Angika Language Part – 1 *** Angika Language Part – 2

Angika Language (Part-1) – अंगिका भाषा (भाग -१)

Angika is a language of the Anga region of India,  a 1,58,000 km area roughly that falls within the states of Bihar, Jharkhand and West Bengal of India. Angika is spoken by around Six Crore people in India. It is Considered to be one of the oldest language of the world.

Angika is used as second preferred language in Santhal villages of Jharkhand and Bihar. Angika is spoken by a vast no. of migrated population in Mumbai, Navi Mumbai, New Delhi, Pune, Bangalore, Kolkata, Durgapur, Patna, Ranchi, Jamshedpur, Bokaro and other parts of the country. Angika is also spoken in Terai region of Nepal. Angika is also spoken in Combodia, Vietnam, Laos, Malaysia and other Southeast Asian countries. Besides this, a sizeable Angika speaking population exists in countries such as the United States, Canada, United Kingdom, UAE etc.

Angika  is an Indo-Aryan language . Angika language belongs to the Eastern Indo-Aryan subgroup, which also includes Bengali, Assamese and Odia. Angika is written in the Devanagari script; although the Anga Lipi and Kaithi scripts were used historically.

Classification

Angika is a Bihari language of the Eastern Indo-Aryan language family, closely related to other Bihari languages such as Bhojpuri, Bajjika, Maithili and Magahi. It was erroneously classified as a dialect of Maithili by George A. Grierson in the Linguistic Survey of India. George A. Grierson termed it as Chhika-Chhiki in his survey record.

Angika is not listed in the 8th schedule of the constitution of India. Nevertheless, Angika language movements have advocated it’s inclusion, and a submitted request is currently pending with the Government.

Alternative Names of Angika Language 

Angika was called as Chikka-Chiki by George GA Grierson in one of the Linguistic Survey of India. Various alternate names for Angika language are used: Anga, Aangi, Angikar, Chhika-Chhiki, Bhagalpuri, Apbhramsa, Bihari.

Dialects of Angika Language 

Dialects of Angika include : Deshi, Dakhnaha, Mungeria, Devgharia, Gidhhoria, Dharampuria, Khortha, Khotta, Surjapuri.

Geographical  Distribution of Angika Language

Angika is primarily spoken in the Bihar, Jharkhand and West Bengal states of India.

In Bihar, Angika is spoken in the Araria District, Katihar District, Purnia District, Kishanganj District, Madhepura District, Saharsa District, Supaul District, Bhagalpur District, Banka District, Jamui District, Munger District, Lakhisarai District, Begusarai District, Sheikhpura District and the Khagaria District.

In Jharkhand, Angika is spoken in the Sahebganj District, Godda District, Deoghar District, Pakur District, Dumka District, Giridih District and the Jamtara District.

In West Bengal, Angika is spoken in the Malda District, the Uttar Dinajpur District, the Murshidabad District, the Birbhum District

Moreover, many Angika speakers have emigrated to the Persian Gulf, the United Kingdom, the United States, Canada and other countries. Furthermore, substantial numbers of the Angika-speaking population have settled elsewhere in India, mainly in Mumbai, Delhi, Kolkata, Baroda, Surat, Chandigarh, Ludhiana, Jamshedpur and Bokaro.

Angika Cinema

Khagaria Vali Bhouji, the first ever Angika film, was released on 27 April 2007 in Laxmi Talkies, Khagaria, Bihar. Another Angika language movie Ang Putra, starring folk-singer Sunil Chailaa Bihari, was released in April 2010.

Angika Litterateur

Suman Soorow, Naresh Pandey Chakore, Permanand Pandey, Abhaykant Choudhary, Vidyabhushan Venu, Dr. Amrendra,  Gorelal Manishi, Umesh Jee,  Kundan Amitabh, Chandraprakash Jagpriya, Aniruddh Pd. Vimal, Sudhir Kumar Programmar, Hira Prasad Harendra, Rahul Shivoy  etc are among the notaries who have contributed towards Angika literature. Hundreds of standard literary books are also available in Angika language. Furthermore, Angika is taught at post-graduation level at Tilka Manjhi Bhagalpur University.

