साइंस-टेक्नोलॉजी

आधार कार्ड क॑ मोबाईल फोन प॑ रखै के सुविधा दै लेली एम-आधार एप करलऽ गेलै अपडेट

आधार कार्ड क॑ मोबाईल फोन प॑ रखै के सुविधा दै लेली एम-आधार एप करलऽ गेलै अपडेट

नई दिल्ली । आधार कार्ड क॑ हमेशा अपनऽ जिमा म॑ रखै के दिक्कत अब॑ नै उठाबै ल॑ परतै । सरकार न॑ एम आधार एप क॑ अपडेट करी देन॑ छै । रजिस्टर्ड मोबाइल पर एप म॑ समय आधारित ओटीपी (वन टाइम पासवर्ड) जोड़ी देलऽ गेलऽ छै । एकरऽ जरिया स॑ आधार क॑ अपनऽ फोन पर रखलऽ जाब॑ सकै छै । सरकार लगभग हर जगह आधार क॑ अनिवार्य बनैतें जाय रहलऽ छै । आधार कार्ड अपनऽ जिमा म॑ हमेशा रखना जरूरी होय गेलऽ छै । लेकिन मोबाइल प॑ उपलब्ध होला के बाद आधार कार्ड क॑ हमेशा जिमा म॑ रखै के जरूरत नै रहतै । एप केरऽ बीटा वर्जन म॑ जनसांख्यिकीय डाटा उपलब्ध रहै छै । जेकरा म॑ आधार कार्ड म॑ जे जानकारी होय छै, वू मोबाइल पर दिखी जाय छै । समय आधारित ओटीपी म॑ अब॑ ओटीपी केरऽ डाउनलोड होय के इंतजार नै करै ल॑ होतै । ई मोबाइल प॑ हमेशा उपलब्ध रहतै । यूआइडीएआइ केरऽ सीईओ… Read More

मच्‍छर भगाबै वाला टीवी के बाद अब॑ मच्‍छर भगाबै वाला स्‍मार्टफोन लॉंच करलकै एलजी न॑

मच्‍छर भगाबै वाला टीवी के बाद अब॑ मच्‍छर भगाबै वाला स्‍मार्टफोन लॉंच करलकै एलजी न॑

नई दिल्ली : एलजी न॑ एगो ऐन्हऽ फोन लॉन्‍च करल॑ छै जे आपन॑ के खाली बातचीत करै के सुविधा ही नै देतै बल्कि आपन॑ क॑ मच्‍छर स॑ होय वाला परेशानी आऱू एकरा चलतें होय वाला बीमारियऽ स॑ भी दूर रखतै । साउथ कोरिया केरऽ दिग्‍गज कंपनी एलजी न॑ भारत म॑ एगो ऐसनऽ फोन लॉन्‍च करल॑ छै,जे मॉस्‍किटो अवे टेक्‍नोलॉजी के साथ आबै छै । एकरऽ नाम ‘एलजी के7आई मॉस्‍किटो अवे’ छेकै । ई फोन मच्‍छर भगाबै के काम भी करै छै । फोन केरऽ पिछला हिस्‍सा म॑ एगो स्‍पीकर देलऽ गेलऽ छै, जे कि अल्‍ट्रासॉनिक फ्रिक्‍वेंसी पैदा करै छै , जेकरा चलत॑ मच्छर दूर भागतै । भारत म॑ एकरऽ दाम ७९९० रू. छै । एकरऽ पहल॑ पिछला साल जून म॑ एलजी न॑ मच्‍छर क॑ दूर भगाबै वाला नया टीवी सीरीज क॑ लॉन्‍च करन॑ छेलै, जेकरऽ नाम ‘मॉस्किटो अवे टीवी’ छेलै । भारत म॑ ई टीवी के कीमत २६९०० रुपया स॑ ल॑ करी क॑ ४७५०० रुपया… Read More

