शराबबंदी केरऽ माँग भल्लऽ संकेत

—  कुंदन अमिताभ —

बिहार मं॑ शराबबंदी केरऽ आवाज बुलंद हुए॑ लागलऽ छै. इ त॑ होना ही रहै – आय नै त॑ काल. गुरुवार क॑ पटना केरऽ श्रीकृष्ण मेमोरियल हॉल मं॑ मुख्यमंत्री नीतीश कुमार एगो कार्यशाला मं॑ भाषण खत्म करी क॑ बैठै वाला रहै कि जनानी केरऽ एगो समूह न॑ शराब केरऽ मुद्दा उठैतं॑ मांग कर॑ लागलै कि राज्य मं॑ शराबबंदी लागू हुऐ.

बिहार केरऽ संस्कृति कहियो भी शराब संपुष्टित नै रहलऽ छै. जब॑ बिहार, झारखंड सथें रहै तभियो खाली संथालपरगना आरू छोटानागपुर केरऽ आदिवासी प्रधान समूह केरऽ बीच मं॑  शराबऽ के प्रचलन रहै – एगऽ अटूट सांस्कृतिक मान्यता आरू परंपरा के तहत. झारखंड  के अलग होला के बाद बिहार एगो नया धरातल पर खड़ा रहै. झारखंड सं॑ अलग होला के बरसों बाद तलक बिहार पर आपनऽ दम पर खड़ा रहै के तरह – तरह के चुनौती रहै. एक तरफ त॑ ओकरा पर आपनऽ नया सांस्कृतिक पहचान बनाबै के दबाब रहै. दोसरऽ तरफ विभाजन स्वरूप अथाह प्राकृतिक संपदा सं॑ वंचित रहला सं॑ राज्य केरऽ सुचारू संचालन  आरू सही अर्थव्यवस्था लेली सीमित मात्रा मं॑ उपलब्ध संसाधन क॑ नया सिरा सं विकास लेली उपयोग करै के चुनौती रहै.

इ अवलोकन करना बड़ा ही दिलचस्प छै कि अर्थव्यवस्था क॑ सही राखै के नाम पर जाने – अनजाने बिहार केरऽ लोगऽ के थरिया मं॑ शराब परोसी क॑ अपना मं॑ अथाह क्षमता आरू संभावना क॑ समेटन॑ यहाँकरऽ विशाल प्रतिभासंपन्न मानव संसाधन क॑ कुंद करी क॑  नै खाली ओकरऽ उज्जवल भविष्य सथें खिलवाड़ के प्रयास करलऽ गेलै बल्कि पूरे बिहार केरऽ भविष्य सथें भी. बिहार केरऽ समाज मं॑ शराब क॑ स्वीकृति दै के पीछे कमोबेश बिहार केरऽ सब पार्टी ही शामिल रहलऽ छै. पूर्व मुख्यमंत्री भी जे  सीधे – सीधे कही रहलऽ छै कि अगला बार सत्ता मं॑ ऐला पर कैन्हें, नीतीश अभी सत्ता मं॑ ही छै त॑ अखनिये सं॑ शराबबंदी लागू कैन्हे नै करी दै छै.

शराब पीना छोड़ऽ - शराब केरऽ जहर परिवारनाशक होय छै

शराब पीना छोड़ऽ – शराब केरऽ जहर परिवारनाशक होय छै

हिन्दी, उर्दू, भोजपुरी, अंगिका, बज्जिका, मगही,  मैथिली ऐन्हऽ विश्व स्तरीय भाषाई क्षेत्र  केरऽ समृद्ध सांस्कृतिक धरोहर आरू विरासत सब सं॑ धनी आरू सुसज्जित बिहार तथाकथित विकास केरऽ मंजिल तय करै लेली अन्य तरह के वैकल्पिक मार्ग क॑ भी अख्तियार कर॑ सकै छेलै. आखिर की वजह आरू मजबूरी छै कि सरकार न॑ राज्य केरऽ राजस्व वृद्धि लेली गाँव, पंचायत, स॑ ले करी क॑ शहरऽ तलक मं॑ देशी-विदेशी शराब केरऽ दुकान खोलै के लाइसेंस वितरित करी क॑ बिक्री केरऽ लक्ष्य तय करी – करी क॑ शराब बिकबाब॑ लागलै.

