सुलतानगंज / भागलपुर : नाला के माध्यम सें सहर केरऽ गंदगी आरू कचरा डलला सें  भागलपुर आरू सुलतानगंज केरऽ गंगा भयंकर रूपऽ सें प्रदूसित होय रहलऽ छै । ऐतने नै सफाई एजेंसी केरऽ कर्मचारी सिनी भी  गंगा घाटऽ क॑ कूड़ा केरऽ डंपयार्ड बनाय क॑ प्रदूसन समस्या क॑ बढ़ाबै में आरू योगदान करी रहलऽ छै । भारत केरऽ प्रधानमंत्री केरऽ स्वच्छ भारत अभियान आरू नमामि गंगे अभियान केरऽ सरेआम मजाक उड़ैलऽ जाय रहलऽ छै । लेकिन एकरा सें निजात दिलाबै के कोसिस में सरकारी महकमा एकदम असफल नजर आबै छै ।

सुलतानगंज सहर केरऽ जहाज घाट, नया सीढ़ी घाट, पुरानऽ सीढ़ी घाट के साथ – साथ भागलपुर सहरऽ के मानिक सरकार घाट, बूढ़ानाथ घाट, मुसहरी घाट, पुल घाट, विसर्जन घाट सिनी पर जौरऽ कूड़ा के पथार आरू नाला सानी सें बही क॑ गंगा में मिली रहलऽ गंदगी सें कारऽ होय चुकलऽ पानी सें गंगा के प्रदूसन स्तर के अंदाजा सहज ही लगी जाय छै ।

भागलपुर में नगर आयुक्त केरऽ आदेस के सरासर उल्लंघन करी क॑ गंगा किनारे आरू घाटऽ पर सफाई एजेंसी द्वारा ट्रैक्टर सें कचरा डाललऽ जाय रहलऽ छै ।  ध्यान दै वाला बात ई छै कि  सफाई एजेंसी क॑ सहर सें कचरा सफाई के इ कामऽ लेली सरकार के तरफ सें शुल्क केरऽ भुगतान करलऽ जाय छै ।

हुन्ने सुलतानगंज में जहाँ विस्व स्तर के श्रावनी मेला लगै छै, खराब सिवरेज आरू ड्रेनेज सिस्टम के चलतें गंगा में लाखों टन कचरा आरू प्रदूसित पानी के डलतें रही क॑ प्रदूसित बनी क॑ रहना एकरऽ नियति बनी गेलऽ छै ।

भागलपुर आरू सुलतानगंज के अलावा भी अंग क्षेत्र केरऽ हर सहर लगाँ गंगा के प्रदूसन के कमोबेस यह॑ स्थिति छै ।

सरकार केरऽ नींद कहिया टुटतै, लोगऽ सिनी क॑ खास करी क॑  गंगा क॑ पवित्र समझी क॑ एकरा में नहाबै वाला आरू इ इलाका में साल भर आबै वाला पर्यटक सिनी क॑ बेसब्री से इंतजार छै ।

 

Comments are closed.