नई दिल्ली ।  केंद्रीय गृहमंत्री राजनाथ सिंह सं॑ सकारात्मक आश्वासन के बाद अंगिका क॑ संवैधानिक दर्जा दिलाबै वास्तं॑ राजधानी दिल्ली केरऽ जंतर-मंतर पर आगामी २२ अगस्त सं॑ पूर्वघोषित  सत्याग्रह अनशन अगला सूचना तलक स्थगित होय गेलऽ छै  । एगो महत्वपूर्ण घटनाक्रम मं॑ अंगिका व भोजपुरी केरऽ बीच रोटी-बेटी के संबंध बतैतें हुअ॑ ई दूनू भाषा क॑ संवैधानिक दर्जा दिलाबै के दिशा मं॑ मिली-जुली क॑ प्रयास करै वास्तं॑ अन्तर्राष्ट्रीय अंगिका-भोजपूरी उत्थान परिषद केरऽ गठन करलऽ गेलऽ छै ।

ई बात के सूचना देतं॑ हुअ॑ अंग उत्थानान्दोलन समिति, बिहार-झारखंड सह अंग मुक्ति मोर्चा केरऽ राष्ट्रीय अध्यक्ष गौतम सुमन न॑ कहलकै कि ई आमरण अनशन सह सत्याग्रह केरऽ तैयारी लगभग पूरा होय चुकलऽ रहै । पिछला कुछ दिना स॑ समिति सह मोर्चा के प्रमुख श्री सुमन के साथ समिति के पूर्णिया जिला अध्यक्ष संजय केशरी,सहरसा जिला अध्यक्ष मनोज कुमार,बेगुसराय जिला अध्यक्ष कैलाश कसेरा,बाँका जिला अध्यक्ष बिपीन सिंह आरू जमुई जिला अध्यक्ष अरुण सिन्हा द्वारा लगातार दिल्ली -यूपी म॑ प्रवासित अंगिका भाषियऽ के बीच जागरूकता व संपर्क अभियान हेतु तुफानी दौरा करी रहलऽ छेलै । ई कार्य हेतु हजारों अंगिका भाषियऽ सहित अंग महाजनपद केरऽ छः सांसदें न॑ भी अपनऽ सहभागिता के सहमति द॑ देन॑ रहै ।

ई  दरमियान समिति न॑ देश-विदेश म॑ सर्वाधिक बोललऽ जाबै वाला लोकप्रिय लोकभाषा अंगिका व भोजपुरी केरऽ बीच रोटी-बेटी के संबंध बतैतें हुअ॑ अंगिका के साथ -साथ भोजपुरी क॑ भी समुचित सम्मान व अधिकार दिलाबै लेली उत्तर प्रदेश केरऽ कुशीनगर जनपद मं॑ अन्तर्राष्ट्रीय अंगिका- भोजपूरी उत्थान परिषद केरऽ गठन करी क॑ वहीं पर एकरऽ मुख्यालय के उद्घाटन करलकै । परिषद केरऽ राष्टोय अध्यक्ष पुष्कर सिंह, राष्टोय महासचिव के रूप म॑ गौतम सुमन, राष्टोय सचिव वरिय अधिवक्ता निर्मल साहा, राष्ट्रीय उपसचिव सह मीडिया प्रभारी डाॅ जयन्त जलद, कोषाध्यक्ष चन्द्रपाल सिंह आरू कार्यकारिणी सदस्य सह सलाहकार केरऽ रूप म॑ डाॅ0 अमरेन्द्र, कथाकार रंजन, डॉ0प्रेमचन्द्र पांडेय, कुंदन अमिताभ, बाबा दिनेश तपन, अंजनी शर्मा, विष्णु मंडल विकल, राजू कसेरा केरऽ चयन सर्वसम्मति स॑ करलऽ गेलै ।

ई बीच समिति केरऽ संपर्क अभियान केरऽ गोलबन्दी स॑ प्रभावित होय करी क॑ प्रधानमंत्री कार्यालय केरऽ कानूनी विभाग केरऽ संयुक्त सचिव श्री अतुल कौशिक केरऽ नेतृत्व म॑ गृहमंत्री महोदय न॑ ई संबंध म॑ वार्ता लेली बोलैलकै । नौ अगस्त क॑ अंग उत्थानान्दोलन समिति, बिहार-झारखंड सह अंग मुक्ति मोर्चा अपन॑ शिष्टमंडल के साथ भारत सरकार केरऽ गृह मंत्रालय केरऽ वेश्म (बंद कमरा) म॑ ११ बजी क॑ ३५ मिनट पर दाखिल होलै, जहाँ पहिनै स॑ माननीय गृहमंत्री श्री राजनाथ सिंह जी मौजूद रहै ।  अंग उत्थानान्दोलन समिति, बिहार-झारखंड सह अंग मुक्ति मोर्चा न॑ अनुरोध भरलऽ माँग पत्र क॑ उनका हाथऽ मं॑ सौंपलकै आरू विस्तार पूर्वक बात करतं॑ हुअ॑ उनका निवेदनपूर्वक बतैलकै कि भारतीय लोकतंत्र मं॑ कोन तरह अपनऽ लोकभाषा अंगिका के साथ अन्याय करलऽ जाय रहलऽ छै ।

