1 month ago
उधाडीह गाँव मँ मनैलौ गेलै शौर्य चक्रधारी अंग गौरव शहीद निलेश कुमार नयन केरौ शहादत दिवस | New in Angika
1 month ago
गिनीज बुक ऑफ वर्ल्ड रिकॉर्ड मँ जग्घौ बनाबै लेली आय 122 भाषा के गाना कार्यक्रम मँ अंगिका मँ भी गैतै पुणे केरौ मंजुश्री ओक | News in Angika
2 months ago
अंगिका भाषा क आठमौ अनुसूची मँ दर्ज कराबै लेली दिसम्बर मँ दिल्ली मँ होय वाला आन्‍दोलन क सफल बनाबै के करलौ गेलै आह्वान | News in Angika
2 months ago
अंगिका आरू हिन्दी केरौ वरिष्ठ कवि व गीतकार, कविरत्न महेन्द्र प्र.”निशाकर” “दिनकर सम्मान” सँ सम्मानित  | News in Angika Angika
2 months ago
चाँद पर विक्रम लैंडर के ठेकानौ के लगलै पता, पर अखनी नै हुअय सकलौ छै संपर्क | ISRO found Vikram on surface of moon, yet to communicate | Chandrayaan 2 | News in Angika

फरवरी केरौ पहलौ सप्ताह मँ ही आयोजित होतै अंगिका महोत्सव -२०२० । Angika Mahotsav – 2020 to be organised in first week of February-2020 | News in Angika

भागलपुर :३० अगस्त, २०१९ । आगामी साल केरौ फरवरी केरौ पहलौ सप्ताह मँ अंगिका महोत्सव -२०२० आयोजित होतै । अंगिका महोत्सव 2020 के आयोजन  लेली श्री गौतम सुमन क संयोजक चुनलो गेलौ छै ।

बैठक क संबोधित करतें दिनेश बाबा तपन व उपस्थित अंगिका प्रेमी

पिछला फरवरी माह में आयोजित अंगिका महोत्सव क महापर्व बतैतें अंगिका साहित्य के वरिष्ठ विद्वान डॉ.अमरेंद्र नँ कहलकै कि महापर्व जीवन क संजीवनी दै लेली जरूरी होय छै ; तभिये त वू बार-बार आबै छै। हुनी कहलकै कि अंगिका महोत्सव क हम्में महापर्व के रूप मँ हर साल मनैतें रहबै,जेकरा सँ कि अंगिका भाषा क संजीवनी मिलतें रहै आरू गर्व आरू शान के साथ हम्में कहअ सकौं कि अंगिका हमरौ भाषा छेकै आरू हम्में अंगिका भाषा के लोग छेकियै। स्‍थानीय लहेरी टोला स्थित एक धर्मशाला में “अंगिका महोत्‍सव-2020”  केरौ आयोजन क ल करी क एगो विशेष बैठक क संबोधित करतें हुनी कहलकै कि अंगिका महोत्सव केरौ आयोजन हर वर्ष करलौ जैतै ताकि सबके ध्यान ई ओर आकर्षित होतें रहै आरू अंगिका प्रेमी एगो बैनर तले एकजूट होय करी क अपनऽ आवाज क बुलंद करय सकै।

अंगिका महोत्सव-2020 केरौ तैयारी क ल करी क बुधवार २८ अगस्त क होलौ बैठक के अध्यक्षता करतें  गजलकार दिनेश बाबा तपन नँ कहलकै कि अंगिका हमरौ भाषा ही नै, बल्कि एगो पहचान छेकै आरू ओकरा लेली करलौ गेलौ हमरौ काम आरू मेहनत ओकरा ताकत प्रदान करतै।

ई बैठक मँ उपस्थित वीर रस के कवि महेंद्र मयंक नँ कहलकै कि अंगिका क गति दै लेली महोत्सव जैसनौ आयोजन करलौ जाना जरूरी होय छै,जेकरा सँ लोग आपस मँ मिली जुली क  नया चीज उत्पन्न होय छै।

कवि धीरज पंडित नँ कहलकै कि अंगिका क हमरौ जन्म सँ संबंध छै, ई लेली हम्में एकरा पुष्पित व पल्लवित होतें देखै ल चाहै छियै ।

मौका पर उपस्थित वरिष्ठ कलमकार संजय कुमार नँ कहलकै कि बेशक अंगिका आगू बढ़लौ छै आरू  अंगिका भाषा में काम भी तेजी सँ होय रहलौ छै । अंगिका भाषा मँ प्रो.सुजाता कुमारी नँ शब्दकोश के रचना करी क इ भाषा क बचाबै के अद्भुत प्रयास करलै छै । विचार गोष्ठी, महोत्सव आरू आलोचना- समालोचना के दौर जारी रहय, तभिये भाषा आरू आगू बढ़य पारतै व भाषा के विस्‍तार तभिये संभव छै। हुनी कहलकै कि जबै भाषा बचै छै तभिये लोगो के जुबान पर 77 वाहिनी नदी ऐसनौ प्रवाहित होय छै।

मौका पर उपस्थित आलोक प्रेमी नँ कहलकै कि निश्चित रूप सँ अंगिका महोत्सव होना चाहियौ, जेकरौ माध्यम सँ अंगिका के प्रति चेतनात्मक प्रयास क बल मिलय।

मौका पर उपस्थित अंग-अंगिका के उत्‍थान में समर्पित सिपाही गौतम सुमन नँ कहलकै कि अंगिका भाषा के तरक्‍की आरू उन्नति लेली हुनी अभी तलक जेतना संघर्ष करलै छै, वू त खाली झाँकी मात्र छेलै। हुनी कहलकै कि असली संघर्ष त वू अबै करतै। हुनी अंगिका के हक हकूक लेली अपनो द्वारा करलौ जाय रहलौ संघर्ष क जनांदोलन बनाबै के बात कहलकै आरू बतैलकै कि ऐसनौ मँ अंगिका महोत्सव के बार-बार आयोजन होना स्वागत योग्य आरू अति महत्वपूर्ण कार्य छेकै, एकरा सँ जनांदोलन क मजबूती मिलतै।

ई अवसर पर अंग उत्थान आंदोलन समिति द्वारा राष्ट्रीय राजधानी क्षेत्र दिल्ली मँ ५ दिसंबर सँ होय वाला जंग के शंखनाद क सफल बनाबै पर विस्तार सँ चर्चा भेलै। वक्ता सिनी नँ अधिक सँ अधिक अंगिका प्रेमी क ई आयोजन मँ शामिल होय के अनुरोध करलकै।

बैठक के अंत मँ डॉ. अमरेंद्र नँ अंगिका महोत्सव 2020 लेली अंगिका भाषा के कर्मठ सारथी गौतम सुमन क संयोजक बनाबै के प्रस्तावना देलकै, जेकरो ध्वनि मत सँ उपस्थित सब्भे लोगो नँ स्वागत करलकै आरू अपनौ स्वीकृति प्रदान करलकै । एकरो साथ ही अंगिका महोत्सव 2020 क फरवरी के पहलो सप्‍ताह मँ आयोजित करै के निर्णय लेतें हुअय एकरो तैयारी के शंखनाद शुरू होय गेलै ।

ई मौका पर डाॅ.जयंत जलद, बाबा मनमौजी कर्ण अंगपूरी, जगदीश यादव, योगेश मिश्र, विनोद पंडित, बबलू कुमार, अजय शर्मा आदि उपस्थित छेलै।

Comments are closed.

error: Content is protected !!