जादे जीना छौं त॑ ठारऽ होय जा !

अबरी दाफी (अंगिका कॉलम) / कुंदन अमिताभ

कवि,लेखक,विद्यार्थी,ड्राईवर स॑ ल॑ करी क॑ दुकान आरू ऑफिस मं॑ जादातर बैठलऽ रही क॑ काम करै वाला लेली चालीस-पैंतालीस साल स॑ करलऽ जाय रहलऽ एगो अध्ययन केरऽ नतीजा जीवन लेली खतरा केरऽ घंटी बजैत॑ नजर आबै छै । आशा छै ई अध्ययन केरऽ नतीजा जानला के बाद लोग भीड़ भरलऽ बस आरू ट्रेन म॑ बैठै लेली मार-धार प॑ उतारू होना बंद करी देतै ! साथ ही अब॑ होटल, रेस्तरां स॑ ल॑ करी क॑ शादी-बीहा आरू दोसरऽ पार्टी केरऽ मौका प॑ लोगऽ क॑ ठारऽ रही क॑ खाना खाबै ल॑ प्रोत्साहित करलऽ जैतै ! जरूरत छै सरकार आरू मीडिया द्वारा एकरऽ व्यापक प्रचार-प्रसार के ।

बैठलऽ रहना मन॑ थमी जाना मन॑ मौत क॑ नेतऽ देना ! पिछला पाँच-सात सालऽ स॑ प्रकाशित होय रहलऽ कुछ अध्ययन बार-बार ई तथ्य केरऽ पुष्टि करी रहलऽ छै कि जादा देर तलक बैठलऽ रहै वाला लोग कम बैठै वाला यानि जादा सक्रिय लोगऽ स॑ दू साल कम जियै छै । कहलऽ ई भी जाय रहलऽ छै कि जों तोरा रोज कसरत करै के भी आदत छौं तहिय्यो जों जादे देर तलक बैठलऽ रहै छो त॑ नतीजा म॑ सकारात्मक प्रभाव नै आबै छै । शोध स॑  ई बात केरऽ पुष्टि होलऽ छै कि दुनिया भर म॑ होय वाला मौत म॑ ४% मौत केरऽ वजह लंबा समय तलक बैठलऽ रहना छै । बस ड्राइवर क॑ दिल केरऽ बीमारी के बस कंडक्टर स॑ लगभग दूगुना खतरा रहै छै ।

हाल केरऽ अखबारऽ म॑ प्रकाशित ताजातरीन शोध के मानलऽ जाय त॑ जे लोग लगातार छो घंटा या एकरा स॑ अधिक समय तलक बैठलऽ रही क॑ काम करै छै ओकरा कैंसर, मधुमेह, दिल के दौरा, मांसपेशी आरू हड्डी सब स॑ संबंधित गंभीर बीमारी केरऽ चपेट म॑ आबै के जोखिम बहुत गुणा अधिक होय जाय छै । दरअसल लंबा समय तक बैठलऽ रहला स॑ मांसपेशी क्रियाशील नै रहै छै, ई कारण स॑ दिमाग क॑ ताजा खून आरू ऑक्सीजन नै मिल॑ पारै छै ।

शोध ई भी कहै छै कि लंबा समय तलक बैठलऽ रहला स॑ मांसपेशी  फैट क॑ भी कम्मे जलाब॑ पारै छै जेकरऽ कारण फैटी एसिड दिल केरऽ कार्य प्रणाली मट रूकावट पैदा करै छै । लंबा समय तलक बैठलऽ रहला स॑ मानव शरीर केरऽ रक्तचाप उच्च होय जाय छै आरू खराब केलोस्ट्राल मट वृद्धि त॑ होतै छै साथ-साथ अनेक तरह के कैंसर आरू अन्य गंभीर बीमारी भी हुअ॑ सकै छै । ई कारण शरीर केरऽ उपापचय बिगड़ी जाय छै आरू अधिक इंसुलिन बनाब॑ लगै छै ।

तभिये त॑ विंस्टन चर्चिल, अर्नेस्ट हेमिंग्वे, बेंजामिन फ्रेंकलिन जैसनऽ  विश्वप्रसिद्ध लोग खड़े-खड़े ही लिखै छेलै । शोधकर्ता केरऽ अनुसार हर आधा घंटा मं॑ पाँच मिनट ठारऽ होय क॑ चलना चाहियऽ । तीन घंटा स॑ अधिक त॑ कभी भी लगातार नै बैठना चाहियऽ ।

ई जानला के बाद कि ठारऽ रहना अच्छा होय छै ,  शोधकर्ता द्वारा ई जानै के कोशिश करलऽ गेलै कि एकरऽ कैन्हऽ प्रभाव रहै छै । शोधकर्ता न॑ पैलकै कि एगो व्यक्ति केरऽ लहू म॑ शर्करा केरऽ बढ़लऽ मात्रा घटी क॑ सामान्य होय गेलै जबट वू अन्य दिना के दिनचर्या के उलट खाना खैला के बाद ठारऽ रहलै । एकरऽ अलावा ई भी पैलऽ गेलै कि जब॑ वू ठारऽ होय छेलै त॑ कैलोरी जादा खर्च होय छेलै ।

एगो शोधकर्ता डॉ. जॉन बकले केरऽ अनुसार शारीरिक क्रिया केरऽ रूप म॑ एकरा ई तरह समझलऽ जाब॑ छै कि जों साल भर रोज जों काम पर तीन स॑ चार घंटा ठारऽ रहनलऽ जाय त॑ ई एक साल म॑ १० मैराथन दौड़ै के बराबर होतै । जों पाँच दिन तलक दिन मट तीन घंटा भी खड़ा रहलऽ जाय त॑ अंदाजन ७५० कैलोरी खर्च होतै, यानि एक साल म॑ देखलऽ जाय त॑  ३०००० अतिरिक्त कैलोरी, यानि ढेर सारा वसा सट छुटकारा मिलै छै

दिनचर्या म॑ तनी टा बदलाव करी क॑ जेना कि फोन पर बात करै घड़ी, ईमेल करै घड़ी, केखरौ स॑ चर्चा करतें हुअ॑  खड़ऽ रहलऽ जाब॑ सकै छै । एकरा स॑ अपनऽ सेहत पर काफी फर्क परी जैतै । जादे जीना छौं त॑ ठारऽ होय जा !