औकतैलऽ कुम्हार लकड़ी स॑ खान॑ माटी | अंगिका कहावत

  औकतैलऽ कुम्हार लकड़ी स॑ खान॑ माटी

अर्थ – जल्दी में कोई उटपटाँग काम करना  ।