अंगिका

डॉ. चकोर स्मृति अंगिका भाषा-साहित्य संग्रहालय व शोध संस्थान केरऽ होलै उदघाटन

पटना : डॉ. नरेश पाण्डेय चकोर केरऽ याद मं॑ स्थापित डॉ. चकोर स्मृति अंगिका भाषा-साहित्य संग्रहालय व शोध संस्थान केरऽ उदघाटन  ९ अक्तूबर २०१६  क॑ हुनकऽ गाँधीनगर, बोरिंग रोड, पटना स्थित आवास पर समारोह पूर्वक सम्पन्न होलै । ज्ञातव्य छै कि डॉ. चकोर के निधन के पश्चात हुनकऽ आवास केरऽ एक हिस्सा क॑ हुनकऽ याद में ‘डॉ. चकोर स्मृति अंगिका भाषा-साहित्य संबंधित अंगिका समाचार पढ़ऽ / Read similar Angika News :बिहार केरऽ प्राइमरी इसकूली मं॑ माध्यम भासा के रूप…जाह्न्वी अंगिका संस्कृति संस्थान न॑ बिहार अंगिका…अंगिका भाषा का साहित्यिक परिदृश्यफऽल एक फैदा अनेक : इमलीपटना संग्रहालय केरऽ होतै विस्तार, करलऽ जैतै राहुल…सरकारी उपेक्षा केरऽ शिकार बिहार अंगिका अकादमी केरऽ…अंगिका क॑ साजिशमुक्त कराय क॑ एकरऽ विकास के पथ…अंगिका भाषा आंदोलन केरऽ पुरोधा आरू अंगिका साहित्य…विश्वस्तरीय बिहार संग्रहालय केरऽ कला दीर्घा सब के…स्थापना केरऽ साल भर बाद भी कागज प॑ ही चली रहलऽ छै…

बिहार अंगिका अकादमी अध्यक्ष केरऽ मुख्यमंत्री सं॑ गुहार – अविलंब दिलाबऽ दफ्तर,कर्मचारी आरू कोष

भागलपुर। बिहार अंगिका अकादमी केरऽ अध्यक्ष डॉ. लखन लाल सिंह आरोही न॑ मुख्यमंत्री क॑ चिट्ठी लिखी क॑ कहल॑ छै कि बिहार अंगिका अकादमी केरऽ गठन होला के एक वर्ष होय चुकलऽ छै  लेकिन शिक्षा विभाग केरऽ घोर उदासीनता के वजह सं॑ अखनी तलक अकादमी क॑ कार्यालय आवंटित नै करलऽ गेलऽ छै । जेकरा स॑ अकादमी के गठन केरऽ उद्देश्य पू……. संबंधित अंगिका समाचार पढ़ऽ / Read similar Angika News :सरकारी उपेक्षा केरऽ शिकार बिहार अंगिका अकादमी केरऽ…अंगिका क॑ साजिशमुक्त कराय क॑ एकरऽ विकास के पथ…जाह्न्वी अंगिका संस्कृति संस्थान न॑ बिहार अंगिका…स्थापना केरऽ साल भर बाद भी कागज प॑ ही चली रहलऽ छै…सरकार केरऽ अनुमति के बगैर ही चली रहलऽ छै तिलकामाँझी…अंगिका भाषा का साहित्यिक परिदृश्यझारखंड म॑ संताली, मुंडारी, हो, अंगिका, कुरमाली भाषा…अंगिका भाषा आंदोलन केरऽ पुरोधा आरू अंगिका साहित्य…बिहार अंगिका अकादमी केरऽ उद्देश्य क॑ धरातल प॑ उतारै…बिहार केरऽ प्राइमरी इसकूली मं॑ माध्यम भासा के रूप…

ओलिंपिक बैडमिंटन- पी वी सिंधु फाइनल म॑, सिल्वर मेडल पक्का, गोल्ड लेली मुकाबला कल शाम 7.30 बजे