समिति द्वारा निवेदन पूर्वक केंद्रीय गृहमंत्री राजनाथ सिंह सं॑ पुछलऽ गेलै कि भारतीय संविधान केरऽ आठमऽ अनुसूची मं॑ शामिल होय केरऽ सब्भे शर्तों व मानक क॑ जब॑   अंगिका भाषा पूरा करै छै त॑ एकरा मं॑ विलंब कैन्हें करलऽ जाय रहलऽ छै ? जबकि अंग महाजनपद मं॑ एकरा लेली लम्बा समय स॑ हर स्तर स॑ निरंतर आन्दोलन होय रहलऽ  छै । हुनका सं॑ ई बात पर हैरानी प्रकट करलऽ गेलै कि ई कार्य लम्बा समय स॑ गृह मंत्रालय केरऽ कार्यालय मं॑  ही कैन्हं॑  लम्बित पड़लऽ छै ? समिति के अनुसार गृहमंत्री महोदय न॑ हुनकऽ तमाम बात क॑ सुनलकै आरू समिति द्वारा सौंपलऽ गेलऽ चार पन्ना के स्मार-पत्र क॑ विस्तार स॑ पढ़लकै भी । तत्पश्चात हुनी अंगिका क॑ अष्टम अनुसूची मं॑ शामिल करै के माँग क॑ जायज बतैतें हुअ॑ कहलकै कि ई  खाली माँग ही नै छेकै बल्कि तमाम अंगवासियऽ के अधिकार छेकै जेकरा हर हाल मं॑ पूरा करलऽ जैतै । हुनी  बतैलकै कि ई कार्य हेतु एतना तत्परता के साथ आमरण अनशन या सत्याग्रह के फिलहाल कोय औचित्य नै छै । हुनी धैर्य रखै के सलाह देतं॑ हुअ॑ कहलकै कि अंग जनपद केरऽ सांसद व बिहार-झारखंड केरऽ मुख्यमंत्री स॑ मिली क॑ ई दिशा म॑ सकारात्मक पहल करै व कराबै के जरूरत छै ।  माननीय गृहमंत्री न॑ बतैलकै कि ई कार्य  केरऽ निष्पादन हेतु कुछ नियम-कायदा व प्रक्रिया होय छै  । हुनी बतैलकै कि  अंगिका क॑ अष्टम अनुसूची मं॑ शामिल करै के माँग के पूर्ति के प्रक्रिया प्रगति पर छै जेकरा लेली   धैर्य रखै के जरूरत छै ।

ई तरह पूरा १७ मिनट तलक गृहमंत्री महोदय स॑ सकारात्मक वार्ता आरू आश्वासन के बाद समिति द्वारा पूर्व  घोषित आमरण अनशन सह सत्याग्रह सहयोगी छः सांसद सहित अन्य सहयोगी संगठन व मित्रऽ, समर्थकऽ स॑ सलाह-परामर्श के बाद अगला तिथि के घोषणा तलक स्थगित करै के निर्णय लेलऽ गेलै ।  ११ अगस्त क॑ एकरऽ लिखित सूचना गृहमंत्री सहित प्रधान मंत्री महोदय आरू दिल्ली केरऽ मुख्यमंत्री व पुलिस आयुक्त क॑ द॑ देलऽ गेलै ।

ज्ञातव्य छै कि भारत केरऽ बिहार, झारखंड आरू पश्चिम बंगाल राज्य म॑ कुल मिलाय क॑ लगभग छह करोड़ स॑ भी जादा लोगऽ     द्वारा अंगिका भाषा प्रयोग म॑ लानलऽ जाय छै । बिहार केरऽ पंद्रह अंगिकाभाषी जिला छेकै- अररिया, कटिहार, पुर्णिया, किसनगंज, मधेपुरा, सहरसा, सुपौल, भागलपुर, बाँका, जमुई, मुंगेर, लखीसराय, बेगूसराय, शेखपुरा, खगड़िया. झारखंड केरऽ सात अंगिकाभाषी जिला छेकै – साहेबगंज, गोड्डा, देवघर, पाकुड़, दुमका, गिरीडीह, जामताड़ा आरू पश्चिम बंगाल केरऽ तीन अंगिकाभाषी जिला छेकै – मालदा, उत्तर दिनाजपुर, आरू बीरभूम । अंगिका भाषा भाषी अन्य स्थान दिल्ली, मुंबई, कलकत्ता सहित भारत केरऽ हर राज्य म॑ ही बड़ऽ तादाद म॑ निवासित छै । ई एगो घोर आश्चर्य केरऽ विषय छेकै कि भारत केरऽ करोड़ों लोगऽ के  भाषा अंगिका क॑ आजादी के एतना बरस बितला के बाद भी भारतीय संविधान केरऽ अष्टम अनुसूची म॑ शामिल नै करलऽ गेलऽ छै ।

ई बीच अब॑ ई निर्णय लेलऽ गेलऽ छै कि ई कार्य हेतु बिहार-झारखंड स्थित अंग महाजनपद केरऽ विधायक व सांसदऽ सिनी स॑ संपर्क करी क॑ ई दिशा म॑ सकारात्मक पहल करै व कराबै के आग्रह करलऽ जैतै आरू  जरूरत पड़ला पर दिल्ली म॑ ई आमरण अनशन सह सत्याग्रह केरऽ कार्यक्रम क॑ अक्तूबर माह म॑ करलऽ जैतै जेकरऽ तारीख बाद म॑ घोषित करलऽ जैतै ।

Comments are closed.