फूल॑ नै फर॑ ढकमोरे पात | अंगिका कहावत

फूल॑ नै फर॑ ढकमोरे पात

अर्थ –   बड़ी-बड़ी बातें बनाने वाले अकर्मण्य लोगों पर व्यंग्य ।