ईश्वर – अल्लाह

ईश्वर – अल्लाह

— कुंदन अमिताभ —

मंदिर मस्जिद मं॑ वू अँटै छै कहाँ
धरम केरऽ खाना मं॑ बँटै छै कहाँ ।

वू त॑ सगरे ऐंजाँ-वैंजाँ  जैंजाँ-तैंजाँ
कोनो एक्के जग्घऽ प॑ डटै छै कहाँ ।

बस्ती मं॑ लागलै आगिन उठलै धुआँ
नै पता मरतै आय वू कहाँ – कहाँ  ।

सपना सब्भे मरी गेलै होय क॑ लहुलुहान
मस्जिद अजान मंदिर भजन भुतलैलै कहाँ ।

मानवता के क्षरण के छौं जों भारी चिंता
बस्ती सं॑ दूर ओकरा हकाबै छहो कहाँ ।

Angika Poetry : Eshwar – Allah
Poetry from Angika Poetry Book : Dhamas (धमस)
Poet : Kundan Amitabh

ishwar_allah_angika_poem_kundan_amitabh