अंगिका

अंगिका, कोसली सहित सब्भे ३८ अनुसूचित भाषा केरौ संवैधानिक अधिकार लेली आयोजित भेलै बरगढ़, उड़ीसा में रैली व सभा

अंगिका, कोसली सहित सब्भे ३८ अनुसूचित भाषा केरौ संवैधानिक अधिकार लेली आयोजित भेलै बरगढ़, उड़ीसा में रैली व सभा

बरगढ़ (उड़ीसा), २१ फरवरी,२०१९ । अंतर्राष्ट्रीय मातृभाषा दिवस पर आय भारत भर के सैकड़ों भाषा कार्यकर्ता सिनीं न॑ कोसली क्रियास्थान कमेटी, CLEAR  आरू अखिल भारतीय अंग-अंगिका विकास मंच  केरौ संयुक्त तत्वाधान मँ बरगढ़ में रैली करलकै आरू अंगिका, कोसली सहित सब्भे ३८ अनुसूचित भाषा केरौ संवैधानिक अधिकार के माँग करतें हुऐ समेली मंदिर सें बीजू पटनायक टाउन हॉल तक  मार्च करलकै । बीजू पटनायक टाउन हॉल केरौ बैठक में, संगठन के समन्वयक साकेत श्रीभूषण साहू ने परिचयात्मक भाषण देलकै आरू अतिथि केरौ स्वागत करलकै। सभा केरौ आरंभ मँ उपस्थित जनौ नँ पुलवामा के शहीदौ लेली दू मिनट के मौन रखलकै । तत्पश्चात भाषा कर्मियों नँ मातृ भाषा के रक्षा आरू संरक्षण के शपथ लेलकै । भाषा कार्यकर्ता सिनी नँ उम्मीद जतैलकै कि अंगिका, कोसली सहित सब्भे केंद्र सरकार के अधीन सक्रिय विचार लेली लंबित सब्भे ३८ भाषा सिनी के संविधान केरौ ८ वाँ  अनुसूची में शामिल करलौ जैतै । अंगिका भाषा केरौ साहित्यकार व कार्यकर्ता कुंदन अमिताभ… Read More

सर्वसम्मति स॑ आठ महत्वपूर्ण प्रस्ताव पारित करी क॑ अंगिका के विकास लेली  तय करलऽ गेलै आगू के रणनीति

सर्वसम्मति स॑ आठ महत्वपूर्ण प्रस्ताव पारित करी क॑ अंगिका के विकास लेली तय करलऽ गेलै आगू के रणनीति

भागलपुर। अंगिका महोत्सव २०१९ केरऽ अंतिम दिन सर्वसम्मति स॑ आठ महत्वपूर्ण प्रस्ताव पारित करी क॑ अंगिका विकास लेली आगू के रणनीति तय करलऽ गेलै । भागलपुर विवि केरऽ डीएसडब्ल्यू डॉ. योगेंद्र न॑ प्रस्ताव पढ़लकै आरू प्रशाल म॑ उपस्थित अंगिका साहित्यकार, कलाकार, अंगिका प्रेमी सिनी न॑ सर्वसम्मति स॑ पास करलकै । 1.अंगिका भाषा क॑ संविधान केरऽ आठमऽ अनुसूची म॑ सम्मिलित कराबै लेली हर स्तर प॑ हर संभव प्रयास करलऽ जाय आरू एकरा लेली जुझारू व सक्षम व्यक्ति सिनी के एगो ऐसनऽ सशक्त कमेटी बनैलऽ जाय जे ई विषय म॑ मैथिली के अधिकारी आरू दुष्चक्र क॑ तोड़तें हुअ॑ अंगिका क॑ ओकरऽ वाजिब अधिकार दिलाबै आरू आठमऽ अनुसूची म॑ शामिल होय के मार्ग प्रशस्त कर॑ सक॑ । 2. ई महोत्सव सर्वसम्मति स॑ बिहार सरकार स॑ ई माँग करै छै कि प्राथमिक स्तर स॑ इंटरमीडिएट आरू उच्च शिक्षा तलक अंगिका भाषा म॑ पठन-पाठन के व्यवस्था सुनिश्चित कर॑ । 3. ई महोत्सव सर्वसम्मति स॑ अंगिका क्षेत्र केरऽ २६ जिला केरऽ… Read More

