Angika Literature

सरह / सरहपा केरऽ बौद्ध महामुद्रा निर्देश – लामा कुंगा चोऐदक द्वारा पठित

 लामा कुंगा चोऐदक द्वारा पठित सरह (सरहपा) केरऽ बौद्ध महामुद्रा निर्देश  Buddhist Mahamudra instruction of Saraha, recited by Lama Kunga Choedak  Reference: https://www.youtube.com/watch?v=1zXfa-ZWvSQ&feature=youtu.be  संबंधित अंगिका समाचार पढ़ऽ / Read similar Angika News :बिहार केरऽ प्राइमरी इसकूली मं॑ माध्यम भासा के रूप…सरकारी उपेक्षा केरऽ शिकार बिहार अंगिका अकादमी केरऽ…अंगिका भाषा आंदोलन केरऽ पुरोधा आरू अंगिका साहित्य…जाह्न्वी अंगिका संस्कृति संस्थान न॑ बिहार अंगिका…स्वतंत्रता दिवस – २०१६ ई.,२०१५ ई.,२०१४ ई. केरऽ अवसर…सरकार केरऽ अनुमति के बगैर ही चली रहलऽ छै तिलकामाँझी…

गीतिका – धमपा / धर्मपा

गीतिका – धमपा / धर्मपा– कम-कुलिश माँझे भमई लेली । समता जोएँ जलिल चण्डाली ।। डाह डोम्बिधरे लागेलि आगी । ससहर लइ सिंचुहु पाणी।। णउ खरे जाला धूम ण दी सइ । मेरू सिहर लइ गअण पइ सइ ।। दाढइ हरिहर ब्राह्मण नाडा (भठ्ठा) । दाढँइ नव-गुण शासन पाडा (पट्ठा) ।। भणइ धाम फुड़ लेहुरे जाणी । पंचनाले ऊठे (ऊध) गेल पाणी ।। Angika Poetry :गीतिका (Geetika) Poetry from Angika Poetry Book : Poet : धमपा / धर्मपा (Dhampa / Dharmpa ) Reference Books / Articles : Hindi Kavya Dhara –  Mahapandit Rahul Sankritiyan, Angika Bhasha Aour Sahitya (Panchdash Lokbhasha Nibandhavali – Published by Bihar Rashtrabhasha Parishad, Patna in the year 1960) – Dr. Maheshwari Singh Mahesh संबंधित अंगिका समाचार पढ़ऽ / Read similar Angika News :बिहार केरऽ प्राइमरी इसकूली मं॑ माध्यम भासा के रूप…झारखंड कर्मचारी चयन आयोग (जे.एस.एस.सी)- टी.जी.टी.…सरकार केरऽ अनुमति के बगैर ही चली रहलऽ छै तिलकामाँझी…प्रांतीय काव्योत्सव म॑ अंगिका कवि सब न॑ अर्पित करलकै…पटना संग्रहालय केरऽ होतै विस्तार, करलऽ जैतै राहुल…उमाकांत झा… Read More