शनि ग्रह केरऽ चक्कर लगाय रहलऽ अंतरिक्ष यान कैसिनी नष्ट

शनि ग्रह केरऽ चक्कर लगाय रहलऽ अंतरिक्ष यान कैसिनी नष्ट

वाशिंगटन। पिछला २० साल स॑ शनि ग्रह केरऽ चक्कर लगाय रहलऽ अंतरिक्ष यान कैसिनी १३ सितंबर,२०१७ क॑ नष्ट होय गेलै । कासिनी न॑ ११ लाख ३० हजार किलोमीटर प्रति घंटा के तेज रफ्तार के साथ शनि केरऽ वायुमंडल म॑ प्रवेश करलकै आरू चंद सेंकेड म॑ जली क॑ नष्ट होय गेलै । शनि केरऽ चंद्रमा प॑ जीवन के प्रबल संभावना के चलत॑ यान क॑ जानी बूझी क॑ शनि के वायुमंडल म॑ प्रवेश करैलऽ गेलै तीन अरब डालर केरऽ ई यान क॑ जानी बूझी क॑ शनि केरऽ वायुमंडल म॑ प्रवेश करैलऽ गेलै कैन्हेंकि वैज्ञानिकऽ के ऐसनऽ मानना छेलै कि ईंधन खत्म होय चुकलऽ ई यान क॑ जों ऐन्हैं छोड़ी देलऽ जाय छै त॑ ओकरऽ शनि के चंद्रमा टाइटन या फिर पॉलीड्यूसेस स॑ टकराबै के आशंका छेलै । वैज्ञानिकऽ के अनुसार हुनी सब ऐसनऽ नै चाहै छेलै कैन्हेंकि शनि केरऽ ई दूनू चंद्रमा प॑ जीवन केरऽ अंश होय के प्रबल संभावना छै जेकरा कोनो तरह के नुकसान पहुंचाबै के… Read More

भारत संचार निगम जुटलऽ छै ४जी सथं॑ ५जी लानै के तैयारी म॑

भारत संचार निगम जुटलऽ छै ४जी सथं॑ ५जी लानै के तैयारी म॑

मुंबई । सार्वजनिक दूरसंचार कंपनी बीएसएनएल न॑ पांचमऽ पीढ़ी यानी ४ जी केरऽ दूरसंचार सेवा लेली शुरुआती काम शुरु करी देल॑ छै । जबकि ओकरऽ राष्ट्रीय स्तर पर ४जी VoLTE सेवा के शुरुआत अभी शेष छै ।  बीएसएनएल  ४जी VoLTE सेवा क॑ देश भर में शुरू करै के उम्मीद करी रहलऽ छै । बीएसएनएल, सरकार स॑ एकरा लेली स्पेक्ट्रम मांगी रहलऽ छै । कंपनी न॑ पिछला साल केरऽ आखिर में दूरसंचार विभाग स॑ कहल॑ छेलै कि ४G सेवा शुरू करै लेली ७०० मेगाहटर्ज बैंड म॑ स्पेक्ट्रम देलऽ जाय । कंपनी क॑ उम्मीद छै कि सरकार ओकरा ४G आरू ५G सेवा के पेशकश लेली ७०० मेगाहटर्ज म॑ स्पेक्ट्रम के इस्तेमाल के अनुमति जल्दिये द॑ देतै । संबंधित अंगिका समाचार पढ़ऽ / Read similar Angika News :सरकारी उपेक्षा केरऽ शिकार बिहार अंगिका अकादमी केरऽ…झारखंड कर्मचारी चयन आयोग (जे.एस.एस.सी)- टी.जी.टी.…जाह्न्वी अंगिका संस्कृति संस्थान न॑ बिहार अंगिका…क्या आज प्रधानमंत्री अंगिका को अष्टम अनुसूची में…अंगिका को अष्टम अनुसूची में शामिल… Read More

राष्ट्र केरऽ समुचित विकास लेली स्वदेशी भाषा क॑ इंजीनियरिंग आरू टेक्नोलॉजी के भाषा बनाना जरूरी

राष्ट्र केरऽ समुचित विकास लेली स्वदेशी भाषा क॑ इंजीनियरिंग आरू टेक्नोलॉजी के भाषा बनाना जरूरी

