गोड्डा : संथालपरगना केरऽ पहलऽ पावर प्लांट, जे गोड्डा में अडानी पावर (झारखंड) लिमिटेड लगैतै, क॑  पर्यावरणीय स्वीकृति (क्लीयरेंस) मिली गेलऽ छै । केंद्रीय वन, पर्यावरण व जलवायु मंत्रालय न॑ सशर्त क्लीयरेंस देन॑ छै । क्लीयरेंस मिलथैं  गोड्डा में अडानी पावर प्लांट के सब्भे अड़चन दूर होय गेलऽ छै ।

अडानी पावर ई प्रोजेक्ट प॑ १४ हजार करोड़ रुपया निवेश करतै. ई प्रोजेक्ट के बनी गेला प॑ नै सिर्फ गोड्डा के दिन फिरतै बल्कि संताल परगना के विकास में एकरऽ अहम योगदान होतै । अडानी पावर प्लांट के क्षमता १६०० मेगावाट होतै । १२५५ एकड़ जमीन पर ई पूरा प्रोजेक्ट स्थापित होतै, जेकरा म॑ २५२ एकड़ जमीन क॑ ग्रीन बेल्ट विकास लेली रिजर्व रखलऽ गेलऽ छै । ८० एकड़ जमीन पर मुख्य प्लांट बनतै जबकि १७२ एकड़ जमीन पर प्लांट लेली जलाशय व ऐश-पौंड बनतै । ई प्लांट इंपोर्टेड कोल बेस्ड थर्मल पावर प्रोजेक्ट होतै ।

ई प्लांट में पांच हजार लोगऽ क॑ रोजगार मिलतै । जेकरा म॑ स्कील व अनस्कील्ड लेबर शामिल छै । एकरऽ अलावा १८०० कर्मचारी भी यहां काम करतै । एकरऽ अलावा गोड्डा जिला के लाखों लोगऽ क॑ प्लांट स॑ प्रत्यक्ष व प्रत्यक्ष रूप स॑ लाभ मिलै वाला छै । गोड्डा प्रखंड केरऽ मोतिया, पटवा, गंगटी व नयाबाद आरू पोड़ैयाहाट प्रखंड केरऽ सोनडीहा, पेटबी, गायघाट, रंगनिया आरू माली गांव केरऽ जमीनऽ प॑ ई प्लांट लगैलऽ जैतै ।

गोड्डा के सांसद निशिकांत दुबे न॑ अडानी पावर प्लांट के अड़चन दूर होला प॑ खुशी व्यक्त करन॑ छै । हुनी आशा व्यक्त करन॑ छै कि प्लांट के काम अब॑ तेजी स॑ होतै । हुनी कहलकै कि एक ओर जहां रोजगार के सृजन होतै, वहीं अंग क्षेत्र के गोड्डा क्षेत्र केरऽ उतरोत्तर विकास भी होतै ।

Comments are closed.

error: Content is protected !!