भागलपुर : मट्टी (मिट्टी, मृदा आरनी) केरऽ स्वास्थ्य क॑ बेहतर बनाना आजकऽ समय के सबसं॑ बड़ऽ चुनौती मं॑ स॑ एक छेकै । मट्टी संसाधन के दस्तावेज तैयार करीक॑ एकरऽ स्वास्थ्य क॑ बेहतर बनाबै के उपाय खोजना चाहियऽ । उक्त बात मुख्य अतिथि के रूप मं॑ कोलकाता विश्वविद्यालय के प्रो. कुणाल घोष न॑ ‘बिहार कृषि विश्वविद्यालय, सबौर’ के प्रेक्षागृह म॑ मृदा स्वास्थ्य प्रबंधन विसय प॑  आयोजित रास्ट्रीय संगोस्ठी के उद‍घाटन मौका प॑ कहलकै । हुनी कहलकै कि किसानऽ क॑ मट्टी स्वास्थ्य कार्ड उपलब्ध करायक॑ ओकरऽ अनुसंसा के अनुसार खेती करै लेली जागरूक करना जरूरी छै।

बीएयू के कुलपति डॉ अजय कुमार सिंह न॑ कहलकै कि आज जलवायु परिवर्तन के समस्या क॑ देखतं॑ हुअ॑ विसम परिस्थिति के सामना करै वास्तं॑ आकस्मिक फसल योजना क॑ अपनाना जरूरी छै । ई लेली मौसम के अनुसार  कृसि तकनीक विकसित करना आरो ओकरे अनुसार फसल उत्पादन करै लेली किसानऽ क॑ प्रेरित करै के आवश्यकता छै । नयऽ सोध सं॑ विकसित कृसि तकनीक के दस्तावेज तैयार करी क॑ प्रसार-कार्यकर्ता सिनी क॑ उपलब्ध  करैलऽ जाय ।

अंतररास्ट्रीय चावल अनुसंधान संस्थान फिलिपिन्स केरऽ डॉ. रोलॉन्ड जे बुरेश न॑  फसल प्रनाली मं॑ विविधता प॑ प्रकास डालतं॑ हुअ॑ कहलकै कि क्षेत्र विशेस के अनुसार पोसक तत्व प्रबंधन क॑ हर हाल मं॑ अपनाबै के जरूरत छै । ‘भारतीय कृषि अनुसंधान संस्थान, नयी दिल्ली’ केरऽ डॉ. एससी दत्ता न॑ मिट्टी केरऽ स्वास्थ्य म॑ ऑरगेनिक कार्बन के भूमिका व महत्ता पर प्रकास डाललकै ।

कुलपति डॉ अजय कुमार सिंह, प्रो कुणाल घोष, डॉ रोलॉन्ड जे बुरेश, डॉ एससी दत्ता, डॉ एम कुमार, डॉ आरके सोहाने, डॉ बीबी मिश्रा, डॉ अंशुमान कोहली, डीन डायरेक्टर व वैज्ञानिकऽ न॑ संयुक्त रूप स॑ दीप प्रज्वलित करीक॑ कार्यक्रम के आगाज करलकै । अधिष्ठाता कृषि न॑ आगत अतिथि सिनी क॑ पुस्प गुच्छ,अंग वस्त्र व मोमेंटो प्रदान करीक॑ सम्मानित करलकै ।

छात्रा सिनी न॑ स्वागत गान गाबी क॑ अतिथि आरनि के स्वागत करलकै । अधिष्ठाता कृषि न॑ विश्वविद्यालय केरऽ मृदा विज्ञान व कृसि रासायन विभाग के सोध आरो उपलब्धियऽ प॑ प्रतिवेदन प्रस्तुत करलकै । प्राचार्य डॉ बीबी मिश्रा न॑ मट्टी केरऽ स्वास्थ्य म॑ लगातार होय रहलऽ गिरावट प॑ चिंता जाहिर करलकै आरो हर हाल म॑ एकरा बेहतर करै प॑ बल देलकै ।

तकनीकी सत्र मं॑ कुल 12 विभिन्न विसयऽ पर  देस-विदेस स॑ ऐलऽ वैज्ञानिकऽ के सोध पत्र प्रस्तुत करलऽ गेलै । पोस्टर सेसन म॑ एक स॑ बढ़ी क॑ एक जानकारी वाला पोस्टर के प्रदर्सन करलऽ गेलै । विश्वविद्यालय के छात्र-छात्रा सिनी न॑ मनमोहक सांस्कृतिक कार्यक्रम पेस करीक॑ खूब ताली बटोरलकै ।

 

 

 

 

 

 

 

Comments are closed.