Post Tagged with: "अंग देश"

सुलतानगंज केरऽ काया कल्प मात्र १७ करोड़ मं॑ !

सुलतानगंज केरऽ काया कल्प मात्र १७ करोड़ मं॑ !

भागलपुर १२-६-२०१६ : सुलतानगंज क॑ विशिष्ट पर्यटन स्थल वाला स्थान के रूप म॑ विकसित करलऽ जैतै . केंद्र सरकार न॑ सुलतानगंज के सूरत बदलै के कार्ययोजना पर मंजूरी द॑ देल॑ छै । करीब 17 करोड़ रुपया के कार्ययोजना स॑ श्रद्धालुओ सिनी क॑ स्थायी सुविधा मिल॑ लगतै । ई योजना म॑ कृत्रिम जल धारा,बहुमंजिला धर्मशाला, सीढ़ी घाट, अजगैवी मंदिर स॑ बाइपास[Read More…] संबंधित अंगिका समाचार पढ़ऽ / Read similar Angika News :अंगिका महोत्सव-२०१६, २० फरवरी क॑ करहरिया हाय इसकूल…सरकारी उपेक्षा केरऽ शिकार बिहार अंगिका अकादमी केरऽ…बिहार केरऽ प्राइमरी इसकूली मं॑ माध्यम भासा के रूप…अंगिका भाषा क॑ संविधान के आठमऽ अनुसूची म॑ शामिल…जाह्न्वी अंगिका संस्कृति संस्थान न॑ बिहार अंगिका…स्वतंत्रता दिवस – २०१६ ई.,२०१५ ई.,२०१४ ई. केरऽ अवसर…फऽल एक फैदा अनेक : इमलीअंगिका भाषा आंदोलन केरऽ पुरोधा आरू अंगिका साहित्य…अंगिका भाषी सांसद अश्विनी कुमार चौबे केंद्रीय राज्य…स्थापना केरऽ साल भर बाद भी कागज प॑ ही चली रहलऽ छै…

अंगिका अकादमी क॑ कार्यालय व कर्मचारी आवंटित नै होला प॑ व्याप्त जन आक्रोस के बीच अफवाह उड़ाबैवाला स॑ सावधान रहै के अध्यक्ष केरऽ अपील

अंगिका अकादमी क॑ कार्यालय व कर्मचारी आवंटित नै होला प॑ व्याप्त जन आक्रोस के बीच अफवाह उड़ाबैवाला स॑ सावधान रहै के अध्यक्ष केरऽ अपील

भागलपुर : लगभग एक बरस बितला के बाद भी सरकार द्वारा अंगिका अकादमी क॑ कार्यालय भवन व कर्मचारी आवंटित नै करलऽ गेला प॑ अंगिका भासा – भासी के बीच आक्रोस व्याप्त होय गेलऽ छै । आरू अफवाह केरऽ बजार गरम होय गेलऽ छै । बिहार अंगिका अकादमी केरऽ अध्यक्ष प्रो.(डॉ.) लखन लाल सिंह आरोही न॑ अंग क्षेत्र केरऽ लोगऽ स॑ अफवाह Read More… संबंधित अंगिका समाचार पढ़ऽ / Read similar Angika News :लुप्त होय रहलऽ कैथी लिपि केरऽ प्रशिक्षण कार्यक्रम ११…सरकार केरऽ अनुमति के बगैर ही चली रहलऽ छै तिलकामाँझी…कहाँ छै लापता मलेशियाई विमान MH370 ?अंगिका भाषा का साहित्यिक परिदृश्यबिहार केरऽ प्राइमरी इसकूली मं॑ माध्यम भासा के रूप…स्थापना केरऽ साल भर बाद भी कागज प॑ ही चली रहलऽ छै…लिखे हुए नोटों को स्वीकार नहीं किए जाने के बारे में…बिहार अंगिका अकादमी केरऽ उद्देश्य क॑ धरातल प॑ उतारै…सरकारी उपेक्षा केरऽ शिकार बिहार अंगिका अकादमी केरऽ…जाह्न्वी अंगिका संस्कृति संस्थान न॑ बिहार अंगिका…