अंगिका भाषा के जनक

अंगिका भाषा के जनक

जादुई व्यक्तित्व, निश्छल एवं अलौकिक मुस्कराहट वाले डॉ. परमानंद पांडेय ने अंगिका को वैसे तराशा, जैसे कोई जौहरी किसी बेडौल-बेजान पत्थर को तराशता है. वह एक संवेदनशील कवि हैं. उनके रचनात्मक व्यक्तित्व ने साहित्य सर्जकों, पाठकों एवं प्रशंसकों को काफी अभिभूत किया है. अंगिका व्याकरण, अंगिका भाषा, अंगिका वर्तनी, अंगिकांजलि, अंगिका और भोजपुरी भाषाओं का तुलनात्मक अध्ययन, हिंदी और अंगिका का अंतर्संबंध आदि अपनी श्रेष्ठ कृतियों से डॉ. पांडेय ने अंगिका का भंडार समृद्ध कर दिया. परमानंद पांडेय को इस सदी का सर्वश्रेष्ठ भाषा वैज्ञानिक मानकर उनकी उपलब्धियों पर आज गर्व किया जा रहा है. आज अंगिका भाषा-भाषी क्षेत्रों का जो मानचित्र जहां-तहां पत्र-पत्रिकाओं में छप रहा है, वह भी डॉ. पांडेय का ही बनाया हुआ है, जो उन्होंने अपनी डी. लिट की थीसिस-अंगिका का भाषा वैज्ञानिक अध्ययन में बनाकर भागलपुर विश्वविद्यालय को दिया था. भागलपुर में आकाशवाणी केंद्र भी डॉ. पांडेय की देन है. पांडेय ने भागलपुर विश्वविद्यालय में अंगिका की पढ़ाई प्रारंभ करने… Read More

अंगिका काव्य और कवि

अंगिका उस अंग महाजनपद की भाषा है, जिसे पुराणों में अंगदेश के नाम से भी जाना गया है, जिस देश :क्षेत्र, की नींव बली के पुत्र अंग ने अपने नाम पर रखी थी और कि जिस चक्रवर्ती अंग के संबंध में यह कथन है कि उसने सम्पूर्ण पृथ्वी को जीतकर अश्वमेध यज्ञ किया था। ‘अंग समन्तं सर्वतः पृथ्वीं जयन्परीयायाश्वेन च मेध्येनेज इति।’ :ऐतरेय ब्राह्मण-ण्ण्ण्९/८/२१,। चक्रवर्ती सम्राटों की संख्या अंग जनपद में कम नहीं रही है। चक्रवर्ती अंग के ही वंश में पृथु का जन्म हुआ, जो न केवल राजसूय यज्ञ से अभिसिक्त होने वाला प्रथम राजा हुआ, बल्कि अपने यशोगान से प्रसन्न होकर सूत को अनूप देश और मगध को मगध देश दे दिया था। इन पौराणिक कथाओं पर वाद-विवाद हो सकता है, लेकिन इतना तो स्पष्ट है कि अंग की स्थापना ऋग्वेद काल में ही चुकी थी, इसे एक स्वर से  सभी इतिहासकार स्वीकार करते हैं। :देखें-राधा कृष्ण चैधरी/हिस्टंी आॅफ बिहार/१९५८ पृ.ण्ण्ण्ण्ण्ण्॰, ‘संस्कृति के चार अध्याय’ में… Read More

Angika Magazines

The “ Ang Madhuri” is the first monthly magazine of Angika language. “Ang Madhuri” is being published regularly by Shekhar Prakashan, Patna since last 44 years. Its first issue was published in December 1970. Dr. Naresh Pandey Chakore is the Editor of this magazine since its inception. This magazine is on the verge of creating a history in the field of literary Hindi and languages of Bihar, for its continuous publication over such a long period. However, “Angika” a quarterly was the pioneer of the magazines in Angika language, which was first published in October 1970. Dr. Permanand Pandey was Editor andDr.Naresh Pandey Chakore was the Managing Editor of this quarterly magazine. Unfortunately, only four issues of this magazine could be published. The first weekly of angika language ‘Angika Samachar’ was published from Bhagalpur in the year 1964. It was closed after publication of few regular issues. The first e-magazine of Angika “Ang – Prasang” is being published under the editorship of Kundan Amitabh . Among others “ Aangi” and “ Aangi Prabha” both quarterly magazines under the editorship… Read More

इंगलैंड के अंतर्राष्ट्रीय बहुभाषीय संगोष्ठी में अंगिका भाषा : अंतर्राष्ट्रीय मंच पर अंगिका भाषा का प्रथम व्याख्यान

इंगलैंड के अंतर्राष्ट्रीय बहुभाषीय संगोष्ठी में अंगिका भाषा : अंतर्राष्ट्रीय मंच पर अंगिका भाषा का प्रथम व्याख्यान

