवा एक स॑ अधिक भाषा अधिसूचित होतै जे जिला केरऽ अपनऽ भाषा होतै । झारखंड सरकार तरफऽ स॑ बनैलऽ गेलऽ नियोजन नीति सें स्थानीय लोगऽ क॑ लाभ पहुंचाबै के कोशिश करलऽ गेलऽ छै । हालांकि अभी एकरा १७ अप्रैल क॑ सरकार लगां अनुशंसा लेली भेजलऽ जैतै । ओकरऽ बाद ही एकरा अंतिम रूप देलऽ जाब॑ सकै छै । जों ई नीति राज्य म॑ लागू होय छै त॑ हर जिला लेली एगो अलग भाषा अथवा एक स॑ अधिक भाषा अधिसूचित होतै जे जिला केरऽ अपनऽ भाषा होतै । युवा सिनी क॑ तृतीय आरू चतुर्थ श्रेणी म॑ नियोजन… Read More

देवघर आरू अंग प्रदेश के जनता क॑ नया तोहफ़ा – देवघर स॑ अगरतला लेली चलतै सुपरफास्ट ट्रेन

देवघर आरू अंग प्रदेश के जनता क॑ नया तोहफ़ा – देवघर स॑ अगरतला लेली चलतै सुपरफास्ट ट्रेन

देवघर । केंद्र सरकार तरफऽ स॑ देवघर आरू अंग प्रदेश के जनता क॑ एगो नया तोहफ़ा मिललऽ छै । जल्दिये देवघर आरू अगरतला रेलवे स्टेशनऽ के बीच सुपरफास्ट ट्रेन चलैलऽ जैतै । गोड्डा केरऽ माननीय सांसद श्री निशिकांत दूबे केरऽ अनुसार हुनकऽ पहल प॑ रेलवे बोर्ड द्वारा एकरऽ स्वीकृति मिली गेलऽ छै । देवघर स॑ अगरतला लेली वीकली सुपरफास्ट ट्रेन अप्रैल के अंतिम सप्ताह या मई माह म॑ चालू होय जैतै । झारखंड केरऽ देवघर स॑ चली क॑ ई ट्रेन त्रिपुरा केरऽ राजधानी अगरतल्ला तलक केरऽ अपनऽ सफर मार्ग म॑ किउल, जमालपुर, भागलपुर,साहिबगंज, फरक्का, न्यू जलपाइगुड़ी, कूच बिहार, गोहाटी,लामदिंग, सिलचर रेलवे स्टेशन होतें हुअ॑ गुजरतै । श्री निशिकांत दूबे न॑ प्रधानमंत्री, मुख्यमंत्री व रेल मंत्री के प्रति आभार प्रकट करल॑ छै । हुनकऽ अनुसार ई ट्रेन के चालू होला स॑ पारस्परिक पर्यटन आरू व्यापार केरऽ क्षेत्र में प्रगति के संभावना छै । संबंधित अंगिका समाचार पढ़ऽ / Read similar Angika News :सरकारी उपेक्षा केरऽ शिकार… Read More

श्रेयसी सिंह

अंग देश केरऽ बेटी श्रेयसी सिंह न॑ राष्ट्रमंडल खेल म॑ जितलकै गोल्‍ड मेडल, सौसे देश सहित अंग क्षेत्र आरू बिहार म॑ खुशी के लहर

मुंबई । ऑस्‍ट्रेलिया केरऽ गोल्‍डकोस्‍ट म॑ चली रहलऽ २१वाँ राष्‍ट्रमंडल खेल म॑ अंग देश केरऽ बेटी श्रेयसी सिंह न॑ गोल्‍ड मेडल जितल॑ छै । हुनी ई मेडल डबल ट्रैप शूटिंग म॑ प्राप्‍त करलकै । श्रेयसी सिंह अंगदेश केरऽ जमुई क्षेत्र केरऽ छेकै । श्रेयसी सिंह न॑ ई गोल्ड जीती क॑ एगो नया इतिहास रचल॑ छै । हुनी पहलऽ ऐसनऽ महिला शूटर छेकै जे डबल ट्रैप इवेंट म॑ भारत लेली गोल्ड मेडल जितल॑ छै । हुनका द्वारा हासिल ई स्वर्ण पदक स॑ एक दन्न॑ जहाँ भारत केरऽ कुल स्वर्ण पदक केरऽ संख्या बढ़ी क॑ १२ होय गेलऽ छै, वहीं १२ गोल्ड, ४ सिल्वर आरू ७ ब्रॉन्ज मेडल मिलाय क॑ कुल प्राप्त पदक केरऽ संख्या बढ़ी क॑ २३ भ॑ गेलऽ छै । पदक तालिका म॑ भारत तीसरा नंबर पर डटलऽ छै । श्रेयसी न॑ शूट-ऑफ म॑ ऑस्ट्रेलिया केरऽ एम्मा कॉक्स क॑ एक अंक स॑ हरैतैं हुअ॑ स्वर्ण पदक पर कब्जा जमैलकै । श्रेयसी सिंह केरऽ ई उपलब्‍धि स॑ सौसे… Read More