Angika Grammar

  • Angika shows a regular contrast for animates.
Angika Hindi Bhojpuri Maithili Magahi Bajjika
हम्म॑ मैं/हम हम/मय हम हम हम
आपन॑ आप रउआ/आप अहाँ / अपने अपने अपने
हमरऽ मेरा/हमारा हमार/मोर हम्मर हमर हम्मर
English sentence Angika Translation
What is your name? तोरऽ नाम की छौं / छेकौं ? Toro naam kii chhown / chhekown?
Come here. हिन्न॑ (इहाँ) आबऽ Hinne / Iihan aabow
What are you doing? की करी रहलऽ छहो ?
That man is going. वू (आदमी) जाय रहलऽ छै
How are you? (तोंय) कैन्हऽ छो / छहो ?
I’m fine. हम्मं॑ ठीक छियै
I don’t know. हम्मं॑ नै जानै छियै / छौं
He is my son. वू हमरऽ बेटा छेकै.
She is my daughter. वू हमरऽ बेटी छेकै
What should i do? हम्मं॑ की करंऽ / हमरा की करना चाही
What did they do? वू की करै छै?
Did you all eat? तोंय सभ खैल्हो ?
He is eating a Guava. वू एगो साफली खाय रहलऽ छै.
Where were you, I was waiting for you? कहाँ छेलो तोंय, तोरऽ बाट जोहै रहियौं ?
I saw the film last week. हम्मं॑ पिछला हफ़्ता सनीमा देखलिये
They went to the mosque. वू लोग सब मसजिद गेलऽ छै.
She slept the whole night. वू भर रात सुतली.
I go. हम्मं॑ जाय छियै.
He will go. वू जैतै.
He will eat. वू खैतै.
He has eaten. वू खाय लेलकै.
Why did you tell him to go? तोंय ओकरा जाय लेली कथी ल॑ कहलैं ?
Why is it crowded here? ऐंजां एत्त॑ भीड़ कैन्हें छै ?
I have to leave for Bhagalpur early tomorrow morning. हमरा कल भोरे भागलपुर लेली निकलना छै.
Which is the best Hindi newspaper? सबसं॑ बढ़िया हिंदी अखबार कोन छेकै ?
Where should i go? हम्मं॑ कन्न॑ जाँव ?
It is a book. ई एगो किताब छेकै.
Will you give me your pen? तोंय हमरा अपनऽ पेन देभो ?
Yes, of course./ Why not. हाँ हो, कैन्हें नै.
Which village do you hail from? तोंय कोन गामऽ सं॑ ताल्लुक रखै छहो ?
Did he call you? की हुनी तोरा बुलाबै छौ ?
This is our area. इ आपनऽ क्षेत्र छेकै.
What’s going on? की चली रहलऽ छै ?
Please say that again. तनी फेरू सं॑ कहऽ.
Pleased to meet you. तोरा सं॑ मिली क॑ बढ़िया लगलै.
Is everything all right? सब खैरियत त॑ छै नै हो ?
How was your exam? तोरऽ परीक्षा कैन्हऽ रहलौं  ?
Are you married? तोंय शादीशुदा छो  ?
She doesn’t understand anything. ओकरा कुछ्छू समझ नै आबै छै.
Please speak more slowly तनी कल॑-कल॑ बोलऽ.
You are very beautiful. तोंय बड़ी सुन्नर छहो.
He is looking at you. वू तोरा ताकी रहलऽ छौं .
My life is full of problems. हमरऽ जिनगी छुछ्छे परेशानी सं॑ भरलऽ छै.
Come with me. हमरा साथं॑ आबऽ.
One language is never enough. एगो भाषा काफी नै छै .
I’ll come after you. हम्में तोरऽ पीछू-पीछू ऐभौं.
Go there वैंजां जा.
I can do anything for you. हम्मं॑ तोरा वास्ते कूछ्छू कर॑ सकै छियै.

Evidence is abundant for Angika’s relationship to other members of the Indo-Aryan language family. For instance, the Gujarati kemchho (‘how are you?’) is ostensibly cognate with the Angika equivalent: kahinochho.

