Articles by: Kundan Amitabh

मोदी केरॊ ताजपोशी आज

मोदी केरॊ ताजपोशी आज,राष्ट्रपति कॆ भेजलॊ गेलै कैबिनेट केरॊ लिस्ट

नई दिल्ली : राष्ट्रपति भवन केरॊ विशाल प्रांगण मॆं नरेन्द्र मोदी सैंकड़ों देशी-विदेशी मेहमानॊ के मौजूदगी मॆं देश केरॊ 15वाँ प्रधानमंत्री के तौर पर शाम 6 बजे शपथ ग्रहण करतै. मोदी केरॊ ताजपोशी के लेली सब तैयारी कॆ अंतिम रूप देलॊ जाय रहलॊ छै. आरू सुरक्षा चाक-चौबंद करलॊ जाय रहलॊ छै. हालाँकि इ समारोह पर बारिश केरॊ साया मंडराय रहलॊ छै[Read More...]

by May 26, 2014 Comments are Disabled State and National News
गीतिका – शवरपा

गीतिका – शवरपा

गीतिका – शवरपा– ऊचा ऊचा परबत तहि बसहू सबरी बाली । मोरंगि पिच्छ  परिहिण शबरी जीवत गुंजरी माली।। उमत शबरो पागल शबरो माकर गुली गुहाडा । तोहारि पिअ धरिणी नामे सहज सुन्दरी ।। नाना तरूवर मोंउलिल रे गणअत लागें लिडाली । एकेलि सबरी ए वण हिंडइ कर्ण कुंडल वज्रधारी ।। तिअ धाउ खाट पडिला सबेरा महासुहे सेज छाइली । सबर[Read More...]

गीतिका – सरह / सरहपा

गीतिका – सरह / सरहपा

गीतिका – सरह / सरहपा– नाद न बिन्दु न रवि-शशि मंडल चीआ राअ सहावे मूकल । उज्ररे उजु छडि मा लेहु बंक, निउडि बोहिमा जन्हुरे लंक ।। हाथेर कंकण मा लेहुं दप्पण अपने आपा बुझतु निअयण । पार उठ्यारें सोई मजिई, दुज्जण संगे अवसरि जई ।। बाम-दहिण जो खाला दिखाला, सरह भणइ बप । उजु चट भाला ।। Angika Poetry[Read More...]

दोहा – सरह / सरहपा

दोहा – सरह / सरहपा

दोहा – सरह / सरहपा– जाव ण आइ जणिज्जइ, तखम सिस्स करेई। अन्धाँ अन्ध कठाव तिम, वेणण कि कूव पडेई ।। णउतं बाआहि गुरू कहइ, णउतं बु ज्झई सीस । सहजा मिअ-रसु सकल जग, कासु कहिज्जइ कीस ।। Angika Poetry : दोहा (Doha) Poetry from Angika Poetry Book : दोहाकोश (Dohakosh) Poet :सरह / सरहपा  (Sarah / Sarahpa ) Reference Books /[Read More...]

कश्मीर केरॊ लॊर

कश्मीर केरॊ लॊर

कश्मीर केरॊ लॊर —– कुंदन अमिताभ —– नद्दी उफनी-उफनी कॆ शहर मॆं बहै छै लहू अबॆ नस मॆं नै सङक पर बहै छै. डार सुखलॊ प्यार के पत्ता झरी गेलै बीयाबानॊ मॆं ऐन्हे जालिम हवा बहै छै. धूरा-बवंडर मॆं लेबझैलॊ शहरॊ के पॊर कोरे-कोर धोधैलॊ रेत बेसुमार बहै छै. कन-कन ठार जिगर धुंध कोहासॊ सगर जेहादी धार मॆं स्वर्ग व[Read More...]

Saraha

Saraha

According to Pundit Rahul Sankritiyayan, the evidences of oldest form of written Hindi literatures are available in the Sarah’s Angika poetries of 800 A.D.The first poet of Hindi literature, Saraha, was also the first poet of the Angika language and literature. Saraha belongs to the 8th century, and is the first poet whose poetry is available in written form. Saraha[Read More...]

by May 15, 2005 Comments are Disabled Angika Poets - Writers