पी वी सिंधु ओलिंपिक बैडमिंटन केरऽ फाइनल म॑, सिल्वर मेडल पक्का, गोल्ड लेली मुकाबला कल शाम 7.30 बजे । रक्षाबंधन केरऽ शुभ अवसर पर एकरा सं॑ अच्छा आरू की उपहार हुअ॑ सक॑ छै देश लेली । साक्षी मलिक के बाद पी वी सिंधु केरऽ ओलिंपिक मं॑ धमाल । रियो (बैडमिंटन) के फाइनल म॑ पहुँची क॑, सिल्वर मेडल पक्का करै लेली आभार संबंधित अंगिका समाचार पढ़ऽ / Read similar Angika News :अंगिका भाषा आंदोलन केरऽ पुरोधा आरू अंगिका साहित्य…बिहार केरऽ प्राइमरी इसकूली मं॑ माध्यम भासा के रूप…स्थापना केरऽ साल भर बाद भी कागज प॑ ही चली रहलऽ छै…फीफा अंडर-१७ कप फाइनल म॑ शनिचर क॑ होतै इंग्लैंड आरू…सरकारी उपेक्षा केरऽ शिकार बिहार अंगिका अकादमी केरऽ…अंगिका भाषी सांसद अश्विनी कुमार चौबे केंद्रीय राज्य…जाह्न्वी अंगिका संस्कृति संस्थान न॑ बिहार अंगिका…फऽल एक फैदा अनेक : इमलीअंग देश केरऽ बेटी श्रेयसी सिंह न॑ राष्ट्रमंडल खेल म॑…ओलंपिक मेडल केरऽ इंतजार भेलै खतम, साक्षी मलिक…

देस-विदेस केरऽ कोय भी कोना मं॑ रही क॑ अंगिका भाषा के पढ़ाय अब॑ नालंदा ओपन यूनिवर्सिटी स॑

देस-विदेस केरऽ कोय भी कोना मं॑ रही क॑ अंगिका भाषा के पढ़ाय अब॑ नालंदा ओपन यूनिवर्सिटी स॑

भागलपुर: देस-विदेस केरऽ कोय भी कोना मं॑ रही क॑ अंगिका भाषा के पढ़ाय करै के सपना अब॑ जल्दिये हकीकत बनै ल॑ जाय रहलऽ छै । बिहार स्थित नालंदा खुला विश्वविद्यालय न॑ अंगिका भाषा के पढ़ाय लेली दिलचस्पी देखैन॑ छै । ई सिलसिला मं॑  बिहार अंगिका अकादमी केरऽ अध्यक्ष प्रो (डॉ.) लखनलाल सिंह आरोही स॑ नालंदा खुला विश्वविद्यालय केरऽ कुलपति प्रो[Read More…] संबंधित अंगिका समाचार पढ़ऽ / Read similar Angika News :अंगिका भाषा क॑ संविधान के आठमऽ अनुसूची म॑ शामिल…अंगिका भाषा का साहित्यिक परिदृश्यसरकार केरऽ अनुमति के बगैर ही चली रहलऽ छै तिलकामाँझी…सरकारी उपेक्षा केरऽ शिकार बिहार अंगिका अकादमी केरऽ…राजगीर महोत्सव केरऽ हास्य कवि सम्मेलन म॑ अंगिका…अंगिका क॑ साजिशमुक्त कराय क॑ एकरऽ विकास के पथ…अंगिका भाषा आंदोलन केरऽ पुरोधा आरू अंगिका साहित्य…जाह्न्वी अंगिका संस्कृति संस्थान न॑ बिहार अंगिका…स्थापना केरऽ साल भर बाद भी कागज प॑ ही चली रहलऽ छै…बिहार केरऽ प्राइमरी इसकूली मं॑ माध्यम भासा के रूप…

अंगिका को अष्टम अनुसूची में शामिल करने की आनाकानी समझ से परे | कुंदन अमिताभ

–  कुंदन अमिताभ, संस्थापक व प्रधान संपादक – अंगिका.कॉम – ई-मेल – kundan.amitabh@angika.com  मो. – 9869478444 यह एक अनबूझ पहेली सी ही है कि बिहार, झारखंड, पं. बंगाल के लगभग छह करोड़ भारतीयों द्वारा बोली जाने वाली भाषा अंगिका को अब तक भारत के संविधान की अष्टम अनुसूची में शामिल नहीं किया गया है. जबकि तथ्य यह है कि विश्व के प्राचीनतम भाषाओं में से एक अंगिका भारत के अलावा नेपाल, कंबोडिया, वियतनाम, लाओस आदि देशों में बोली जाने वाली एक अंतर्राष्ट्रीय भाषा है. यह एक अत्यंत गंभीर और विचारणीय विषय है कि आजादी के इतने बरसों के बाद भी एक विशाल जनसमुदाय की भाषा अंगिका अपने वाजिब हक से वंचित क्यों है. पर्याप्त पात्रता और ठोस आधार होने के बावजूद अंगिका को अष्टम अनुसूची में शामिल करने में भारत सरकार द्वारा किया जा रहा अप्रत्याशित विलंब समझ से परे है. अष्टम अनुसूची में भाषा को शामिल करने हेतु निर्धारित मापदंड भारत सरकार द्वारा कोई… Read More