अंगिका एक भाषा है जो झारखण्ड के उत्तर पूर्वी भागों में बोली जाती है जिसमें गोड्डा, साहिबगंज, पाकुड़, दुमका, देवघर, कोडरमा, गिरिडीह जैसे जिले सम्मिलित हैं। यह भाषा बिहार के भी पूर्वी भाग में बोली जाती है जिसमें भागलपुर, मुंगेर, खगड़िया, बेगूसराय, पूर्णिया, कटिहार, अररिया आदि सम्मिलित हैं। यह नेपाल के तराई भाग में भी बोली जाती है। अंगिका भारतीय आर्य भाषा है।

अंगिका को देवनागरी लिपि में लिखा जाता है। इसे अंग भाषा के नाम से भी पुकारा जाता है। देवनागरी में 12 स्वर ( सहित) और 49 व्यंजन होते हैं और एक अवग्रह् भी होते हैं, इसे बाएं से दायें ओर लिखा जाता है।

अंग लिपि

यदि हिन्दी और संस्कृत शब्दों की बात की जाये तो कुल 49 व्यंजन और 12 स्वर हैं, परन्तु अंगिका को अगर हिन्दी और संस्कृत से रहित देखा जाये तो वर्णों की स्थिति बिल्कुल अलग तरह से होगी।

अंगिका का इतिहास

अंगिका मुख्य रूप से प्राचीन अंग यानि भारत के उत्तर-पूर्वी एवं दक्षिण बिहार, झारखंड, बंगाल, आसाम, उड़ीसा और नेपाल के तराई के इलाक़ों मे बोली जानेवाली भाषा है।  इसका यह प्राचीन भाषा कम्बोडिया, वियतनाम, मलेशिया आदि देशों में भी प्राचीन समय से बोली जाती रही है। अंगिका भाषा आर्य-भाषा परिवार का सदस्य है और भाषाई तौर पर बांग्ला, असमिया, उड़िया और नेपाली, ख्मेर भाषा से इसका काफी निकट का संबंध है। प्राचीन अंगिका के विकास के शुरूआती दौर को प्राकृत और अपभ्रंश के विकास से जोड़ा जाता है। लगभग ५ से ६ करोड़ लोग अंगिका को मातृ-भाषा के रूप में प्रयोग करते हैं और इसके प्रयोगकर्ता भारत के विभिन्न हिस्सों सहित विश्व के कई देशों मे फैले हैं। भारत की अंगिका को साहित्यिक भाषा का दर्जा हासिल है। अंगिका साहित्य का अपना समृद्ध इतिहास रहा है और आठवीं शताब्दी के कवि सरह या सरहपा को अंगिका साहित्य में सबसे ऊँचा दर्जा प्राप्त है। सरहपा को हिन्दी एवं अंगिका का आदि कवि माना जाता है। भारत सरकार द्वारा अंगिका को जल्द ही भारतीय संविधान की आठवीं अनुसूची में भी शामिल किया जाएगा। अब ये तो भविष्य ही बातयेगा की अंगिका को जोड़ा जाता है की नहीं।

भाषा परिवार

अंगिका हिन्द-यूरोपीय भाषा-परिवार परिवार के अन्दर आती है। ये हिन्द आर्य उपशाखा के अन्तर्गत वर्गीकृत है। हिन्द-आर्य भाषाएँ वो भाषाएँ हैं जो संस्कृत से उत्पन्न हुई हैं। उर्दू, कश्मीरी, बंगाली, उड़िया, पंजाबी, रोमानी, मराठी, मैथिली, नेपाली जैसी भाषाएँ भी हिन्द-आर्य भाषाएँ हैं।

व्याकरण

स्वर वर्ण

कुछ ऐसे स्वर वर्ण भी हैं जो अंगिका को लिखने में मुख्य रूप से साथ देता है।

वर्ण उद्धाहरण हिन्दी
अॊ आबॊ आईये
ल॑ जायल॑ जाने के लिए
अऽ सऽ से

यहाँ अॊ वर्ण बंगाली भाषा की उच्चारण को दर्शाता है। ल॑ वर्ण “ल” के उच्चारण को आधा से थोड़ा कम प्रदर्शित करता है, और सऽ वर्ण “स” को सामान्य से थोड़ा अधिक उच्च उच्चारण करता है।

वाक्य व्याकरण

यदि आप हिन्दी से अंगिका में बोलेंगे तो आपको निचे दिए गए उद्धाहरण से समझना होगा।

क्र.सं हिन्दी वाक्य अंगिका रूपांतरण
1 ये अंगिका भाषा का एक वाक्य उद्धाहरण है। ई अंगिका भाषा क एगो वाक्य उद्धाहरण छेकै।
2 आप एक महान व्यक्ति हैं। तोहों एगो महान व्यक्ति छेखॊ।
3 आपसे मिल के अच्छा लगा। तोरा स मिली क अच्छा लागलॊं।
4 यहाँ दो चूहे दौड़ रहे हैं। हिन्ह दू मुसॊ दौड़ी रहलौ छै।

