बेंगलुरू : सड़क निरमान केरऽ मौजूदा टेक्नोलॉजी मं॑ बदलाव लानी क॑ छारऽ आरू नैनो कोटिंग स॑ नया तरह के सड़क निरमान टेक्नोलॉजी विकसित करै मं॑ एगो भारतीय सिविल इंजीनियर क॑ सफलता मिललऽ छै । जेकरा सं॑ खुद ब खुद रिपेयर होयवाला सड़क के निरमान करलऽ जाब॑ सकै छै । ई नया टेक्नोलॉजी स॑ भारत केरऽ धरती प॑ नया तरह के रोड निरमान शुरू भी होय चुकलऽ छै ।

प्राचीन समय स॑ ल॑ करी क॑ आधुनिक जमाना तक मं॑ सड़क निर्माण जों प्रगति केरऽ पैमाना छेकै त॑ बदहाल सड़क के स्थिति ई तथ्य के भी प्रमाण छेकै कि मजबूत सड़क निर्माण लेली मौजूदा टेक्नोलॉजी मं॑ काफी सुधार केरऽ आवश्यकता छै । जहाँ तलक आपनऽ भारत के सवाल छै त॑ यहाँ सड़क के बदहाल स्थिति लेली अभी तलक सिविल इंजीनियर आरू सड़क निरमान मं॑ लगलऽ ठेकेदार व निरमान कंपनी क॑ दोषी ठहरैलऽ जैतं॑ रहलऽ छै ।

सच्चाई ई भी छै कि भारत एगो ऐन्हऽ देश छै जहाँकरऽ विभिन्न भागऽ मं॑ एक साथ कईएक तरह के मौसम व वातावरण मौजूद रहै छै । लेकिन रोड बनाबै के तकनीक कमोबेश एक ही रहै छै । रोड निर्माण मं॑ लागलऽ सिविल इंजीनियर व तकनीकी विशेषज्ञ क॑ ई अच्छा सं॑ पता छै कि उन्नत सं॑ उन्नत तकनीक सं॑ बनैलऽ रोड भी कुछ बरसऽ मं॑ ही खराब होय जाय छै । ई लेली मौजूदा टेक्नोलॉजी मं॑ सुधार लेली सिविल इंजीनियर समुदाय सतत प्रयत्नशील रहै छै कि केना कम लागत मं॑ मजबूत आरू इकोफ्रेंडली सड़क निरमान करलऽ जाय । एक नजर मं॑ ई एगो साधारण काम नजर आबै छै लेकिन ई सचमुच मं॑ एगो बहुत बड़ऽ चैलेंजिग जॉब ही छेकै ।

सड़क निरमान केरऽ मौजूदा टेक्नोलॉजी मं॑ सुधार करी क॑ एगो बहुत बड़ऽ चैलेंजिग जॉब क॑ हकीकत मं॑ बदलै के सफल भागीरथ प्रयास करी क॑ दिखाबै वाला ई भारतीय इंजीनियर छेकै, श्री नेमकुमार बंतिया ।

महाराष्ट्र केरऽ नागपुर शहर निवासी, श्री नेमकुमार बंतिया न॑ ऐसनऽ तकनीक विकसित करन॑ छै कि गड्ढा होला प॑ भी सड़क खुद ब खुद ठीक होय जैतै । हुनी ऐसनऽ मटीरियल्स आरू तकनीक केरऽ विकास करन॑ छै जेकरा सं॑ सड़क जादा दिना तक सुचारू रूपऽ सं॑ चल॑ पारतै । श्री नेमकुमार बंतिया आई.आई.टी. सं॑ इंजीनियरिंग करन॑ छै आरू फिलहाल यूनिवर्सिटी ऑफ ब्रिटिश कोलंबिया (यूबीसी), कनाडा केरऽ सिविल इंजीनियरिंग विभाग मं॑ प्रोफेसर छेकै ।

कनाडा-इंडिया रिसर्च सेंटर ऑफ एक्सेलेंस केरऽ छत्रछाया मं॑ साईंटिफिक डायरेक्टर के रूप मं॑ बंतिया न॑ भारतीय सड़क निर्माण केरऽ दिशा आरू दशा बदलै लेली प्रयास शुरू करन॑ छै । ई तकनीक सं॑ बनलऽ सड़क जहाँ इकोफ्रेंडली छै वहीं एकरा लेली कम लागत केरऽ दरकार होय छै । ई सड़क निरमान मं॑ सीमेंट केरऽ बहुत कम आरू छारऽ (फलाई ऐश) केरऽ जादे इस्तेमाल होय छै । सीमेंट केरऽ कम खपत होला स॑ ग्रीनहाउस गैस केरऽ नै के बराबर उत्सर्जन होतै ।

ई सड़क के मोटाई भी सामान्य सड़कऽ सं॑ साठ प्रतिशत तक कम होय छै । सड़क केरऽ उमर १५ साल तक होय छै । सबसं॑ खास बात ई छै कि सड़क निरमान मं॑ उपयोग करलऽ कंक्रीट मजबूत फाइबर के साथ नैनो कोटिंग सं॑ जुड़लऽ रहै छै । जेकरा चलतं॑ एकरऽ ऐन्हऽ प्रवृत्ति होय जाय छै कि पानी सोखथैं गड्ढा अपनं॑ आप भरी जैतै आरू एकरा हाइड्रटेड रखतै । श्री नेमकुमार बंतिया केरऽ अनुसार जेन्हैं ई पानी केरऽ संपर्क मं॑ ऐतै आसपास केरऽ क्षेत्र मं॑ एकरऽ फैलाव सं॑ गड्ढा खुद ब खुद भरी जैतै ।

Sources :

1. https://www.civil.ubc.ca/faculty/nemkumar-banthia

2.नवभारत टाइम्स, मुंबई

Comments are closed.