बोतलबंद पानी केरऽ जानलेवा शिकंजा मं॑ गिरफ्त होत॑ जिनगी

अबरी दाफी (अंगिका कॉलम) / कुंदन अमिताभ

जुलाई महीना केरऽ अंतिम सप्ताह के एक रात क॑ दू बजे हमरा पेट म॑ अचानक जोर के दर्द उठलै । दर्द एतना भयंकर छेलै कि हारी-पारी क॑ अस्पताल म॑ भरती होय ल॑ पड़लै । भरती होला के बाद जे बल्ड रिपोर्ट ऐलै ओकरऽ आधार प॑ डाक्टर के कहना छेलै कि डबलू बी सी काउंट काफी बढ़ी गेलऽ छेलै । मतलब कहीं न कहीं  आन्तरिक इंफेक्सन छेलै । ठीक होय म॑ पाँच दिन लगी गेलै । बीमारी के कोनो ठोस वजह के पता नै चल॑ पारलै । बाहर के कोनो खाना भी नै खैल॑ छेलियै कि कोनो फूड-पॉयजनिंग होय के संभावना रहै । हाँ, सोनोग्राफी स॑ पता चललै कि गॉल-ब्लैडर म॑ कुछ स्टोन छै । लेकिन डॉक्टर के कहना छेलै कि दर्द होय के कारण कुछ और ही छै । ऐंटीबॉयटिक आदि दवा चललै आरू हजारों रूपया खर्च होला के बाद ठीक होय क॑ घर वापस आबी गेलियै ।

अस्पताल स॑ ऐला के बाद कुछ दिना तलक हम्म॑ आपनऽ बीमारी के कारण जानै ल॑ प्रयासरत छेलियै कि अचानक एक दिन हमरऽ ऑफिस के एगो स्टाफ के तबीयत भी खराब होय गेलै । ओकरऽ एक-दू दिना बाद ही हमरा सूचना मिललै कि ऑफिस मं॑ जे २० लीटर वाला बोतलबंद पानी आबै छै ओकरा मं॑ कुछ छोटऽ रकम के कीड़ा चलतें-फिरत॑ मिललै ।

बीमारी के असली वजह के पता चली गेलऽ छेलै । जे बोतलबंद पानी क॑ अमृत समझी क॑ पीतं॑ आबी रहलऽ छेलिऐ असल म॑ वू जहर ही छेलै । नतीजा अगला दिना स॑ ऑफिस म॑ बोतलबंद पानी के आना बंद । खुद केरऽ ऐक्वागार्ड स॑ फिल्टर होलऽ पानी उपयोग मं॑ लाना शुरू करी देलऽ गेलै ।

अभी कल के अखबार मं॑ ही पढ़ै ल॑ मिललै कि बोतलबंद पानी केरऽ इस्तेमाल मं॑ सावधानी के जरूरत छै । ई पानी  आपन॑ क॑ नै खाली बीमार कर॑ सक॑ छै, बल्कि एकरा स॑ कैंसर ऐसनऽ घातक बीमारी भी हुअ॑ सकै छै । भाभा परमाणु शोध संस्थान, मुंबई केरऽ वैज्ञानिकें न॑ बोतलबंद पानी मं॑ घातक तत्व ब्रोमेट केरऽ तय सीमा सं॑ जादे मात्रा पैन॑ छेलै । डॉक्टर केरऽ अनुसार ब्रोमेट तत्व केरऽ अधिक मात्रा कार्सोजेनिक होय छै । जेकरा स॑ घातक बीमारी होय के गुंजाइश रहै छै ।  जनहित क॑ ध्यान मं॑ रखतं॑ हुअ॑ डॉक्टर द्वारा मानवाधिकार आयोग स॑ शिकायत करलऽ गेलै । आशा करलऽ जाय छै कि स्थिति क॑ गंभीरता स॑ ल॑ क॑ समुचित कार्रवाई करलऽ जैतै आरू नागरिक केरऽ सेहत स॑ जुड़लऽ ई मामला के कोनो ठोस हल जल्दिये सामने ऐतै ।

फसल लेली अत्यधिक कीटनाशक, रासायनिक खाद उपयोग होला स॑ कुआँ आरू भूतल सब के पानी घातक स्तर तक दूषित होय गेलऽ छै । आय महानगर स॑ ल॑ क॑ छोटऽ-छोटऽ गाँव तलक यह॑ हाल छै कि  पेयजल के मामला मं॑  जिनगी कुआँ, चापाकल के पानी छोड़ी क॑ बोतलबंद पानी केरऽ ऊपर आश्रित होय गेलऽ छै ।

ई सब तथ्य स॑ एक बात त॑ साफ होय जाय छै कि बोतलबंद पानी उतना सुरक्षित नै छै जेतना कि हम्मं॑-तोंय समझै छो । बोतलबंद पानी केरऽ जानलेवा शिकंजा मं॑ गिरफ्त होला के बजाय जिनगी कल-कल छल-छल बहतें झरना प॑ आश्रित होय जाय त॑ जादे बेहतर छै ।