अंगिका भाषा आरू अंग संस्कृति केरऽ संरक्षण व संवर्द्धन के संकल्प सथें संपन्न भेलै अंगिका महोत्सव – २०१९

अंगिका भाषा आरू अंग संस्कृति केरऽ संरक्षण व संवर्द्धन के संकल्प सथें संपन्न भेलै अंगिका महोत्सव – २०१९

भागलपुर ।अंगिका भाषा आरू अंग संस्कृति केरऽ संरक्षण व संवर्द्धन के संकल्प लेत॑ हुअ॑ दू दिवसीय अंगिका महोत्सव – २०१९ संपन्न भ॑ गेलै ।  जेकरा म॑ अंगिका क॑ अष्टम अनुसूची म॑ शामिल कराबै लेली कोर कमिटी केरऽ गठन केरऽ महत्वपूर्ण प्रस्ताव पास करलऽ गेलै । साथ ही ई प्रस्ताव भी पास करलऽ गेलै कि हर अंगिका भाषी जिला केरऽ डी.एम. क॑ प्रतिवेदन द॑ क॑ माँग करलऽ जैतै कि जिला केरऽ राजकीय गजट म॑ जिला केरऽ भाषा के नाम के रूप म॑ अंगिका के नाम दर्ज करलऽ जाय़ । [wzslider autoplay=”true” interval=”2000″] बितलऽ २  फरवरी  आरू  ३ फरवरी क॑ आयोजित होलऽ अंगिका महोत्सव, चार अलग-अलग सत्र म॑ संपन्न होलै ।जेकरा म॑ अंगिका केरऽ विकास संबंधी अलग-अलग विषयऽ प॑ परिचर्चा के अलावा, अंगिका लोक नृत्य – झिझिया, मल्हा, अंगिका लघु फिल्म – छुटकारा, रूपक – बिहुला बिषहरी, कवि सम्मेलन, लोकनाट्य – डोमकच्छ केरऽ प्रदर्शन करलऽ गेलै । जोन प्रमुख विषयऽ प॑ परिचर्चा होलै ओकरा म॑ शामिल छै- अंगिका… Read More

चार अलग-अलग सत्र म॑ आयोजित होतै अंगिका महोत्सव – २०१९, परिचर्चा के अलावा देखै ल॑ मिलतै अंगिका लोक नृत्य, अंगिका लघु फिल्म, अंगिका रूपक, कवि सम्मेलन आरू लोकनाट्य

चार अलग-अलग सत्र म॑ आयोजित होतै अंगिका महोत्सव – २०१९, परिचर्चा के अलावा देखै ल॑ मिलतै अंगिका लोक नृत्य, अंगिका लघु फिल्म, अंगिका रूपक, कवि सम्मेलन आरू लोकनाट्य

भागलपुर । काल २ फरवरी  आरू परसू  ३ फरवरी क॑ आयोजित होय वाला अंगिका महोत्सव चार अलग-अलग सत्र म॑ संपन्न होतै ।जेकरा म॑ अंगिका केरऽ विकास संबंधी अलग-अलग विषयऽ प॑ परिचर्चा के अलावा, अंगिका लोक नृत्य – झिझिया, मल्हा, अंगिका लघु फिल्म – छुटकारा, रूपक – बिहुला बिषहरी, कवि सम्मेलन, लोकनाट्य – डोमकच्छ केरऽ प्रदर्शन करलऽ जैतै । जोन प्रमुख विषयऽ प॑ परिचर्चा होतै ओकरा म॑ शामिल छै- अंगिका आरू मीडिया, अंगिका केरऽ अतीत व वर्तमान, अंगिका क॑ संविधान केरऽ अष्टम अनुसूची म॑ शामिल कराना, अंगिका भाषा केरऽ बाधा व ओकरऽ समृद्धि केरऽ योजना । अंगिका महोत्सव २०१९ आयोजन केरऽ परिचर्चा सत्र विवरण निम्नांकित छै; दिनांक : 2.2.2019 प्रथम सत्र– १० बजे उदघाटन- कुलपति ति.मा.भा.वि.वि. परिचर्चा–विषय—अंगिका आरू मीडिया प्रमुख वक्ता- डॉ. योगेंद्र श्री राजेन्द्र सिंह,सम्पादक, नईबात , भागलपुर श्री कुंदन अमिताभ , संस्थापक,अंगिका डॉट कॉम, मुम्बई श्री बाबा विजयेंद्र, सम्पादक, स्वराज खबर, दिल्ली श्री शम्भु प्र. सिंह , पूर्व कार्यक्रम अधिशासी, दूरदर्शन, पटना श्री राहुल शिवाय, उप निदेशक, कविताकोश द्वितीय सत्र–… Read More

