Post Tagged with: "अंग"

ई-रिक्शा केरौ सुविधा अबै बिहार केरौ सब्भे पर्यटन स्थल प

ई-रिक्शा केरौ सुविधा अबै बिहार केरौ सब्भे पर्यटन स्थल प

पटना ।बिहार केरौ पर्यटन-स्थल सब क पर्यावरण के अनुकूल बनाबै के प्रयास करलौ जाय रहलौ छै । जेकरा सँ देश-विदेश सँ आबै वाला पर्यटकौ सब क स्वच्छ वातावरण मँ बिहार केरौ पर्यटक स्थलौ सब क घूमी क देखै के मौका मिलै सकै ।  ई-रिक्शा केरौ सुविधा अबै बिहार केरौ सब्भे पर्यटन स्थल प उपलब्ध करैलौ जैतै । अगला दू महीना मँ ई काम क सुनिश्चित करै के प्रयास भ रहलौ छै । एकरौ शुरूआत राजगीर केरौ घोड़ाकटोरा सँ होतै । जहाँ टमटम चलाबै वाला सब क ई-रिक्शा देलौ जैतै । संबंधित अंगिका समाचार पढ़ऽ / Read similar Angika News :पर्यटन केरऽ स्प्रिच्युल सर्किट म॑ शामिल करी क॑ मंदार…अंगिका कविता कोश न॑ आयोजित करलकै पर्यावरण जागरूकता…अंगिका को अष्टम अनुसूची में शामिल करने की आनाकानी…जाह्न्वी अंगिका संस्कृति संस्थान न॑ बिहार अंगिका…सरकार केरऽ अनुमति के बगैर ही चली रहलऽ छै तिलकामाँझी…सुखरात मॆं आतिशबाजी सॆं निजातअंगिका, कोसली सहित सब्भे ३८ अनुसूचित भाषा केरौ…महिंद्रा एंड महिंद्रा न॑ शुक्रवार क॑ पल्यूशन… Read More

अंग सांस्कृतिक भवन भागलपुर क मॉडल ऑडिटोरियम आरू आर्ट गैलरी मँ विकसित करै के मिललै मंजूरी

अंग सांस्कृतिक भवन भागलपुर क मॉडल ऑडिटोरियम आरू आर्ट गैलरी मँ विकसित करै के मिललै मंजूरी

भागलपुर । अंग सांस्कृतिक भवन भागलपुर क मॉडल ऑडिटोरियम आरू आर्ट गैलरी के रूप मँ विकसित करै के मंजूरी मिली गेलौ छै । एकरा प दू करोड़ पनरे लाख रूपया केरौ खर्च ऐतै । बिहार राज्य भवन निर्माण निगम नँ एकरौ खाका तैयार करनै छै । अंग सांस्कृतिक भवन भागलपुर क मॉडल ऑडिटोरियम आरू आर्ट गैलरी मँ विकसित करै मँ महज एक साल के समय लगतै । जग्घौ मिलला प दोसरो ऑडिटेरियम के निर्माण भी करैलौ जैतै । संबंधित अंगिका समाचार पढ़ऽ / Read similar Angika News :अंगिका भाषी सांसद अश्विनी कुमार चौबे केंद्रीय राज्य…संस्कृत, पाली, प्राकृत, हिंदी आरू अंगिका केरऽ…अंगिका महोत्सव-२०१६, २० फरवरी क॑ करहरिया हाय इसकूल…जाह्न्वी अंगिका संस्कृति संस्थान न॑ बिहार अंगिका…सरकारी उपेक्षा केरऽ शिकार बिहार अंगिका अकादमी केरऽ…बिहार केरऽ प्राइमरी इसकूली मं॑ माध्यम भासा के रूप…नेपाल केरौ त्रिदिवसीय अन्तर्राष्ट्रीय साहित्यिक…अंगिका भाषा आंदोलन केरऽ पुरोधा आरू अंगिका साहित्य…स्थापना केरऽ साल भर बाद भी कागज प॑ ही चली रहलऽ छै…अंगिका, कोसली सहित सब्भे ३८ अनुसूचित… Read More

अंग-अंगिका के विकास म॑ लगलऽ संस्था सिनी मिली-जुली क॑ करतै अंगिका महोत्सव के नियमित आयोजन

अंग-अंगिका के विकास म॑ लगलऽ संस्था सिनी मिली-जुली क॑ करतै अंगिका महोत्सव के नियमित आयोजन

सुलतानगंज । अंग-अंगिका के विकास म॑ लगलऽ संस्था सिनी मिली-जुली क॑ अंगिका महोत्सव के नियमित रूप स॑ आयोजन करै प॑ विचार करी रहलऽ छै । एगो प्रेस-विज्ञप्ति जारी करी क॑ जानकारी देलऽ गेलऽ छै कि सब संस्था द्वारा मिली-जुली क॑ अंगिका महोत्सव क॑ नियमित रूप स॑ आयोजन करै प॑ विचार करै लेली आगामी २३ दिसंबर क॑ भागलपुर म॑ एगो बैठक केरऽ आयोजन करलऽ गेलऽ छै । बर्षो पहल॑ सरकारी स्तर पर अंग-महोत्सव केरऽ आयोजन होय छेलै । जेकरा स॑ अंगिका साहित्यकार, पत्रकार, कवि सिनी म॑ नयऽ ऊर्जा के संचार होय छेलै । लोग सब अंगिका के विकास लेली अधिक से अधिक सोच॑ पारै छेलै । साहित्यकारऽ सिनी के सहयोग सें ही साल २००७ ई. म॑ सैंडिस कंपाउंड म॑ शायद आखरी बार अंग-महोत्सव आयोजित होलऽ छेलै । एकरऽ बाद बहुत्ते दफा खाली प्रबुद्ध जनऽ सिनी न॑ अंगिका-महोत्सव आयोजित करै या कराबै के बात कही क॑ ताली बटोरलकै, लेकिन अखनी तलक ई संभव नै हुअ॑ पारलऽ छै… Read More

error: Content is protected !!