सरह / सरहपा केरऽ बौद्ध महामुद्रा निर्देश – लामा कुंगा चोऐदक द्वारा पठित

 लामा कुंगा चोऐदक द्वारा पठित सरह (सरहपा) केरऽ बौद्ध महामुद्रा निर्देश  Buddhist Mahamudra instruction of Saraha, recited by Lama Kunga Choedak  Reference: https://www.youtube.com/watch?v=1zXfa-ZWvSQ&feature=youtu.be  संबंधित अंगिका समाचार पढ़ऽ / Read similar Angika News :अंग देश केरऽ बेटी श्रेयसी सिंह न॑ राष्ट्रमंडल खेल म॑…फऽल एक फैदा अनेक : इमलीअंगिका भाषा आंदोलन केरऽ पुरोधा आरू अंगिका साहित्य…अंगिका क॑ साजिशमुक्त कराय क॑ एकरऽ विकास के पथ…राजगीर महोत्सव केरऽ हास्य कवि सम्मेलन म॑ अंगिका…अंगिका भाषा क॑ संविधान के आठमऽ अनुसूची म॑ शामिल…जाह्न्वी अंगिका संस्कृति संस्थान न॑ बिहार अंगिका…सरकारी उपेक्षा केरऽ शिकार बिहार अंगिका अकादमी केरऽ…बिहार अंगिका अकादमी केरऽ उद्देश्य क॑ धरातल प॑ उतारै…अंगिका भाषा क॑ संविधान के आठमऽ अनुसूची म॑ शामिल…

गीतिका – धमपा / धर्मपा

गीतिका – धमपा / धर्मपा– कम-कुलिश माँझे भमई लेली । समता जोएँ जलिल चण्डाली ।। डाह डोम्बिधरे लागेलि आगी । ससहर लइ सिंचुहु पाणी।। णउ खरे जाला धूम ण दी सइ । मेरू सिहर लइ गअण पइ सइ ।। दाढइ हरिहर ब्राह्मण नाडा (भठ्ठा) । दाढँइ नव-गुण शासन पाडा (पट्ठा) ।। भणइ धाम फुड़ लेहुरे जाणी । पंचनाले ऊठे (ऊध) गेल पाणी ।। Angika Poetry :गीतिका (Geetika) Poetry from Angika Poetry Book : Poet : धमपा / धर्मपा (Dhampa / Dharmpa ) Reference Books / Articles : Hindi Kavya Dhara –  Mahapandit Rahul Sankritiyan, Angika Bhasha Aour Sahitya (Panchdash Lokbhasha Nibandhavali – Published by Bihar Rashtrabhasha Parishad, Patna in the year 1960) – Dr. Maheshwari Singh Mahesh संबंधित अंगिका समाचार पढ़ऽ / Read similar Angika News :सुखरात मॆं आतिशबाजी सॆं निजातअंगिका काव्य और कवि‘भारतीय संविधान की आठवीं अनुसूची और विश्व की…फणीश्वरनाथ रेणु केरऽ कहानी ‘पंचलाइट’ प॑ आधारित फिल्म…सरकारी उपेक्षा केरऽ शिकार बिहार अंगिका अकादमी केरऽ…नरेंद्र मोदी बनलॆ देश के 15वाँ प्रधानमंत्री, आज…फऽल एक फैदा अनेक… Read More

Wordsmith weaves magic at meet – Poet focuses on regional languages, their presence in his next book

Wordsmith weaves magic at meet – Poet focuses on regional languages, their presence in his next book

