फगुआ झूमर | अंगिका कविता | कैलाश झा ‘किंकर’

फगुआ झूमर
(झूमर के वीडियो देखै ल॑ ऐंजा क्लिक करऽ)
अंगिका गीत | कैलाश झा ‘किंकर’

फगुआ के रंग में लागै छै दुनिया फगुऐलै
हम्मर भैया के कनिया फगुऐलै।

भैय्या सुतल छै बगले में लेकिन चैट-चैट
खेलै भौजी अधरतिया चैट-चैट।

चढ़लै जे फागुन भौजी करै छै मह-मह-मह
महकै घोरो-दुअरिया मह-मह-मह ।

भरलऽ उमंग स॑ रँगलऽ छै भौजी फगुआ म॑
भैया ताकै छै सुरतिया फगुआ म॑ ।

राहुल,अमरेन्दर, राही,विजेता हँस्सैँ छै
नाची-झूमी क॑ खगड़िया हँस्सै छै।

Angika Poetry – Fagua Jhoomar | फगुआ झूमर
Poet – Kailash Jha Kinkar | कैलाश झा किंकर