गरमैलऽ छै कलम

— विद्याभूषण सिंह ‘वेणु’ —

के कहै छै कि इ नरमैलऽ छै कलम ।
सावधान रे कि इ गरमैलऽ छै कलम ।

धरती क॑ नञ देख॑ बुरा नजरऽ सें आकाशें,
कि जुल्मी क॑ मिटाय ल॑ इ उमतैलऽ छै कलम ।

मालूम जोंकऽ क॑ कि खून आरो भी छै पीयै वाला,
कि रोशनाय सें जादे इ खून पिलैलऽ छै कलम ।

जुल्म करै वाला कोय भी मगर वें जानी लिय॑,
कि जुल्मऽ के विरोध करै ल॑ इ जिदियैलऽ छै कलम ।

नेता रह॑ या अभिनेता, मंतरी-संतरी या कोय भी,
नञ केखरौ आगू भी इ रिरियैलऽ छै कलम ।

जब॑ भी जहाँ उठलऽ छै आवाज, बुराई के विरोधें
वहाँ-वहाँ उगलै ल॑ आगिन इ अगुऐलऽ छै कलम ।

“वेणु” केकरहौ छै जलन आय केकरो उत्थानऽ प॑,
लेकिन दोसरा के विकास पर इ हरषैलऽ छै कलम ।

Angika Poetry :Garmailow Chhai Kalam
Poet : VidyaBhushan Singh ‘Venu’
Poetry from Angika Poetry Book : Mahmah Phool

garmailow chhai kalam_Venu_angika

Comments are closed.