3 months ago
उधाडीह गाँव मँ मनैलौ गेलै शौर्य चक्रधारी अंग गौरव शहीद निलेश कुमार नयन केरौ शहादत दिवस | New in Angika
3 months ago
गिनीज बुक ऑफ वर्ल्ड रिकॉर्ड मँ जग्घौ बनाबै लेली आय 122 भाषा के गाना कार्यक्रम मँ अंगिका मँ भी गैतै पुणे केरौ मंजुश्री ओक | News in Angika
4 months ago
अंगिका भाषा क आठमौ अनुसूची मँ दर्ज कराबै लेली दिसम्बर मँ दिल्ली मँ होय वाला आन्‍दोलन क सफल बनाबै के करलौ गेलै आह्वान | News in Angika
4 months ago
अंगिका आरू हिन्दी केरौ वरिष्ठ कवि व गीतकार, कविरत्न महेन्द्र प्र.”निशाकर” “दिनकर सम्मान” सँ सम्मानित  | News in Angika Angika
4 months ago
चाँद पर विक्रम लैंडर के ठेकानौ के लगलै पता, पर अखनी नै हुअय सकलौ छै संपर्क | ISRO found Vikram on surface of moon, yet to communicate | Chandrayaan 2 | News in Angika

भागलपुर । शिक्षक के कमी के चलतें तिलकामाँझी भागलपुर विश्वविद्यालय केरऽ पी.जी. अंगिका विभाग बंद होय के कगार प॑ छै ! तिलकामाँझी भागलपुर विश्वविद्यालय मं॑ बिना शिक्षक वाला व्यवसायिक कोर्स आरू सामान्य कोर्स प॑ बंद होय केरऽ खतरा मंडराय रहलऽ छै । बगैर शिक्षक वाला बहुत सारा कोर्स केरऽ पढ़ाय बंद हुअ॑ सकै छै । जेकरा में अंगिका केरऽ पी.जी. विभाग भी शामिल छै ।

दैनिक प्रभात खबर में छपलऽ खबर के मोताबिक बिहार सरकार न॑ तिलकामाँझी भागलपुर विश्वविद्यालय क॑ चिट्ठी लिखी क॑ महीना भर के अंदर व्यवसायिक आरू सामान्य कोर्स में नियुक्त करलऽ गेलऽ शिक्षक के संख्या माँगल॑ छै । विश्वविद्यालय म॑ बहुत्ते कोर्स कर्मचारी सब के भरोसे प॑ चली रहलऽ छै । आगामी सत्र सें ई कोर्स में नामांकन बंद हुअ॑ सकै छै ।

ज्ञातव्य छै कि स्थापना केरऽ लगभग १५ बरस बाद भी अंगिका विभाग में आज तलक कोनो शिक्षक केरऽ बहाली नै करलऽ गेलै ।  हिंदी विभाग केरऽ शिक्षकऽ में सें कुछ क॑ अंगिका विभाग केरऽ विभागाध्यक्ष बनाय क॑ विभाग केरऽ गतिविधि क॑ चलाबै के प्रक्रिया अपनैलऽ गेलै । ई एगो आश्चर्य  पैदा करै वाला तथ्य छेकै कि अंगिका विभाग में अलग सें शिक्षक केरऽ बहाली कैन्हें नै करलऽ गेलै , जबकि अंग क्षेत्र केरऽ हिरदय स्थली भागलपुर सहित सौंसे अंग क्षेत्र में एक सें एक अंगिका केरऽ विद्वान आरू साहित्यकार भरलऽ पड़लऽ छै ।

angika-pg-tmbu-pk-5-11-2017

तिलकामाँझी भागलपुर विश्वविद्यालय में स्थापना केरऽ लगभग १५ बरस बाद भी अंगिका विभाग में आज तलक कोनो शिक्षक केरऽ बहाली नै करलऽ जाना आरू अंततः एकरा बंद होय के कगार प॑ लानी देना अंग क्षेत्र केरऽ जनता के गल्लऽ नै उतरी रहलऽ छै । एकरा में जानी-बूझी क॑ करलऽ गेलऽ साजिश केरऽ बू आबी रहलऽ छै । आखिर मसला की छेकै ?

Comments are closed.

error: Content is protected !!