3 months ago
उधाडीह गाँव मँ मनैलौ गेलै शौर्य चक्रधारी अंग गौरव शहीद निलेश कुमार नयन केरौ शहादत दिवस | New in Angika
4 months ago
गिनीज बुक ऑफ वर्ल्ड रिकॉर्ड मँ जग्घौ बनाबै लेली आय 122 भाषा के गाना कार्यक्रम मँ अंगिका मँ भी गैतै पुणे केरौ मंजुश्री ओक | News in Angika
4 months ago
अंगिका भाषा क आठमौ अनुसूची मँ दर्ज कराबै लेली दिसम्बर मँ दिल्ली मँ होय वाला आन्‍दोलन क सफल बनाबै के करलौ गेलै आह्वान | News in Angika
4 months ago
अंगिका आरू हिन्दी केरौ वरिष्ठ कवि व गीतकार, कविरत्न महेन्द्र प्र.”निशाकर” “दिनकर सम्मान” सँ सम्मानित  | News in Angika Angika
5 months ago
चाँद पर विक्रम लैंडर के ठेकानौ के लगलै पता, पर अखनी नै हुअय सकलौ छै संपर्क | ISRO found Vikram on surface of moon, yet to communicate | Chandrayaan 2 | News in Angika

गोदरगाँवा(बेगूसराय) । शनिवार, १४ अक्तूबर, २०१७ क॑ विप्लवी पुस्तकालय गोदरगाँवा म॑ कविता कोश केरऽ तत्वावधान म॑ पर्यावरण संरक्षण आरू स्वच्छता विषय प॑ गोष्ठी सह काव्य पाठ भेलै । कार्यक्रम केरऽ अध्यक्षता शिक्षक रामबहादुर यादव आरो संचालन मनोरंजन विप्लवी न॑ करलकै । मुख्य वक्ता राहुल शिवाय आरो मुख्य अतिथि अमित रंजन भारती रहै । आमीर आलम, राकेश कुमार, अनिमेष कुमार सहित गोदरगांवा हाई स्कूल  के बूतरू  सब न॑ अपनऽ-अपनऽ प्रस्तुति भी देलकै।

angika-kavita-kosh-3

वक्ता राहुल शिवाय न॑ पर्यावरण स॑ जुड़लऽ समस्या क॑ सामने रखत॑ हुअ॑ कहलकै  कि मनुष्य जब तलक प्रकृति दन्न॑ नै लौटतै तब तलक भूकंप, बूहऽ जेहनऽ समस्या सब ऐथैं रहतै । ओकरऽ बाद अपनऽ कविता के माध्यम स॑ राहुल शिवाय न॑  कहलकै –

पैतै हो केना कहऽ अगला पीढ़ी फूल ।
मनुख विकासऽ लेली रोपै रोज बबूल ।।

angika-kavita-kosh-2

मनोरंजन विप्लवी न॑ कहलकै कि दिवाली ख़ुशी केरऽ पर्व छिकै एकरा प्रदूषण केरऽ कारण नै बनाबऽ ।

angika-kavita-kosh-4

अमित रंजन जी न॑ कहलकै जब॑ तलक नया पीढ़ी सजग नै होतै पर्यावरण संतुलन संभव नै छै।

रामबहादुर यादव जी न॑ पर्यावरण क॑ स्वच्छ रखै लेली बच्चा सब क॑ जागरुक करलकै।

angika-kavita-kosh-1

पर्यावरण पर बोलै आरो काव्य पाठ लेली वर्ग दशम के छात्रा मनीषा कुमारी, वर्ग नवम के आदित्य कुमार, वर्ग अष्टम के गौरी कुमारी, रिषी कुमार, संदीप कुमार, प्रिंस कुमार, वर्ग सप्तम के आरती कुमारी, राहुल कुमार आरनी  क॑ डॉ. अमरेन्द्र द्वारा रचित अंगिका काव्य पुस्तक ‘तुक्तक-मुक्तक’ आरो ‘एक छड़ी पर अंडा नाचै’ भेंट स्वरूप देलऽ गेलै।

angika-kavita-kosh-

धन्यवाद ज्ञापन शमशेर आलम न॑ करलकै ।

 

Comments are closed.

error: Content is protected !!