अचानक स॑ वू दिन सरंग प॑

अबरी दाफी (अंगिका कॉलम) / कुंदन अमिताभ

कल भोर क॑ ऑफिस केरऽ काम स॑ एकाएक मुंबई स॑ दिल्ली जाय के प्रोग्राम बनी गेलै । परसू रात क॑ ऑफिस म॑ बैठलऽ-२ ही मुंबई स॑ दिल्ली जाबै के आरू वापसी केरऽ फ्लाईट केरऽ टिकट बुक करी लेलऽ गेलै । ऑफिस स॑ निकलत॑-निकलत॑ रात केरऽ लगभग साढ़े आठ बजी गेलऽ छेलै । ऑफिस अपार्टमेंट स॑ बाहर निकलला प॑ अहसास होलै कि झमाझम झरिया केतना भयंकर रूप धारण करी लेल॑ छै । हवा केरऽ रफ्तार एतना कि गोर केरऽ जमीन प॑ टिकलऽ रहना मुश्किल लगी रहलऽ छेलै । पूरा के पूरा उधियाय द॑ रहलऽ छेलै । टिकट कटाबै घड़ियाँ कोय अंदाजा नै छेलै कि सितंबर केरऽ अंत म॑ झरिया एतना रौद्र रूप धारण करतै ।

२६ जुलाई २००५ ई. आरू २९ अगस्त २०१७ ई. के बाद कल २० अगस्त २०१७ ई. क॑ मुंबई म॑ एकबार फिर भारी बारिश न॑ दस्तक देन॑ छेलै । मौसम विभाग न॑ अगला ४८ घंटा तलक भारी बारिश के चेतावनी जारी करी देलकै । भोरे-भोर ६ बजे फ्लाईट छेलै, ई लेली ५ बजे तलक एयरपोर्ट पहुँची जाना छेलै । हमरऽ नींद भोरे तीन बजे ही टुटी गेलै । झरिया जारी छेलै । शक हुअ॑ लगलै कि कहीं फ्लाईट कैंसिल नै होय जाय । शक के चलत॑ ताजा खबर लेली इंटरनेट खोललियै । पता चललै मुख्य रनवे बंद करी देलऽ गेलऽ छै । हमरा सथ॑ हमरऽ एगो सहकर्मी भी जाय रहलऽ छेलै । हुनका फोन करी क॑ आग्रह करलियै कि जरा पता करी ल॑ कि कहीं अपनऽ फ्लाईट कैंसिल त॑ नै होय गेलऽ छै ।

भारी बारिश के बावजूद हम्मं॑ सब एयरपोर्ट पहुँची गेलऽ छेलियै । एयरपोर्ट पहुँचला प॑ पता चललै भारी बारिश के कारण मुंबई म॑ स्कूल-कॉलेज, सरकारी-प्राईवेट दफ्तर सब बंद राखै के सरकारी घोषणा जारी करी देलऽ गेलऽ छै । आरू ६ बजे खुलै वाला फ्लाईट के आठ बजे तलक भी कहीं कोय अता-पता नै छै । नै कोय उद्घोषणा नै कोनो डिस्प्ले ।

उड़ान रद्द हुयै के अंदेशा छेलै । लेकिन सवा आठ बजे पक्का होय गेलै कि उड़ान रद्द नै होतै । खाली गेट नं. बदली गेलै आरू हम्मं॑ सब थोड़ा देर म॑ विमान केरऽ अंदर छेलियै । लेकिन अधिकतर उड़ान रद्द होय गेलऽ रहै । हम्म॑ सब आठ बजे के बजाय लगभग ११ बजे दिल्ली पहुँचलियै । दिल्ली म॑ छेलै कड़कड़्ड़ुआ रौदा । १० बजे स॑ सड़क परिवहन और राजमार्ग मंत्रालय म॑ मीटिंग रहै । वहाँ पहुँचत॑-पहुँचत॑ डेढ़ घंटा लेट होय गेलऽ रहै । लोगें पतियाय नै रहलऽ छेलै कि हम्म॑ सब केतना मुश्किल झेली क॑ वहाँ पहुँचलऽ छियै । हुनका सब क॑ लगलै जेना कि कोनो बहाना बनाय रहलऽ छियै ।