धनबाद : चीन आरू जापान जैसनऽ तकनीकी रूप सं॑ संपन्न देश भारत स॑ आगू छै कैन्हेंकि वहाँ अपनऽ भाषा क॑ अपनैलऽ गेलऽ छै । भारत मं॑ विज्ञान आरू तकनीक केरऽ विस्तार अंग्रेजी मं॑ होलऽ छै । स्वदेशी भाषा केरऽ प्रयोग नै केवल तकनीक विस्तार म॑ करै ल॑ होतै बल्कि एकरा संचार माध्यम मं॑  भी सक्रिय रूप सं॑ शामिल करै ल॑ संबंधित अंगिका समाचार पढ़ऽ / Read similar Angika News :झारखंड कर्मचारी चयन आयोग (जे.एस.एस.सी)- टी.जी.टी.…सरकारी उपेक्षा केरऽ शिकार बिहार अंगिका अकादमी केरऽ…जाह्न्वी अंगिका संस्कृति संस्थान न॑ बिहार अंगिका…अंगिका भाषा आंदोलन केरऽ पुरोधा आरू अंगिका साहित्य…जापान सथ॑ भारत केरऽ बुलेट संबंधऽ के रखलऽ गेलै नींवअंगिका भाषा क॑ संविधान के आठमऽ अनुसूची म॑ शामिल…

खुद सं॑ रिपेयर होयवाला सड़क : छारऽ आरू नैनो कोटिंग स॑ सड़क निरमान टेक्नोलॉजी भारतीय इंजीनियर केरऽ अदभुत कल्पना शक्ति केरऽ कमाल

खुद सं॑ रिपेयर होयवाला सड़क : छारऽ आरू नैनो कोटिंग स॑ सड़क निरमान टेक्नोलॉजी भारतीय इंजीनियर केरऽ अदभुत कल्पना शक्ति केरऽ कमाल

बेंगलुरू : प्राचीन समय स॑ ल॑ करी क॑ आधुनिक जमाना तक मं॑ सड़क निर्माण जों प्रगति केरऽ पैमाना छेकै त॑  बदहाल सड़क के स्थिति ई तथ्य के भी प्रमाण छेकै कि मजबूत सड़क निर्माण लेली मौजूदा टेक्नोलॉजी मं॑ काफी सुधार केरऽ आवश्यकता छै । जहाँ तलक आपनऽ भारत के सवाल छै त॑ यहाँ सड़क के बदहाल स्थिति लेली अभी तलक सिविल इंजीनियर… संबंधित अंगिका समाचार पढ़ऽ / Read similar Angika News :सरकारी उपेक्षा केरऽ शिकार बिहार अंगिका अकादमी केरऽ…जाह्न्वी अंगिका संस्कृति संस्थान न॑ बिहार अंगिका…स्थापना केरऽ साल भर बाद भी कागज प॑ ही चली रहलऽ छै…झारखंड कर्मचारी चयन आयोग (जे.एस.एस.सी)- टी.जी.टी.…अंगिका भाषा आंदोलन केरऽ पुरोधा आरू अंगिका साहित्य…बिहार केरऽ प्राइमरी इसकूली मं॑ माध्यम भासा के रूप…

सौरमंडल से बाहर तीन-तीन सूरज वाला नया दुर्लभ ग्रह (एक्सोप्लेनेट) केरऽ करलऽ गेलै खोज

सौरमंडल से बाहर तीन-तीन सूरज वाला नया दुर्लभ ग्रह (एक्सोप्लेनेट) केरऽ करलऽ गेलै खोज