बिहार अंगिका अकादमी क॑ मिललै कार्यालय, भवन के नाम ‘अंग भवन’ रहतै, दीवार मंजूषा कला स॑ अलंकृत रहतै

बिहार अंगिका अकादमी क॑ मिललै कार्यालय, भवन के नाम ‘अंग भवन’ रहतै, दीवार मंजूषा कला स॑ अलंकृत रहतै

बिहार अंगिका अकादमी के कार्यालय भवन के नाम अंग भवन रहतै आरू ओकरऽ दीवार मंजूषा कला स॑ अलंकृत रहतै। स्थापना केरऽ तीन साल सें भी जादे वक्त बितला के बाद आखिरकार बिहार अंगिका अकादमी क॑ स्वतंत्र कार्यालय मिली गेलऽ छै । आपनऽ फेसबुक केरऽ माध्यम स॑ अंगिका अकादमी अध्यक्ष न॑ १ दिसंबर-२०१८ क॑ जानकारी देन॑ छै कि बिहार अंगिका अकादमी केरऽ कार्यालय वासतें सरकार स॑ पटना के महेन्द्रू इलाका म॑ एस.सी.आर.टी.परिसर म॑ एगो भव्य कमरा आवंटित होय गेलै, जेकरो पत्र अध्यक्ष क॑ ३० नवंबर,२०१८ क॑ मिली गेलै । अब॑ कार्यालय के जल्दी उद्घाटन वासतें व्यवस्था होय रहलऽ छै । ५ दिसंबर -२०१८ क॑ फेसबुक के माध्यम सें ही हुनी जानकारी देन॑ छै कि बिहार अंगिका अकादमी के कार्यालय भवन के नाम ‘अंग भवन’ रहतै आरू ओकरऽ दीवार मंजूषा कला स॑ अलंकृत रहतै।   बिहार अंगिका अकादमी क॑ कार्यालय मिलला प॑ बधाई आरू शुभकामना देतें हुअ॑ अंगिका.कॉम केरऽ संस्थापक कुंदन अमिताभ न॑ कहन॑ छै कि निश्चित… Read More

परम प्रिय मामू आचार्य श्रीरंजन सूरिदेव क॑ श्रद्धांजलि – अक्षय मोहन भट्ट

परम प्रिय मामू आचार्य श्रीरंजन सूरिदेव क॑ श्रद्धांजलि – अक्षय मोहन भट्ट

परम प्रिय मामू आचार्य श्रीरंजन सूरिदेव क॑ श्रद्धांजलि — अक्षय मोहन भट्ट— (मौसम विज्ञानी, मौसम विज्ञान विभाग, भारत सरकार, अम्बिकापुर, छत्तीसगढ़) आज साहित्य आकाश में दर्द बहुत है ! कवि हृदय की पीड़ा में सिंचित शब्दों का आभाव बहुत है ! जीवन की प्रथम परिभाषा, सारस्वत होवे शब्दों की मर्यादा, विराम लेखनी को मिली, अंतिम पन्ने पर पूर्ण हस्ताक्षर रञ्जन तुम्हारी विराम लेखनी में अश्रु का पारावार बहुत है ! साहित्य जगत का गला रुंधता, शब्द नहीं हैं कवि शब्द ढूंढता, मग शाकद्वीपी के रत्न रञ्जन, हुए ओझल ,रह गयीं शेष चक्षु क्रंदन, यादें शेष अब रञ्जन कृति में , नम आंखों में आभार बहुत है ! ओज प्रवीण पंडित श्री रञ्जन, माधर्य बोध के विज्ञ श्री रञ्जन, सरस्वती पुत्र प्रखर श्री रञ्जन, श्रद्धावनत हूँ मातुल श्री रञ्जन, बैकुंठ प्रकाशित आज हुआ होगा, गर्व मुझे अभिमान बहुत है ! आज साहित्य आकाश में दर्द बहुत है ! श्रद्धांजलि — 11.11.2018 * संबंधित अंगिका समाचार पढ़ऽ / Read… Read More

