नचारी के दाल खेसारी | अंगिका कहावत

नचारी के दाल खेसारी

अर्थ –  लाचारी की हालत में निम्न कोटि की वस्तुएँ भी ग्रहण करनी पड़ती हैं  ।