अरिजोना । खगोलशास्त्र वैज्ञानिकऽ न॑ पृथ्वी स॑ ३२० प्रकाशवर्ष दूर आरू बृहस्पति ग्रह स॑ चार गुना वजनी एगो नया ग्रह के खोज करन॑ छै । ई ग्रह क॑ तीन सूरज छै । सेंटोरस तारामंडल मं॑ स्थित आरू पृथ्वी स॑ करीब ३२० प्रकाशवर्ष दूर स्थित एचडी131399एबी नाम केरऽ ई ग्रह करीब 1.6 करोड़ साल पुराना छै । ई ग्रह आज तक खोजलऽ गेलऽ[Read More…] संबंधित अंगिका समाचार पढ़ऽ / Read similar Angika News :सरकारी उपेक्षा केरऽ शिकार बिहार अंगिका अकादमी केरऽ…जाह्न्वी अंगिका संस्कृति संस्थान न॑ बिहार अंगिका…बिहार केरऽ प्राइमरी इसकूली मं॑ माध्यम भासा के रूप…स्थापना केरऽ साल भर बाद भी कागज प॑ ही चली रहलऽ छै…अंगिका भाषी सांसद अश्विनी कुमार चौबे केंद्रीय राज्य…अंगिका भाषा आंदोलन केरऽ पुरोधा आरू अंगिका साहित्य…

GSLV-D5 marks India’s mastery over indigenous cryogenic technology

THIRUVANANTHAPURAM: Indian Space Research Organisation’s (Isro’s) successful launch of Geosynchronous Satellite Launch Vehicle, GSLV-D5, on Sunday at 4.18pm from Sriharikota marks a significant achievement of India’s prowess over indigenous cryogenic technology.  “It is a tough job to understand and master cryogenic technology. It is ultimate and we have put in a lot of efforts and made it possible. Today, we can say and prepare with more confidence for the next mission of C-25 stage with 25 tonnes of propellant and 20 tonnes of cryogenic engine thrust for the GSLV MK-3 D-1 mission in early 2017. The high-end cryogenic engine is slated for completion and testing by 2015,” Vikram Sarabhai Space Centre director S Ramakrishnan told TOI minutes after the lift-off of GSLV-D5. It’s indeed a memorable day for launch vehicle community, to realize this cryogenic technology and master it as it is the first successful attempt, he said. Last year, on August 19, an anomaly… Read More

मंगल कॆ दागलकै भारत नॆ आपनॊ पहलॊ मंगलयान

मंगल कॆ दागलकै भारत नॆ आपनॊ पहलॊ मंगलयान

India’s first-ever mission to Mars launched into space today (Nov. 5), beginning the country’s first interplanetary mission to explore the solar system. With a thunderous roar, India’s Mars Orbiter Mission rocketed into space at 4:08 a.m. EST (0908 GMT) from the Indian Space Research Organisation’s Satish Dhawan Space Centre in Sriharikota, where the local time will be 2:38 p.m. in the afternoon. An ISRO Polar Satellite Launch Vehicle launched the probe on its 300-day trek into orbit around the Red Planet. “The journey has only just begun,” said ISRO Chairman K. Radhakrishnan after the successful launch. Less than an hour after liftoff, Radhakrishnan reported that India’s Mars probe successfully entered a staging orbit around Earth. Mars Orbiter Mission director Kunhi Krishnan describing the launch as a start to a “grand and glorious” mission. If all goes well, India’s first Mars orbiter — called Mangalyaan (Hindi for “Mars Craft”) — will arrive at the Red Planet… Read More

Rare hybrid solar eclipse occurs today

Rare hybrid solar eclipse occurs today

Washington: Skywatchers in parts of Africa, Europe and the United States will witness a rare ‘hybrid’ solar eclipse on Sunday- an unusual eclipse in which the Moon blocks the Sun – either fully or partially, depending on the location. The event is also known as the annual solar eclipse. Interestingly, this will be the second solar eclipse falling in 2013 and fifth eclipse overall. A hybrid eclipse usually starts and ends as an annular eclipse but appears as a total eclipse in the middle. However, today’s eclipse is rare as it starts as an annular eclipse and ends as a total eclipse.  The greatest part of the eclipse will take place at 1237 GMT over the Atlantic Ocean, some 330 kilometers (205 miles) southwest of Liberia, according to a NASA website that tracks eclipses. The west African nation of Gabon will get peak viewing of the total eclipse as it sweeps over a path nearly… Read More

error: Content is protected !!