दरअसल सरकार क॑ पता रहै कि  लाइसेंस के अभाव मं॑ देशी-विदेशी शराब केरऽ अवैध बिक्री राज्य मं॑ बड़ा पैमाना पर होय रहलऽ छै. शराब केरऽ अवैध बिक्री सं॑ राज्य केरऽ राजस्व क॑ बहुत बड़ऽ हानि होय रहलऽ छेलै. सरकार केरऽ मानलऽ जाय त॑ लाइसेंस वितरित करी क॑ दुकान खोली क॑ शराब बिक्री करै के फैसला लै के पीछे उद्देशय रहै शराब केरऽ अवैध बिक्री क॑ रोकना आरू राज्य केरऽ राजस्व बढ़ाना. राजस्व बढ़ला सं॑ जनहित योजना सब शुरू करै मं॑ सरकार आसानी अनुभव कर॑ लागलऽ रहै. बिहार सरकार केरऽ आर्थिक सर्वेक्षण के मुताबिक बितला दस सालऽ मं॑ शराब केरऽ बिक्री सं॑ होय वाला राजस्व मं॑ दस गुना सं॑ भी अधिक के बढ़ोतरी होलऽ छै. हालाँकि शराबजनित बीमारी केरऽ इलाज पर पहलकरा सं॑ जादा धनराशि खर्च करै ल॑ पड़ी रहलऽ छै.

लाइसेंसी दुकान खोली क॑ शराब बिक्री करै के सभसं॑ दिलचस्प आरू नाकारात्मक पहलू इ छै कि गाँव स॑ ल॑ करी शहर तक केरऽ गली – गली मं॑ डेयरी केरऽ दूध सरीखा शराब सहजता सं॑ उपलब्ध हुऐ लागलै. की जवान, की बूढ़ा आरू की बच्चा सहजता सं॑ उपलब्ध होला के चलतें सबके बीच होर मची गेलऽ छै शराब पीयै के. एगो नया ओछऽ जन मानसिकता तैयार हुऐ लागलऽ छै समाजऽ मं॑ –  शराब पीना अचानक प्रतिष्ठा के विषय मानलऽ जाब॑ लागलै. सिनेमा, सीरियल केरऽ उदाहरण द॑ – द॑ क॑ मौका – बेमौका  शराब पीयै के आदत समाज मं॑ ओहे रफ्तार सं॑ बढ़ै लागलै जेना एक बार अमारी आरू भुस्सा सं॑ सुनगला के बाद आगिन सौसे लारऽ के टाल क॑ जलाबै ल॑ बढ़ी जाय छै.

शराब पीयै छै कोय, भुगतै छै आरू कोय. युगो-युगो सं॑ संस्कार आरू संस्कृति केरऽ संवाहक घरऽ के लछमी – घरऽ के सरस्वती क॑ लागलै अब॑ बहुत होय गेलै. शराब पीबी – पीबी क॑ घरऽ के हर मानव – बच्चा – बूढ़ऽ – जवान, दानव रूप धरी सीमा पार करी अत्याचार करै लागलऽ छै . ओकरा लागलै जे चुप्पी नै तोड़लऽ जैतै त॑ जेना प्रलय आबी जैतै. शराब परिवारऽ क॑ तोड़ना शुरू करी देलकै. शराब आस्तें-आस्तें रिश्ता केरऽ मर्यादा पर नशा के उद्दंडता के रूपऽ म॑ हावी हुऐ लागलै. लोक-लाज केरऽ पानी उतर॑ लागलै. आमदनी केरऽ अच्छा-खासा हिस्सा शराब पर खर्च होला सं॑ घर अशांत हुऐ लागलै. शराब के खपत बढ़लै, त॑ बीमार केरऽ तादाद भी बढ़ै लागलै. शराब हर घरऽ के लछमी आरू हर घरऽ के सरस्वती केरऽ जीवन मं॑ जहर घोलै लागलऽ छै. ऐन्हऽ मं॑ जों वें ऐकरा सं॑ मुक्ति चाहै छै आरू बेहतर परिवार आरू समाज के रचना लेली शराबबंदी चाहै छै त॑ पूरे बिहार लेली एगऽ भल्लऽ संकेत ही छै.

Angika Samvad – Abri Dafi : शराबबंदी केरऽ माँग भल्लऽ संकेत
Columnist (स्तंभकार) : Kundan Amitabh (कुंदन अमिताभ)

Comments are closed.