अंगिका भाषा क॑ संवैधानिक मान्यता दिलाबै लेली “अंगिका भाषा मान्यता आंदोलन” अंतर्गत  तेज  करलऽ जैतै  “अंगिका जनजागरण अभियान” गतिविधि

अंगिका भाषा क॑ संवैधानिक मान्यता दिलाबै लेली “अंगिका भाषा मान्यता आंदोलन” अंतर्गत तेज करलऽ जैतै “अंगिका जनजागरण अभियान” गतिविधि

नई दिल्ली । अंगिका भाषा क॑ संवैधानिक मान्यता दिलाबै लेली दिल्ली स्थित “अखिल भारतीय अंगिका पत्रकार एवं लेखक संघ” द्वारा चलैलऽ जाय रहलऽ “अंगिका जनजागरण अभियान” केरऽ गतिविधि क॑ तेज करलऽ जैतै। संघ ई अभियान “अंगिका भाषा मान्यता आंदोलन” (Angika Language Recognition Movement – ALRM) के तहत चलैतै । अंगिका.कॉम स॑ मंगलवार क॑ बातचीत करतें अखिल भारतीय अंगिका पत्रकार एवं लेखक संघ केरऽ राष्ट्रीय संयोजक, डॉ. शशिधर मेहता न॑ बतैलकै कि संघ करोड़ों लोगऽ के मातृभाषा, अंगिका क॑ भारतीय संविधान केरऽ अष्टम अनुसूची म॑ शामिल कराबै के संवैधानिक मान्यता दिलाबै हेतु प्रतिबद्ध छै जेकरा लेली दिल्ली सहित पूरे देश म॑ गहन “अंगिका जनजागरण अभियान” केरऽ गतिविधि क॑ तेज करलऽ जैतै । अंगिका जागरण अभियान के तहत गाँव-गाँव जाय क॑ लोगऽ स॑ बातचीत के माध्यम स॑ अंगिका के बारे जागरूकता फैलैलऽ जैतै । ग्राम व नुक्कड़ सभा, हस्ताक्षर अभियान, चर्चा आदि केरऽ माध्यम स॑ लोगऽ क॑ ई अभियान स॑ जोड़लऽ जैतै । अखिल भारतीय अंगिका पत्रकार… Read More

अंगिका क॑  राजभाषा के दर्जा दै लेली झारखंड सरकार के प्रति प्रकट करलऽ गेलै आभार आरू बिहार सरकार सें करलऽ गेलै अंगिका क॑  राजभाषा के दर्जा दै के माँग

अंगिका क॑ राजभाषा के दर्जा दै लेली झारखंड सरकार के प्रति प्रकट करलऽ गेलै आभार आरू बिहार सरकार सें करलऽ गेलै अंगिका क॑ राजभाषा के दर्जा दै के माँग

भागलपुर । झारखंड सरकार द्वारा अंगिका भाषा क॑ द्वितीय राजभाषा के रूप म॑ स्वीकार करला प॑ काल अंग उत्थान आन्दोलन समिति,बिहार-झारखंड द्वारा स्थानीय स्टेशन चौक प॑ हर्ष अभिनंदन सह आभार समारोह म॑ समिति अध्यक्ष गौतम सुमन न॑ कहलकै कि झारखंड स्थित छः जिला के लोकभाषा अंगिका क॑ द्वितीय राजभाषा के दर्जा दै वाला अध्यादेश क॑ मंजूरी द॑ क॑ झारखंड सरकारें लोकभाषा के प्रति अपनऽ उदारता व सजगता दिखाबै के सराहनीय कार्य करल॑ छै । हुनकऽ ई कार्य सें अंग क्षेत्र म॑ खुशी के लहर छै । हुनी कहलकै कि झारखंड सरकार केरऽ ई सराहनीय कार्य के प्रशंसा लेली कोय भी शब्द कम पड़ी जाय छै । श्री सुमन न॑ कहलकै कि झारखंड सरकार द्वारा लोकभाषा अंगिका के प्रति ई तरह के संवेदनशीलता व सजगता सें बिहार सरकार क॑ भी सीख लेना चाहियऽ,कैन्ह॑ कि बिहार स्थित पन्द्रह जिला म॑ लगभग चार करोड़ लोगऽ द्वारा नै केवल अंगिका बोललऽ जाय छै भलुक अपनऽ साँसऽ म॑ ई अंगिका… Read More

error: Content is protected !!