कारक (Case) | अंगिका व्याकरण | Angika Grammar | कुंदन अमिताभ

कारक (Case)

संज्ञा या सर्वनाम शब्द के जिस रूप से उसका संबंध वाक्य के दूसरे शब्दों से जाना जाता है, वह कारक कहलाता है ।

अंगिका में कारक के आठ प्रकार हैं-

 कर्ता –  न॑, एँ, ने ।

कर्म – क॑, क, कें,कै,कैं ।

करण – स॑, सं॑, सें, सैं ।

सम्प्रदान – ल॑, ल, ले, लेली,लय, वास्तं॑, बास्तं॑, खातिर ।

अपादान – सं॑, स॑, सें, से ।

सम्बन्ध – कऽ (बिहानकऽ), क, के, का (भोरका), की (रतकी), कर, करे, र, अर, एर ।

अधिकरण -मं॑, प॑,  में, पर, पे, उपर ।

सम्बोधन – हे, हो, हेहो, अरे, अरी, गे, हेगे, हेर् रे, रे, हेब॑ ।