बरमिंघम : अंगिका भाषा साहित्य के क्षेत्र में एक नया इतिहास रचा गया है. इंगलैंड के दूसरे सबसे बङे शहर बरमिंघम में 27 से 29 अगस्त तक आयोजित अंतर्राष्ट्रीय बहुभाषीय संगोष्ठी, IMS-2005, में अंगिका के साहित्यकार श्री कुंदन अमिताभ द्वारा अंगिका भाषा में आलेख और कवितायें पढीं गईं. किसी विदेशी भूमि पर आयोजित किसी अंतर्राष्ट्रीय स्तर के कार्यक्रम में अंगिका भाषा की रचनायें पढी जाने का यह पहला मौका था. श्री अमिताभ को संगोष्ठी में अंगिका एवं अंग्रेजी में अपनी रचनायें पढ़ने के लिये विशेष रूप से आमंत्रित किया गया था. उनकी इस ऐतिहासिक भागीदारी से बिहार एवं अंग की संस्कृति तथा अंगिका भाषा को अंतर्राष्ट्रीय स्तर पर एक नई पहचान हासिल हुई है.  बिड़ला इंस्टीच्यूट ऑफ टेक्नोलॉजी से इंजीनियरिंग की डिग्री हासिल करने वाले हिन्दी, अंग्रेजी एवं अंगिका के लेखक श्री कुंदन अमिताभ पिछले चौबीस बर्षों से अंगिका-साहित्य सृजन में लगे हैं और फिलहाल मुम्बई के एक कंसल्टिंग कम्पनी में सीनीयर रेजीडेंट इंजीनियर के पद… Read More

अंगिका भाषा का साहित्यिक परिदृश्य

केवल लिखित साहित्य को ही आधार मानें तो अंगिका भाषा में साहित्य निर्माण की समृध्द परम्परा प्राचीन काल से ही सतत रूप से जारी है, जो प्रामाणिक रूप से पिछले तेरह सौ वर्षों के कालखंडों में बिखरा पड़ा है. महापंडित राहुल सांकृत्यायन के अनुसार हिन्दी भाषा के लिखित साहित्य का प्राचीनतम स्वरूप ‘अंग’ के प्राचीन सिध्द कवि ‘सरह’ की आठवी सदी में लिखी अंगिका-अपभ्रंश भाषा की रचनाओं में उपलब्ध है. अगर वैदिक संस्कृत में सृजित साहित्य के प्रारंभिक वर्षों को भारतीय भाषाओं में साहित्य लेखन की शुरूआत मानी जाय तो ‘अंगिका’ भाषा में साहित्य निर्माण का कार्य आज से चार हजार वर्ष पूर्व शुरू हो चुका था. अंगिका में लिखित एवं अलिखित दोनों ही तरह के साहित्य प्रचुर मात्रा में उपलब्ध हैं. आज की स्थिति यह है कि अंगिका भाषा का अपना वेब पोर्टल अंगिका.कॉम बर्ष 2003 से अस्तित्व में हैं. साथ ही अंगिका भाषा में गुगल.क़ॉम जैसा विश्व के अव्वल दर्जे का सर्च इंजन… Read More