सीताकांत महापात्रा समिति द्वारा अनुशंसित अंगिका, भोजपुरी, कोसली समेत ३७ भाषा क॑ अष्टम अनुसूची म॑ तुरंत शामिल कराबै लेली जंतर-मंतर प॑ धरलऽ गेलै धरना

सीताकांत महापात्रा समिति द्वारा अनुशंसित अंगिका, भोजपुरी, कोसली समेत ३७ भाषा क॑ अष्टम अनुसूची म॑ तुरंत शामिल कराबै लेली जंतर-मंतर प॑ धरलऽ गेलै धरना

नई दिल्ली । ५ नवंबर, २०१८  । आय विभिन्न भारतीय भाषा-भाषी समूह केरऽ कार्यकर्ता सब द्वारा जंतर-मंतर प॑  एक दिवसीय धरना धरी क॑ सीताकांत महापात्रा समिति द्वारा अनुशंसित ३७ भाषा क॑ अष्टम अनुसूची म॑ तुरंत शामिल करै के सरकार स॑ आग्रह करलऽ गेलै । देश केरऽ लोकतांत्रिक व्यवस्था म॑ विश्वास रखत॑ हुअ॑ एकात्मक व सामूहिक रूप सें सरकार स॑ माँग करलऽ गेलै  कि बर्ष २००४ म॑ सीताकांत महापात्रा समिति द्वारा अनुशंसित अंगिका, भोजपुरी, कोसली समेत ३७ भाषा क॑ भारतीय संविधान केरऽ अष्टम अनुसूची म॑ तुरंत शामिल करलऽ जाय । पिछला कुछ दशक के दौरान केंद्र सरकार न॑ स्वंय द्वारा गठित विभिन्न समिति सब के सिफारिश प॑ संविधान केरऽ आठमऽ अनुसूची म॑ विभिन्न भारतीय भाषा क॑ शामिल करल॑ छै । हालाँकि, जैन्हऽ कि सरकार के ही कहना छै कि ऐसनऽ करै म॑ कोय भी निश्चित मानक मापदंड केरऽ पालन नै करलऽ गेलऽ छै । भारतबर्ष केरऽ भाषाई विविधता केरऽ जटिलता क॑ समझी करी क॑  भाषा सब क॑… Read More

अंगिका भाषा क॑ संवैधानिक मान्यता दिलाबै लेली “अंगिका भाषा मान्यता आंदोलन” अंतर्गत  तेज  करलऽ जैतै  “अंगिका जनजागरण अभियान” गतिविधि

अंगिका भाषा क॑ संवैधानिक मान्यता दिलाबै लेली “अंगिका भाषा मान्यता आंदोलन” अंतर्गत तेज करलऽ जैतै “अंगिका जनजागरण अभियान” गतिविधि

नई दिल्ली । अंगिका भाषा क॑ संवैधानिक मान्यता दिलाबै लेली दिल्ली स्थित “अखिल भारतीय अंगिका पत्रकार एवं लेखक संघ” द्वारा चलैलऽ जाय रहलऽ “अंगिका जनजागरण अभियान” केरऽ गतिविधि क॑ तेज करलऽ जैतै। संघ ई अभियान “अंगिका भाषा मान्यता आंदोलन” (Angika Language Recognition Movement – ALRM) के तहत चलैतै । अंगिका.कॉम स॑ मंगलवार क॑ बातचीत करतें अखिल भारतीय अंगिका पत्रकार एवं लेखक संघ केरऽ राष्ट्रीय संयोजक, डॉ. शशिधर मेहता न॑ बतैलकै कि संघ करोड़ों लोगऽ के मातृभाषा, अंगिका क॑ भारतीय संविधान केरऽ अष्टम अनुसूची म॑ शामिल कराबै के संवैधानिक मान्यता दिलाबै हेतु प्रतिबद्ध छै जेकरा लेली दिल्ली सहित पूरे देश म॑ गहन “अंगिका जनजागरण अभियान” केरऽ गतिविधि क॑ तेज करलऽ जैतै । अंगिका जागरण अभियान के तहत गाँव-गाँव जाय क॑ लोगऽ स॑ बातचीत के माध्यम स॑ अंगिका के बारे जागरूकता फैलैलऽ जैतै । ग्राम व नुक्कड़ सभा, हस्ताक्षर अभियान, चर्चा आदि केरऽ माध्यम स॑ लोगऽ क॑ ई अभियान स॑ जोड़लऽ जैतै । अखिल भारतीय अंगिका पत्रकार… Read More