वचन

हिन्दी भाषा के तरह अंगिका में भी वचन प्रणाली होती है, परंतु हिन्दी के समान नहीं। आप नीचे दिए गए उद्धाहरण से समझ सकते हैं।

हिन्दी वाक्य एकवचन/द्विवचन बहुवचन
वहाँ एक कुत्ता है / वहाँ दो कुत्ते हैं। वैंजां (एगो) कुत्ता छै/वैंजां दू गो कुत्ता छै। वैंजां कुत्ता सिनी छै।
पेड़ पर केवल एक आम है। गाछी प॑ खाली एगो आम छै। गाछी प॑ ढेरे सिनी आम छै।
इन आमों को खाइये नहीं क्योंकि ये अब तक पकें नहीं हैं। हय आम क॑ खइयऽ नै कैन्हें कि इ अखनी तलक पकलऽ नै छै। हय आम सिनी क॑ खइयऽ नै कैन्हें कि इ अखनी तलक पकलऽ नै छै।

यहाँ दिए गए उद्धरणों से ये स्पष्ट है की वाक्य द्विकवचन में रहने से अंगिका के वाक्यों पर कोई प्रभाव नहीं पड़ता, अर्थात वो एकवचन में ही रहता है। यदि दो से अधिक संज्ञा है तब संज्ञा के साथ सिनी या सब लगता है और वो बहुवचन वाक्य कहलता है।

वाक्य संरचना

अंगिका में वाक्य संरचना हिन्दी के समान है। जिस प्रकार हिन्दी में आदर शुचक शब्द आप होता है ठीक उसी प्रकार अंगिका में भी आदर शुचक शब्द होता है। उद्धाहरण के तौर पर:

हिन्दी वाक्य अंगिका रूपांतरण
अत्यधिक आदर सूचक आप कौन हैं। आपन॑ के छेखात्/छेखैन् /छेका ।
आदर सूचक आप कौन हैं। तोंय के छेकौ।
अनादर सूचक तुम कौन हो। तोंय के छेकैं।

शुद्ध व अशुद्ध अंगिका

नीचे दिए गए वाक्यों में शुद्ध अंगिका को दर्शया गया है, ये वो वाक्य हैं जिसे लोग अक्सर बोलने में गलती करते हैं।

क्र. सं. अशुद्ध अंगिका शुद्ध अंगिका हिन्दी अनुवाद
1 तोहं हुन्डऽ जाभैं। तोंय हुन्न॑ जैभैं। तुम वहाँ जाओगे।
2 तौयें खाभऽ की नाय। तोंय खैभऽ की नै ? / आपन॑ खैभै कि नै ? आप खाएंगे कि नहीं।
3 हम्मऽ हुन्नऽ खायल॑/खायल् जाबै। हम्म॑ हुन्न॑ खाय ल॑ जैबै। मैं वहां खाने के लिए जाऊंगा।
4 हमऽ गोड्डा जैतलतीयैय्। हम्म॑ गोड्डा जैतियै। मैं गोड्डा जाता।
5 रूपा कार्जयालय आपनॊ भायक्/ भाय कऽ लेजतै। रूपा आपनऽ भाय क॑ कार्यालय ल॑ जैतै । रूपा  आपने भाई को कार्यालय ले जाएगी।

लिंग व्याकरण

अंगिका भाषा में स्त्रीलिंग और पुल्लिंग ना के बराबर होता है। स्त्रीलिंग और पुल्लिंग का पता केवल सम्बोधन के समय चलता है या फिर भूतकाल में। भूतकाल में केवल स्त्रीलिंग का पता चलता है।

स्त्रीलिंग पुल्लिंग क्रिया
भूतकाल राधा खायल॑ गेली/गेलऽ छै। राम खायल॑ गेलऽ छै। जाना
सम्बोधन हे! तृप्ति कन्न॑ रहै छौ। हो! प्रशून कन्न॑ रहै छौ। रहना

उपयुक्त इन्ही स्थानों पर स्त्रीलिंग एवं पुल्लिंग का ज्ञात होता है। जब लोग अज्ञात लोगों को बुलाते हैं तो कहीं कहीं हेहो का भी उपयोग करते है। ये कोई जरुरी नहीं है की आप हेहो का उपयोग ही करें, ये आपके ऊपर निर्भर करता है।

Angika Language Part – 1 *** Angika Language Part – 2

error: Content is protected !!