Anga Tourism

Anga Desh has many important places of Tourism interest. Click below to know the details: TOURISM ZONE PLACES OF INTEREST Banka Durian , Indrabaran , Jesth Gaur math , Papharni Tank , Rupsa , Bhagalpur Patharghatta Hill , Shahkund , Sultanganj , Champanagar, Vikramshila , Munger International Yoga University , Munger Fort , Tomb of Pir Shah Nufa , Palace of Shah Suja , Tomb of Mulla Muhammad Said ,Kashtaharni Ghat , Chandi Asthan , Rock carving , Kharagpur Lake , Rameshwar Kund , Pir Pahar , Sita-Kund , Shringhrishi ,Rishikund , Ha-Ha Punch Kumari , Uren ( Buddhist Ruins , Foot print mark and rock inscriptions , Stupa ruins near the footprint mark , The rock carvings near the Stupa site , Buddhist Monastery site at northeastern foot of the hill ), Rajaona ,Bhaduria-bhur , Bhimbandh , Malnipahar , Deoghara , Sangrampur , Jamui Lachhuar , Kundghat , Malachi Gadh , Gidheshwar , Indpe , Simultala , Katihar Baldibari , Belwa , Dubhi-Subhi , Kalyani Lake , Manihari , Nawabganj , Gogabil Lake , Araria Palasi , Basaithi , Madanpur , Begusarai Birpur, Chamtha , Jaimangalagarh , Jhamtia Ghat , Kishanganj Andhasu , Dighalbank , Jiran Garh , Tulshia , Madhepura Chandi Asthan, Singheshwar Asthan , Srinagar , Ramnagar , Basantpur , Biratpur , Baba Karu Khirhar , Purnia Purandevi Temple , Banaili , Barah Asthan , Bhawanipur , Dharhara , Gulab Bag , Majra , Nawada Kakolat , Gonava jee , Sitamarhi , Had-Hadwa Waterfall , Vikramshila Vikramshila University Excavation Site Kahalgaon NTPC Plant , Sahibganj Pakud Siddhu-Kanhu Park, Birkitti, Devinagar, Hot Spring, Kanchangarah, Nityakali Mandir, Shiv Sheetla Mandir, Mahakal Shakti Pith,Diwan-e-Pir, Dharni-Pahar Godda Dumka Baba Basukinath Dham, Baba Sumeshwarnath, Naag Mandir, Mayurakshi River, Masanjore Dam, Tatloi, Water Park, Shristi Hill Park, Malooti, Hill Range Deoghar Baidyanath Dham Temple, Shivganga, Nandan Hills, Naulakha Temple, Kundeshwari Temple, Nav… Read More

Anga Lipi (अंग लिपि)

Anga referred to a region in what is now Bihar, Jharkhand, West Bengal states of India, and Lipi meant script. [1] Anga Script is mentioned in an ancient Sanskrit language Buddhist book “Lalitvistar” (ललितविस्तर), which says Anga Lipi was one of the most important scripts among 64 other scripts of that time. The script was specific to the Anga region, or Anga Mahajanapada, and was among those known to Buddha.[2] The script was mentioned as the fourth most important script of Ancient India, and was used to write Anga Desh-Apbhramsa or Aangi, now Angika, around 600 BC.[3] Some of the sixty four scripts mentioned in “Lalitvistar” were mythical, but some, including Dravid, Anga and Banga, were real.[4] Characteristics & Comparison Anga Lipi and Banga Lipi might have been derived from Brahmic, with some regional characteristics.[5] This supports the belief that the development of local characteristics in alphabets, was continuing from earlier times.It reflects the early… Read More

Angika Language

Angika Language Part – 1 *** Angika Language Part – 2 Angika Language (Part-2) – अंगिका भाषा (भाग -२) Angika is considered as one of the  oldest languages of Hindi family. According to Pundit Rahul Sankritiyayan, the evidences of oldest form of written Hindi literatures are available in the Sarah’s Angika poetries of 800 A.D. The first poet of Hindi literature, Saraha, was also the first poet of the Angika language and literature. Saraha belongs to the 8th century, and is the first poet whose poetry is available in written form. Classification : Indo European – Indo Iranian – Indo Aryan – Eastern zone – Bihari – Angika ISO 639-2 & ISO/DIS 639-3 Code for Angika Language : anp Angika is written in the Anga Lipi, Kaithi, and Devnagri scripts. Angika is among very few languages of India and world in which a Search Engine (Google-Angika) has been developed and is available for public use… Read More

error: Content is protected !!