अंगिका भाषा क॑ झारखंड केरऽ द्वितीय राजभाषा के दर्जा मिललै – देश केरऽ करोड़ों अंगिकाभाषी के बीच उत्साह के लहर

अंगिका भाषा क॑ झारखंड केरऽ द्वितीय राजभाषा के दर्जा मिललै – देश केरऽ करोड़ों अंगिकाभाषी के बीच उत्साह के लहर

राँची :एगो ऐतिहासिक घटनाक्रम म॑ अंगिका भाषा क॑ झारखंड केरऽ द्वितीय राजभाषा के दर्जा मिली गेलऽ छै । झारखंड केरऽ रघुवर दास कैबिनेट केरऽ बैठक म॑ एकरऽ घोषणा करलऽ गेलै । अंगिका भाषा क॑ झारखंड केरऽ द्वितीय राजभाषा के दर्जा मिलला स॑ देश केरऽ करोड़ों अंगिकाभाषी के बीच उत्साह के लहर व्याप्त भ॑ गेलऽ छै । झारखंड केरऽ रघुवर दास कैबिनेट केरऽ बैठक म॑ आय मगही, भोजपुरी, मैथिली तथा अंगिका क॑ झारखंड राज्य ककेरऽ द्वितीय भाषा घोषित करै लेली बिहार राजभाषा (झारखंड संशोधन) अध्यादेश 2018 के प्रारूप क॑ स्वीकृति द॑ देलऽ गेलै । ज्ञात छै कि एकरऽ पहिनै पूर्व झारखंड राज्य म॑ १२ भाषा – उर्दू, संथाली, मुंडारी, हो, खड़िया, कुरुख(उरांव), कुरमाली, खोरठा, नागपुरी, पंचपरगनिया, बांग्ला आरू उड़िया भाषा क॑ द्वितीय राजभाषा के दर्जा देलऽ जाय चुकलऽ छै । झारखंड सरकार केरऽ  ई फैसला क॑ महत्वपूर्ण आरू ऐतिहासिक बतैत॑ हुअ॑ अंगिका.कॉम केरऽ संस्थापक आरू अंगिका के विकास ल॑ समर्पित कुंदन अमिताभ न॑ झारखंड सरकार आरू करोड़ों… Read More

अंगिका, भोजपुरी व मगही शीघ्र बनतै दोसरऽ राजभाषा – रघुवर दास,माननीय मुख्यमंत्री, झारखंड

अंगिका, भोजपुरी व मगही शीघ्र बनतै दोसरऽ राजभाषा – रघुवर दास,माननीय मुख्यमंत्री, झारखंड

राँची । झारखंड राज्य म॑ अंगिका, भोजपुरी आरू मगही क॑ द्वितीय राजभाषा के दर्जा शीघ्र मिलतै । मुख्यमंत्री रघुवर दास न॑ ई संबंध म॑ अधिकारी सिनी क॑ जरूरी निर्देश जारी करन॑ छै । कार्मिक विभाग द्वारा एकरऽ प्रस्ताव तैयार करलऽ जैतै । इस प्रस्ताव क॑ कैबिनेट केरऽ अगला बैठक म॑ पेश करलऽ जाय के उम्मीद छै । अगर ई भाषा क॑ दोसरऽ राजभाषा के दर्ज मिलै छै त॑ बिहार स॑ सटलऽ झारखंड केरऽ कई जिला में रहै वाला लोगऽ क॑ नौकरी सब म॑ फायदा मिलतै ।   जोन भाषा क॑ पहनै सें झारखंड द्वितीय राजभाषा के दर्जा शामिल छै ओकरा म॑ बांग्ला, उर्दू आरू उड़िया शामिल छै । एकरऽ अलावे  नौ जनजातीय भाषा संथाली, मुंडारी, हो, खड़िया, कुरमाली, खोरठा, नागपुरी, पंचपरगनिया और कुड़ुख (उरांव) क॑ भी एकरा म॑ शामिल करलऽ गेलऽ छै । अंगिका भाषा, संथाल परगना क्षेत्र केरऽ देवघर, दुमका, गोड्डा, साहेबगंज आदि इलाका में बोललऽ जाय छै । भोजपुरी मुख्य रूप सें दक्षिणी छोटानागपुर… Read More

error: Content is protected !!