बिहार केरऽ प्राइमरी इसकूली मं॑ माध्यम भासा के रूप मं॑ अंगिका क॑ सामिल करलऽ जैतै : डॉ.(प्रो.) लखन लाल सिंह ‘आरोही’

बिहार केरऽ प्राइमरी इसकूली मं॑ माध्यम भासा के रूप मं॑ अंगिका क॑ सामिल करलऽ जैतै : डॉ.(प्रो.) लखन लाल सिंह ‘आरोही’

भागलपुर : अंगिका केरऽ लोकप्रिय साहित्यकार दिवंगत डॉ. नरेश पाण्डेय चकोर केरऽ स्मृति मं॑ बाथू थाना केरऽ करहरिया गाँव स्थित देवी प्रसाद महतो उच्च विद्यालय मं॑ २० फरवरी – २०१६ ई. क॑ आयोजित एकदिवसीय अंगिका महोत्सव – २०१६ संपन्न होय गेलै । जाह्न्वी अंगिका संस्कृति संस्थान, पटना आरो अंगिका.कॉम, मुंबई केरऽ संयुक्त तत्वाधान मं॑ आयोजित ई कार्यक्रम मं॑ लोगऽ के भारी संख्या मं॑ उपस्थिति के बीच लगभग २४ अंगिका साहित्यकारऽ न॑ महोत्सव क॑ संबोधित करलकै आरो अंगिका कविता के पाठ करलकै । महोत्सव मं॑  अंगिका भाषा केरऽ मासिक पत्रिका, ‘अंग माधुरी’ केरऽ ४७वाँ बरस के प्रवेसांक केरऽ लोकारपन भी होलै । आपनऽ अध्यक्षीय उदगार मं॑ डॉ.(प्रो.) लखन लाल सिंह ‘आरोही’, माननीय अध्यक्ष – बिहार अंगिका अकादमी न॑ कहलकै कि अंगिका भासा बोलतं॑ रहै लेली आपनऽ भासा के प्रति हीन भावना सं॑ निजात पाबै के जरूरत छै । हुनी कहलकै कि अंगिका मं॑ उत्कृस्ट लेखन सं॑ लिखै वाला क॑ नोबेल पुरस्कार मिल॑ सकै छै । हुनी कहलकै… Read More

अंगिका महोत्सव-२०१६, २० फरवरी क॑ करहरिया हाय इसकूल मं॑ आयोजित होतै

करहरिया, भागलपुर : कल २० फरवरी क॑ अंगिका महोत्सव – २०१६ समारोह के आयोजन करलऽ जैतै। अबरी दाफी अंगिका महोत्सव भागलपुर जिलान्तर्गत करहरिया गामऽ के हाय स्कूल, देवी प्रसाद महतो उच्च विद्यालय करहरिया केरऽ प्रांगन मं॑ आयोजित करलऽ जैतै । एगो सादा समारोह के रूप मं॑ अंगिका महोत्सव – २०१६, २० फरवरी २०१६ क॑ ११ बजे सं॑ २ बजे तक आयोजित होतै । जाहन्वी अंगिका संस्कृति संस्थान, पटना आरो अंगिका.कॉम, नवी मुंबई केरऽ संयुक्त तत्वाधान मं॑ आयोजित होय रहलऽ ई समारोह मं॑ बिहार अंगिका अकादमी केरऽ माननीय अध्यक्ष सहित कईएक गनमान्य अंगिका साहित्यकारऽ सिनी के भाग लै के संभावना छै । समारोह मं॑ ४६ सालऽ सं॑ प्रकासित होय रहलऽ अंगिका भासा केरऽ मासिक पत्रिका ‘अंग माधुरी’ केरऽ ४७ वाँ बरस के प्रवेसांक के विमोचन भी करलऽ जैतै । सथं॑ अंगिका भासा के साहित्यकारऽ सिनी के उदबोधन आरो अँगिका कविता पाठ भी करलऽ जैतै । ज्ञातव्य छै कि पिछला लगभग ४५ सालऽ सं॑ अंगिका पुरोधा, दिवंगत डॉ. नरेश… Read More

अंगिका भाषा आंदोलन केरऽ पुरोधा आरू अंगिका साहित्य केरऽ महानतम हस्ताक्षर डॉ. नरेश पांडेय चकोर पंचतत्व म॑ विलीन

