बिहार अंगिका अकादमी के कार्यालय भवन के नाम अंग भवन रहतै आरू ओकरऽ दीवार मंजूषा कला स॑ अलंकृत रहतै।

स्थापना केरऽ तीन साल सें भी जादे वक्त बितला के बाद आखिरकार बिहार अंगिका अकादमी क॑ स्वतंत्र कार्यालय मिली गेलऽ छै । आपनऽ फेसबुक केरऽ माध्यम स॑ अंगिका अकादमी अध्यक्ष न॑ १ दिसंबर-२०१८ क॑ जानकारी देन॑ छै कि बिहार अंगिका अकादमी केरऽ कार्यालय वासतें सरकार स॑ पटना के महेन्द्रू इलाका म॑ एस.सी.आर.टी.परिसर म॑ एगो भव्य कमरा आवंटित होय गेलै, जेकरो पत्र अध्यक्ष क॑ ३० नवंबर,२०१८ क॑ मिली गेलै । अब॑ कार्यालय के जल्दी उद्घाटन वासतें व्यवस्था होय रहलऽ छै ।

५ दिसंबर -२०१८ क॑ फेसबुक के माध्यम सें ही हुनी जानकारी देन॑ छै कि बिहार अंगिका अकादमी के कार्यालय भवन के नाम ‘अंग भवन’ रहतै आरू ओकरऽ दीवार मंजूषा कला स॑ अलंकृत रहतै।

 

बिहार अंगिका अकादमी क॑ कार्यालय मिलला प॑ बधाई आरू शुभकामना देतें हुअ॑ अंगिका.कॉम केरऽ संस्थापक कुंदन अमिताभ न॑ कहन॑ छै कि निश्चित रूप स॑ ई माननीय अध्यक्ष डॉ. लखन लाल आरोही केरऽ सतत परिश्रम व प्रयास केरऽ ही नतीजा छेकै जे अंगिका अकादमी क॑ एगो बड़ऽ रकम के स्वतंत्र कार्यालय उपलब्ध करैलऽ गेलऽ छै । हुनी कहलकै कि काफी विलंब स॑ मिललऽ ई प्रतिफल सें सब्भे अंगिका भाषी केरऽ तरफऽ स॑ करलऽ गेलऽ व्यक्तिगत प्रयास भी फलीभूत होत॑ नजर आबै छै ।

श्री अमिताभ के अनुसार असल सवाल त॑ ई छै कि नीतिश जी केरऽ राज म॑ हुनके द्वारा करलऽ गेलऽ घोषणा प॑ अमल करै म॑ तीन साल सें भी जादे के वक्त कैन्हें लगी गेलै ? आरू अफसरशाही केरऽ यह॑ रवैय्या आगू भी जारी नै रहतै एकरऽ की गारंटी छै ?

Comments are closed.

error: Content is protected !!