7 days ago
उधाडीह गाँव मँ मनैलौ गेलै शौर्य चक्रधारी अंग गौरव शहीद निलेश कुमार नयन केरौ शहादत दिवस | New in Angika
1 week ago
गिनीज बुक ऑफ वर्ल्ड रिकॉर्ड मँ जग्घौ बनाबै लेली आय 122 भाषा के गाना कार्यक्रम मँ अंगिका मँ भी गैतै पुणे केरौ मंजुश्री ओक | News in Angika
3 weeks ago
अंगिका भाषा क आठमौ अनुसूची मँ दर्ज कराबै लेली दिसम्बर मँ दिल्ली मँ होय वाला आन्‍दोलन क सफल बनाबै के करलौ गेलै आह्वान | News in Angika
3 weeks ago
अंगिका आरू हिन्दी केरौ वरिष्ठ कवि व गीतकार, कविरत्न महेन्द्र प्र.”निशाकर” “दिनकर सम्मान” सँ सम्मानित  | News in Angika Angika
1 month ago
चाँद पर विक्रम लैंडर के ठेकानौ के लगलै पता, पर अखनी नै हुअय सकलौ छै संपर्क | ISRO found Vikram on surface of moon, yet to communicate | Chandrayaan 2 | News in Angika

तिलकामाँझी भागलपुर विश्वविद्यालय केरौ अंगिका विभाग मँ अंगिका के आदि कवि ‘सरहपा’ केरौ जयंती समारोहपूर्वक मनैलौ गेलै ।| Birth Anniversary of legendary Angika Poet Sarahpa was celebrated in Angika Department of Tilkamanjhi Bhagalpur University.

भागलपुर, २८ जुलाई, २०१९ । काल २७ जुलाय क तिलकामाँझी भागलपुर विश्वविद्यालय केरौ  स्नातकोत्तर अंगिका विभाग मँ अंगिका के आदि कवि ‘सरहपा’ केरौ जयंती समारोहपूर्वक मनैलौ गेलै ।

तिलकामाँझी भागलपुर विश्वविद्यालय केरौ  स्नातकोत्तर अंगिका विभाग व अखिल भारतीय अंगिका साहित्य कला मंच केरौ संयुक्त तत्वाधान मँ आयोजित ई कार्यक्रम के अध्यक्षता अखिल भारतीय अंगिका साहित्य कला मंच के राष्ट्रीय अध्यक्ष डॉ. मधूसूदन झा नँ करलकै । कार्यक्रम केरौ उद्घाटन मुख्य अतिथि अनिरूद्ध प्रभास , प्रेम प्रभाकर, डॉ. आमोद कुमार मिश्र आरू मंच के महामंत्री हीरा प्रसाद हरेंद्र नँ सामूहिक रूप सँ दीप प्रज्वलित करी क करलकै । मंच संचालन गीतकार राजकुमार नँ करलकै ।

समारोह क संबोधित करै वाला मँ डॉ. मधूसूदन झा, हीरा प्रसाद हरेंद्र, अनिरूद्ध प्रभास, डॉ. अमरेंद्र, सुधीर प्रोग्रामर, डॉ. आमोद कुमार मिश्र, प्रेम प्रभाकर आरिन शामिल छेलै ।

सामारोह मँ कवि गोष्ठी भी होलै जेकरा मँ भाग लै वाला कवि सिनी मँ शामिल छेलै-  दिनेश कुमार तपन, प्रेमचंद पांडे, महेंद्र निशाकर, त्रिलोकीनाथ दिवाकर, डॉ. नवीन निकुंज, महेंद्र मयंक, प्रीतम विश्वकर्मा कवियाठ, धीरज पंडित, गौतम सुमन, उलूपी झा, अनिरूद्ध प्रभास, हीरा प्रसाद हरेन्द्र, राजकुमार आरिन नँ आपनौ-आपनै रचना सुनैलकै ।

Comments are closed.

error: Content is protected !!