अंगिका भाषा आंदोलन केरऽ पुरोधा आरू अंगिका साहित्य केरऽ महानतम हस्ताक्षर डॉ. नरेश पांडेय चकोर पंचतत्व म॑ विलीन

पटना, 15 नवंबर. अंगिका आरू हिंदी केरऽ वरिष्ठ साहित्यकार, आरू अंगिका भाषा केरऽ 46 साल स॑ निरंतर प्रकाशित होय रहलऽ मासिक पत्रिका केरऽ संपादक डॉ. नरेश पांडेय चकोर केरऽ पार्थिव-शरीर रविवार क॑ पंचतत्व म॑ विलीन होय गेलै.  हुनकऽ अंतिम संस्कार पटना केरऽ गुलबी घाट पर करलऽ गेलै. हुनकऽ ज्येष्ठ पुत्र शशि शेखर न॑ मुखाग्नि देलकै. इ अवसर पर बड़ी भारी संख्या म॑ साहित्यकार आरू डॉ. चकोर केरऽ शोकाकुल परिजन उपस्थित रहै. एकरऽ पूर्व दोपहर एक बजे कदमकुआं स्थित साहित्य सम्मेलन म॑ हुनकऽ पार्थिव शरीर क॑ अंतिम दर्शन लेली लानलऽ गेलै. अंगिका पुरोधा डॉ. नरेश पाण्डेय चकोर यहाँ सम्मेलन अध्यक्ष डा. अनिल सुलभ, प्रधानमंत्री आचार्य श्रीरंजन सूरिदेव, वरिष्ठ साहित्यकार डा. शिववंश पांडेय, बलभद्र कल्याण, उपाध्यक्ष नृपेंद्रनाथ गुप्त, पं शिवदत्त मिश्र, डा. मेहता नगेंद्र सिंह, कवि योगेंद्र प्रसाद मिश्र, डा. कल्याणी कुसुम सिंह, अधिवक्ता पंडितजी पांडेय, आचार्य आनंद किशोर शास्त्री, डॉ. वासुकीनाथ झा, बच्चा ठाकुर, घमंडी राम, आरएन मिश्र, शंकर शरण मधुकर, जगदीश राय, डा. नागेशवर यादव,… Read More

क्या आज प्रधानमंत्री अंगिका को अष्टम अनुसूची में शामिल करने की घोषणा करेंगें?

क्या आज प्रधानमंत्री अंगिका को अष्टम अनुसूची में शामिल करने की घोषणा करेंगें? —  कुंदन अमिताभ — यह एक अनबूझ पहेली सी ही है कि बिहार, झारखंड, पं. बंगाल के लगभग छह करोड़ भारतीयों द्वारा बोली जाने वाली भाषा अंगिका को अब तक भारतीय संविधान की अष्टम अनुसूची में शामिल नहीं किया गया है. जबकि वास्तविकता यह है कि विश्व के प्राचीनतम भाषाओं में से एक अंगिका भारत के अलावा नेपाल, कंबोडिया, वियतनाम, लाओस आदि देशों में बोली जाने वाली एक अंतर्राष्ट्रीय भाषा है. यह एक अत्यंत गंभीर और विचारणीय विषय है कि आजादी के इतने बरसों के बाद भी एक विशाल जनसमुदाय की भाषा अंगिका अपने वाजिब हक से वंचित क्यों है. पर्याप्त पात्रता और ठोस आधार होने के बावजूद अंगिका को अष्टम अनुसूची में शामिल करने में भारत सरकार द्वारा किया जा रहा अप्रत्याशित विलंब समझ से परे है. क्या आज भागलपुर में आयोजित होने वाली परिवर्तन रैली में माननीय प्रधानमंत्री श्री नरेंद्र… Read More

