4 weeks ago
अंगिका भाषा क संविधान केरौ ८मो अनुसूची आरू बिहार केरौ दोसरौ राज्यभाषा के श्रेणी मँ शामिल करबाबै ल मुख्यमंत्री, विधि मंत्री सँ माँग
4 weeks ago
जनगणना मँ अपनौ नामौ सथें मातृभाषा के कॉलम मँ अंगिका जरूर दर्ज करैइयै : अंगिका निवेदन पत्र, नेपाली गीत गोष्ठी
4 weeks ago
अंगिका क संविधान केरौ ८मो अनुसूची मँ डलबाबै आरू बिहार केरौ दोसरौ राजभाषा के रूपौ मँ मान्यता दिलाबै तलक जारी रहतै संघर्ष – प्रीतम विश्वकर्मा कवियाठ
1 month ago
अंगिका क संविधान केरौ ८ मो अनुसूची मँ आरू बिहार केरौ दोसरौ राज्यभाषा के श्रेणी मँ सूचीबद्ध करबाबै लेली नेपाली गीत-गोष्ठी आयोजित करतै कार्यक्रम
1 month ago
अपनो माय भाषा अंगिका क संविधान केरौ ८ मो अनुसूची मँ डलबाय क संवैधानिक दर्जा दिलाबै लेली हजारों के भीड़ नँ बनैलकै मानव श्रृंखला

गोदरगाँवा(बेगूसराय) । शनिवार, १४ अक्तूबर, २०१७ क॑ विप्लवी पुस्तकालय गोदरगाँवा म॑ कविता कोश केरऽ तत्वावधान म॑ पर्यावरण संरक्षण आरू स्वच्छता विषय प॑ गोष्ठी सह काव्य पाठ भेलै । कार्यक्रम केरऽ अध्यक्षता शिक्षक रामबहादुर यादव आरो संचालन मनोरंजन विप्लवी न॑ करलकै । मुख्य वक्ता राहुल शिवाय आरो मुख्य अतिथि अमित रंजन भारती रहै । आमीर आलम, राकेश कुमार, अनिमेष कुमार सहित गोदरगांवा हाई स्कूल  के बूतरू  सब न॑ अपनऽ-अपनऽ प्रस्तुति भी देलकै।

angika-kavita-kosh-3

वक्ता राहुल शिवाय न॑ पर्यावरण स॑ जुड़लऽ समस्या क॑ सामने रखत॑ हुअ॑ कहलकै  कि मनुष्य जब तलक प्रकृति दन्न॑ नै लौटतै तब तलक भूकंप, बूहऽ जेहनऽ समस्या सब ऐथैं रहतै । ओकरऽ बाद अपनऽ कविता के माध्यम स॑ राहुल शिवाय न॑  कहलकै –

पैतै हो केना कहऽ अगला पीढ़ी फूल ।
मनुख विकासऽ लेली रोपै रोज बबूल ।।

angika-kavita-kosh-2

मनोरंजन विप्लवी न॑ कहलकै कि दिवाली ख़ुशी केरऽ पर्व छिकै एकरा प्रदूषण केरऽ कारण नै बनाबऽ ।

angika-kavita-kosh-4

अमित रंजन जी न॑ कहलकै जब॑ तलक नया पीढ़ी सजग नै होतै पर्यावरण संतुलन संभव नै छै।

रामबहादुर यादव जी न॑ पर्यावरण क॑ स्वच्छ रखै लेली बच्चा सब क॑ जागरुक करलकै।

angika-kavita-kosh-1

पर्यावरण पर बोलै आरो काव्य पाठ लेली वर्ग दशम के छात्रा मनीषा कुमारी, वर्ग नवम के आदित्य कुमार, वर्ग अष्टम के गौरी कुमारी, रिषी कुमार, संदीप कुमार, प्रिंस कुमार, वर्ग सप्तम के आरती कुमारी, राहुल कुमार आरनी  क॑ डॉ. अमरेन्द्र द्वारा रचित अंगिका काव्य पुस्तक ‘तुक्तक-मुक्तक’ आरो ‘एक छड़ी पर अंडा नाचै’ भेंट स्वरूप देलऽ गेलै।

angika-kavita-kosh-

धन्यवाद ज्ञापन शमशेर आलम न॑ करलकै ।

 

Comments are closed.

error: Content is protected !!