सर्च इंजन कंपनी गूगल केरॊ मानलॊ जाय तॆ गूगल केरॊ एगॊ प्रॉजेक्ट, लून परियोजना केरॊ तहत उ इलाका तलक इंटरनेट कॆ पहुँचाना संभव होय जैतै जहाँ तलक अखनी इ नै पहुँचॆ पारलॊ छै. दुनिया केरॊ दू तिहाई आबादी अभियॊ इंटरनेट केरॊ दायरा सॆं बाहर छै. इंटरनेट सॆं शिक्षा, आर्थिक अवसर आरू स्वास्थ्य सेवा तलक पहुंच मिलै छै.

google_loon

गूगल केरॊ लून परियोजना

गूगल केरॊ दावा छै कि इ सब कुछ मुमकिन होतै सरंगॊ मॆं 20 किलोमीटर ऊपर उड़ै वाला गुब्बारा केरॊ माध्यम सॆं. गूगल केरॊ लून परियोजना के इ गुब्बारा के काम करै के तरीका आरू एकरा सॆं स्थाई इंटरनेट कनेक्शन पाबै के तरीका भी लाजबाब छै.

लून परियोजना सरंग मॆं (स्ट्रेटोस्फ़ीयर या समतापमंडल मॆं) उड़ै वाला गुब्बारा सब के एगॊ नेटवर्क होतै. इ 15 मीटर व्यास केरॊ बड़ा गुब्बारा सब होतै जे धरती सॆं 20 किलोमीटर केरॊ ऊंचाई पर उड़तै. लून गुब्बारा एगॊ समूह मॆं उड़ै छै. हर गुब्बारा केरॊ ऊपर एगॊ एंटीना होय छै, जे सिग्नल पकड़ै भी छै आरू फेरू ओकरा ज़मीन पर फेंकै भी छै. एगॊ लून गुब्बारा के दायरा 40 किलोमीटर होय छै. अगर तोरा लगाँ इंटरनेट एंटीना छौं तॆ इ सिग्नल कॆ पकड़ॆ सकॆ छौ. जेन्है एगॊ बैलून उड़लॊ – उड़लॊ एकरॊ दायरा सॆं बाहर जाय छै, दोसरॊ आबी जाय छै. तोरा कभी पता भी नै चलथौं कि एक गुब्बारा चल्लॊ गेलै आरू ओकरॊ जगह दोसरॊ आबी गेलॊ छै. इ सरंग मॆं 20 किलोमीटर ऊपर उड़तॆं रिबन ऐन्हॊ छै – जेकरा सॆं तोरा इंटरनेट मिलै छै. सोलर पैनल सॆं एकरा लगातार बिजली मिलतॆ रहतै.

गूगल केरॊ लून परियोजना केरॊ रिच डिवॉल केरॊ अनुसार शायद ऐन्हॊ पहला बार होय रहलॊ छै कि सब लेली इंटरनेट उपलब्ध करवाना आसान आरू तुलनात्क रूप से सस्ता होय जैतै.

जादा जानकारी  http://www.google.co.in/loon/ पर उपलब्ध छै.

Comments are closed.