बिहार कैबिनेटं॑ देलकै बिहार अंगिका अकादमी मं॑ पदऽ के सृजन लेली स्वीकृति

पटना : गत 23 जून क॑ बिहार कैबिनेट द्वारा अंगिका अकादमी केरऽ गठन के घोषणा के उपरांत गत 30 जून क॑ अंगिका अकादमी केरऽ गठन के बाद बिहार कैबिनेट केरऽ कल बुधवार 8 जुलाई केरऽ होलऽ मीटिंग मं॑ बिहार अंगिका अकादमी लेली पदऽ के सृजन पर मुहर लगी गेलै . मुख्यमंत्री श्री नीतिश कुमार केरऽ अध्यक्षता मं॑ पटना मं॑ आयोजित बिहार मंत्रीपरिषद केरऽ बुधवार केरऽ होलऽ बैठक मं॑ कुल 57 एजेंडा पास होलै, जेकरा म॑ एजेंडा नं. 33 के तहत बिहार अंगिका अकादमी लेली पदऽ के सृजन लेली स्वीकृति देलऽ गेलै. एकरऽ पहले गत 23 जून क॑ बिहार केरऽ कैबिनेट द्वारा अंगिका अकादमी केरऽ गठन क॑ मंजूरी देला के पश्चात राज्य योजनान्तर्गत संकल्प संख्या – 15 / एम -4 – 01 /2015 -1251 द्वारा गत 30 जून क॑ अंगिका अकादमी केरऽ विधिवत गठन करलऽ गेलै . कैबिनेट केरऽ बैठक मं॑ अंगिका अकादमी लेली तत्काल पाँच लाख रूपया टोकन स्वरूप सहायता अनुदान मंजूर भी करलऽ गेलऽ… Read More

बिहार सरकार करलकै अंगिका अकादमी केरॊ गठन – अंगिका भाषा कॆ संविधान केरॊ अष्टम सूची मॆं शामिल करै के दिशा मॆं महत्वपूर्ण कदम

पटना : बिहार मॆं अंगिका अकादमी केरॊ गठन करलॊ गेलॊ छै. कल मंगलवार कॆ बिहार केरॊ कैबिनेट नॆ अंगिका अकादमी केरॊ गठन कॆ मंजूरी देलकै. कैबिनेट केरॊ बैठक मॆं अंगिका अकादमी लेली तत्काल पाँच लाख रूपया टोकन स्वरूप सहायता अनुदान मंजूर करलॊ गेलॊ छै. बिहार राज्य केरॊ पंद्रह जिला केरॊ लगभग चार करोड़ अंगिका भाषी सहित अंगिका भाषाविद केरॊ बरसॊॆ पुराना माँग अबॆ जाय कॆ पूरा होलॊ छै. बिहार , झारखंड आरू पश्चिम बंगाल मॆं सब मिलाय कॆ पाँच करोड़ सॆं भी जादा लोगॊ द्वारा अंगिका बोललॊ जाय छै. अंगिका अकादमी केरॊ गठन अंगिका भाषा कॆ संविधान केरॊ अष्टम सूची मॆं शामिल करै के दिशा मॆं एगॊ महत्वपूर्ण कदम मानलॊ जाय रहलॊ छै. इ साल केरॊ अप्रैल माह मॆं मुख्यमंत्री नीतिश कुमार जबॆ अगवानी पुल केरॊ कार्यारंभ करै लॆ भागलपुर केरॊ सुलतानगंज गेलॊ रहै तॆ हुनी अंगिका अकादमी केरॊ गठन के बात करनॆ रहै. गत मई मॆं बिहार केरॊ मुख्यमंत्री नीतिश कुमार कॆ अंग उत्थानान्दोलन… Read More

Talk Manjhi – The First Freedom Fighter of India

Tilka Manjhi Baba Tilka Manjhi (or Jabra paharia was the first Adivasi leader who took up arms against the British in the 1784, around 100 years before Mangal Pandey. He organized the Adivasis to form an armed group to fight against the resource grabbing and exploitation of British. History The year 1784 is considered as the first armed rebellion against the British and was the beginning of Paharia. It was due to great famine in 1770 and the consequences of Court of Directors orders influenced by William Pitt the Younger — Court of Director issued ten year of the settlement of Zamindari and later in 1800 – this resulted in minim chance to negotiate between local Zamdindars and Santhal villagers. Baba Tilka Majhi attacked Augustus Cleveland, British commissioner [lieutenant], and Rajmahal with a Gulel (a weapon similar to slingshot) who died later. The British surrounded the Tilapore forest from which he operated but he and… Read More

error: Content is protected !!