आखिर ‘ब्रिक्स’ केरऽ मूल स्वाभाव ही त॑ छेकै जुटलऽ रही क॑ मंजिल पाना

अबरी दाफी (अंगिका कॉलम) / कुंदन अमिताभ

चीन केरऽ शाइमेन म॑ ४ सितंबर,२०१७ क॑ संपन्न ‘ब्रिक्स’ देश ( ब्राजील, रूस, भारत, चीन आरू दक्षिण अफ्रीका ) केरऽ सम्मेलन राजनयिक व सामरिक दृष्टि स॑ भारत लेली महत्वपूर्ण साबित होलऽ छै ।

पाकिस्तान तरफऽ स॑ फैलैलऽ जाय रहलऽ आतंक के खिलाफ चीन क॑ अपनऽ साथ लानै म॑ भारत क॑ पहलऽ बड़ऽ  राजनयिक कामयाबी मिललऽ छै । ब्रिक्स देशऽ के सम्मेलन के बाद जारी घोषणा पत्र मं॑ पहलऽ बार जैश-ए-मोहम्मद आरू लश्कर-ए-तैबा जैसनऽ आतंकी संगठनऽ के नाम लेलऽ गेलऽ छै । डोकलाम विवाद के खतम होला के ऐन बाद होलऽ ई घटनाक्रम के महत्व कुछ खास ही होय जाय छै । ध्यान दै वाला बात ई छै कि पिछला साल गोवा मं॑ होलऽ ब्रिक्स सम्मेलन म॑ चीन न॑ सम्मेलन केरऽ घोषणा पत्र म॑ पाक समर्थित आतंकी संगठन केरऽ जिक्र नै हुअ॑ देल॑ छेलै । यहाँ तलक कि परसूकऽ सम्मेलन स॑ ऐन पहल॑ भी चीन कही रहलऽ छेलै कि एकरा मं॑ पाकिस्तान प्रायोजित आतंकवाद क॑ ल॑ क॑ भारत केरऽ चिंता प॑ चर्चा नै होतै । पर प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी न॑ सम्मेलन केरऽ सत्र म॑ एकरऽ जिकऽ करना नै भुललकै ।

एकरऽ आरू आतंकवाद के खात्मा के प्रति भारत केरऽ गंभीर प्रयास के दबाब के आगू चीन क॑ झूकै ल॑ पड़लै । नतीजतन सम्मेलन केरऽ घोषणापत्र म॑ कहलऽ गेलै कि ब्रिक्स देश आतंकवाद केरऽ सब रूप केरऽ निंदा करै छै । चाहे वू कहीं भी होलऽ हुअ॑ आरू ओकरा कोय भी करैल॑ हुअ॑ । कहलऽ गेलै कि आतंक क॑ जायज ठहराबै लेली कोय दलील नै हुअ॑ सक॑ छै ।

एग डेग आगू बढ़ी क॑ सम्मेलन केरऽ घोषणापत्र म॑ आह्वान करलऽ गेलै कि आतंकी गतिविधि क॑ अंजाम दै वाला, एकरऽ साजिश रचै वाला, आरू एकरा मं॑ सहयोग करै वाला क॑ जबाबदेह बनैलऽ जाय । एतने नै, घोषणापत्र म॑ तालिबान, आई एस, अलकायदा, आरू ओकरऽ सहयोगी संगठन – हक्कानी नेटवर्क के अलावा लश्कर-ए-तैबा, जैश-ए-मोहम्मद, पाकिस्तानी तहरीके तालिबान आरू हिज्व-उत-तहरीर जैसनऽ संगठन के नाम लेलऽ गेलै । कहलऽ गेलै कि आतंकवाद के खिलाफ लड़ाय मं॑ ब्रिक्स देश साथ छै । कहलऽ गेलै कि आतंकवाद के खिलाफ लड़ाय अंतर्राष्ट्रीय कानूनऽ के मुताबिक ही होना चाहियऽ आरू देशऽ सब के संप्रभुता केरऽ ख्याल रखलऽ जाना चाहियऽ । साथ ही ई बात केरऽ जिक्र भी होलै कि संयुक्त राष्ट्र महासभा मं॑ आतंकवाद के खिलाफ व्यापक संधि क॑ स्वीकार करलऽ जाबै के काम मं॑ तेजी लानलऽ जाना चाहियऽ ।

एकरऽ अलावे न्यूक्लियर सप्लायर्स ग्रुप (एन एस जी) मं॑ भारत केरऽ प्रवेश प॑ भी चीन न॑ नरमी देखैल॑ छै । भारत असैन्य इस्तेमाल लेली परमाणु उर्जा केरऽ तकनीकी आरू वित्तपोषण हासिल करै लेली एनएसजी केरऽ सदस्यता चाहै छै, लेकिन चीन एकरा म॑ अड़ंगा लगैतं॑ रहै छै । चीन केरऽ अभी तलक के यह॑ दलील रहलऽ छै कि जोन-जोन देश परमाणु अप्रसार संधि प॑ साइन नै करन॑ छै, ओकरा एनएसजी मं॑ प्रवेश लेली  सहमति बनाना जरूरी छै । चीन केरऽ मुख्य मकसद ई दलील के जरिया स॑ पाकिस्तान क॑ एनएसजी मं॑ प्रवेश दिलाना छै ।

हलाँकि ब्रिक्स घोषणा पत्र म॑ जैश आरू लश्कर क॑ आई एस जैसनऽ अंतर्राष्ट्रीय आतंकी संगठनऽ के नाम के साथ रखी क॑ आलोचना करना चीन केरऽ रूख म॑ बड़ा बदलाव केरऽ संकेत दै छै । वहीं ई सवाल भी उठी रहलऽ छै कि की जैश केरऽ सरगना मसूद अजहर क॑ संयुक्त राष्ट्र मं॑ प्रतिबंधित आतंकी घोषित करबाबै मं॑ चीन साथ देतै ?  चीन असकेल्लऽ ऐसनऽ देश छै जे पाकिस्तान स॑ दोस्ती केरऽ वजह स॑ मसूद अजहर प॑ संयुक्त राष्ट्र स॑ प्रतिबंध लगबाबै के प्रयास म॑ अड़ंगा लगैत॑ रहै छै ।

ऐन्हऽ समय में जहां सौसे विश्व मं॑,जेकरा में कुछ ब्रिक देश सब भी शामिल छै, संरक्षणवाद आरू एकपक्षीयता प्रमुख ताकतऽ के रूप में उभरी रहलऽ छै, ब्रिक्स देशऽ द्वारा उठैलऽ गेलऽ ई सब कदम उपयोगी छै  । एकरा म॑ कोय दू मत नै छै । ‘ब्रिक्स’ देशऽ क॑ अच्छा स॑ पता छै कि जुटलऽ रही क॑ मंजिल हासिल हुअ॑ सकै छै ।