फागुन के खुमारी मं॑

— सुधीर कुमार प्रोग्रामर —

फागुन के खुमारी मं॑,

तन-मन अजबारी छै

तन-मन क॑ रंगाबै के,

हमरऽ अब॑ पारी छै ।

फागुन के खुमारी मं॑  ….. ॥

खेतऽ मं॑ फसल धरलऽ,

लुथनी रंग सब फरलऽ

गदरैलऽ खेसारी के,

छिमड़ी अठियारी छै ।

फागुन के खुमारी मं॑  ….. ॥

गम-गम मंजर बेली,

होली केरऽ अठखेली उमतैली जे

Comments are closed.

error: Content is protected !!