On Day 2 of the Patna Literature Festival, Shambhavi Singh of The Telegraph caught up with prolific writer-cum-poet-filmmaker Gulzar at a city hotel. In the city to attend an interactive session with culture aficionados and budding authors, the man whose pen creates magic, talked about reading habits, the focus on regional languages and his upcoming literary projects. You have attended two consecutive literature festivals in Patna. How do you find the readers? There is a large number of readers of Indian languages here in Patna. English books sell like hot cakes, but we can’t deny that the Patna Book Fair registers sale of Hindi books in the range of thousands every day. Only here, in Patna, will you meet a reader who might have read a book two decades ago but will remember the second line of the third chapter. Be it the autorickshaw driver or the chaiwallah — they will save money to buy… Read More

अंग देश केरॊ स्थानीय कलाकारॊ सीनी कॆ प्राथमिकता मिलतै ‘ऐलै हो मिलन के बेला’ मॆं

अंग विश्व सांई छाया बैनर तलॆ नवनिर्माणाधीन अंगिका फिल्म,’ ऐलै हो मिलन के बेला ‘ केरॊ निर्माण मॆं अंग देश केरॊ स्थानीय कलाकारॊ सीनी कॆ प्राथमिकता देलॊ जैतै. अंगिका फिल्म ‘ ऐलै हो मिलन के बेला ‘जुलाई-2014 तक रिलीज होय जैतै. इ कहना छै  फिल्म केरॊ निर्माता-निदेशक  राजीव रंजन दास के. अंगिका.कॉम सॆं बातचीत करतॆं हुऎ श्री राजीव रंजन दास नॆ कहलकै कि अंग देश क्षेत्र मॆं काफी प्रतिभावान कलाकार सीनी  छै, जेकरॊ प्रतिभा के सही उपयाग नै होय रहलॊ छै. ऐन्हॆ प्रतिभा सभ कॆ पहचान करी कॆ ओकरा अंगिका फिल्म उद्योग सॆं जोड़ै के जरूरत छै. सही प्रतिभा के खोज लेली हुनी अंग क्षेत्र के विभ्न्न भागॊ के व्यापक दौरा भी करलकै. ‘ ऐलै हो मिलन के बेला ‘ मॆं स्थानीय कलाकार, गौरव गर्ग, कौशल किशार मिश्रा, आरू नवनीता वर्मा, सानवी झा कॆ क्रमशः  मुख्य अभिनेता आरू अभिनेत्री के रोल मिलै के संभावना छै. हालाँकि मुख्य अभिनेत्री के नाम तय करना अभी शेष छै. श्री राजीव रंजन दास के अनुसार मेन हिरोइन के तलाश जल्दिये पूरा होय जैतै.… Read More

चार-चार अंगिका फिल्म निर्माण के राजीव रंजन दास केरॊ महत्वाकांक्षी योजना

चार-चार अंगिका फिल्म निर्माण के राजीव रंजन दास केरॊ महत्वाकांक्षी योजना

मुंबई :अंगिका भाषा सिनेमा केरॊ ऐगॊ नया युग  शुरू होय वाला छै जबॆ आबै वाला समय मॆं अंगिका भाषा मॆं एक सॆं बढ़ी कॆ एक उत्कृष्ट आरू मनोरंजक सिनेमा निर्मित होय कॆ सिनेमा घरॊ मॆं प्रदर्शित करलॊ जैतै.  केवल ‘अंग विश्व सांई छाया’ द्वारा ही चार-चार अंगिका फिल्म निर्माण के योजना छै. जेकरा मॆं प्रमुख छै – ‘ऐलै हो मिलन के बेला’, ‘जहियो नै हमरा सॆं दूर’, ‘रंगॊ मॆं तोरे रंगी गेलॊं हो’. एगॊ अन्य फिल्म केरॊ नाम अभी तय होना शेष छै. चारॊ फिल्म केरॊ निर्माता-निदेशक  राजीव रंजन दास केरॊ कहना छै कि नवनिर्माणाधीन अंगिका फिल्म,”ऐलै हो मिलन के बेला” जुलाई-2014 तक रिलीज होय जैतै. श्री  दास कॆ फिल्म निर्माण केरॊ क्षेत्र मॆं एक लम्बा अनुभव छै आरू फिल्म निर्माण केरॊ बारीकी के बड़ा बढ़िया समझ छै. श्री  प्रकाश झा के साथ मुख्य सहायक निर्देशक केरॊ रूप मॆं काम करी चुकलॊ  श्री राजीव रंजन दास कॆ 1993 ई. सॆं ही प्रकाश झा सथॆं काम करै के मौका मिलतॆं रहलॊ छै. हिनकॊ… Read More

error: Content is protected !!