जमाय जमैलाँ पैंचऽ निस्तार | अंगिका कहावत

जमाय जमैलाँ पैंचऽ निस्तार

अर्थ –  साँप भी मरा और लाठी भी नहीं टूटी ।