मीटिंग थोड़ा लंबा ही खींची गेलऽ रहै । तब॑ तक हमरा सब के मुंबई वापसी के समय होय गेलऽ रहै । हुन्न॑ स॑ लौटै लेली साँझ केरऽ ६ बजे केरऽ फ्लाईट छेलै । नतीजतन मीटिंग के बीच म॑ ही माफी माँगतें हुअ॑ निकलै ल॑ परलै कि एयरपोर्ट भी पहुँचना छै पाँच बजे तलक ।

लौटै घड़ियाँ लगलै कि अब॑ त॑ हालत ठीक होय गेलऽ होतै मुंबई म॑ । लेकिन तनी शक भी होय रहलऽ छेलै । कैन्हें कि  सड़क परिवहन और राजमार्ग मंत्रालय केरऽ ठीक बगल म॑ अवस्थित प्रेस ट्रस्ट ऑफ इंडिया केरऽ  न्यूज डिस्प्ले म॑ साफ-साफ लौकी रहलऽ छेलै कि मुंबई एयरपोर्ट केरऽ मुख्य रनवे अभी तलक बंद ही छै ।

दिल्ली स॑ हमरऽ फ्लाईट एक घंटा देर स॑  ७ बजे खुललै आरू मुंबई एयरपोर्ट केरऽ सरंग प॑ साढे आठ बजे पहुँची चुकलऽ रहै । लगलै अब॑ त॑ तनी देर म॑ लैंडिग होतै आरू ओकरऽ कुछ देर बाद घऽर प॑ रहबै । लेकिन होना कुछ और ही छेलै । हवाई जहाज केरऽ कप्तान न॑ घोषणा करलकै कि मुंबई म॑ उतरै केरऽ अनुमति नै मिली रहलऽ छै । ई लेली जों अगला १०-१५ मिनट तक अनुमति नै मिललै त॑ निकट केरऽ अहमदाबाद म॑ जाय क॑ उतारलऽ जैतै । ई घोषणा स॑ यात्री सब म॑ खलबली मच॑ लागलै ।

लोगऽ सब के परेशानी साफ लौकी रहलऽ छेलै । विमान परिचारिका स॑ पानी माँगी-माँगी क॑ पियै वाला के संख्या अचानक स॑ बढ़ी गेलऽ रहै । लगभग डेढ़ घंटा केरऽ प्रतीक्षा के बाद घोषणा होलै कि जहाज मुंबई एयरपोर्ट प॑ लैंडिंग करी रहलऽ छै । लैंडिंग के बाद भी जहाज क॑ टैक्सीवे तलक पहुँचै म॑ आधा घंटा लगी गेलै ।

कुल मिलाय क॑ ऐसनऽ लगलै कि स्थिति केकरो नियंत्रण मं॑ नै छै । मुख्य रनवे बंद रहला स॑ ई सब परेशानी होय रहलऽ छेलै आरू वजह बारिश क॑ बनैलऽ जाय रहलऽ छेलै । स्पाईस जेट केरऽ जे विमान ३६ घंटा पहिन॑ मुख्य रनवे प॑ फिसली क॑ कादऽ म॑ जाय क॑ फँसी गेलऽ रहै वू अखनी तलक वहीं फँसलऽ छेलै । नतीजतन, सब क॑ परेशानी होय रहलऽ छै कैन्हेंकि छोटऽ-बड़ऽ, लोकल-इंटरनेशनल सब तरह केरऽ जहाज क॑ उतरै लेली सेकेंडरी रनवे क॑ उपयोग म॑ लानलऽ जाय रहलऽ छेलै ।

लगभग ७५ फ्लाईट कैंसिल करलऽ गेलै । बहुत बड़ऽ संख्या मं॑ फ्लाईट क॑ मुंबई के जगह प॑ या त॑ अहमदाबाद, बड़ौदा नै त॑ हैदराबाद दन्न॑ उतारै ल॑ मोड़लऽ गेलै । ई घटना ई तथ्य क॑ उजागर करी दै छै कि आपात काल म॑ भी एयंरलाईंस आरू एयरपोर्ट मैनेजमेंट केरऽ प्रदर्शन आरू प्रबंधन कोन हद तलक गिरलऽ आरू ढीला-ढाला हुअ॑ सकै छै । अचानक स॑ वू दिन सरंगऽ प॑ होलऽ अहसास सरकारी तंत्र केरऽ कार्यशैली के प्रति मनऽ म॑ घिन्न पैदा करी गेलै । बड़ऽ-बड़ऽ बात करै के जगह प॑ छोटऽ-छोटऽ काम क॑ सही ढंग स॑ करै के संस्कृति बढ़ाबै प॑ जादे जोर के जरूरत छै ।