मुंबई :अंगिका भाषा सिनेमा केरॊ ऐगॊ नया युग  शुरू होय वाला छै जबॆ आबै वाला समय मॆं अंगिका भाषा मॆं एक सॆं बढ़ी कॆ एक उत्कृष्ट आरू मनोरंजक सिनेमा निर्मित होय कॆ सिनेमा घरॊ मॆं प्रदर्शित करलॊ जैतै. angika_film_director_rajiv_ranjan_dasangika_film_16

केवल ‘अंग विश्व सांई छाया’ द्वारा ही चार-चार अंगिका फिल्म निर्माण के योजना छै. जेकरा मॆं प्रमुख छै – ‘ऐलै हो मिलन के बेला’, ’जहियो नै हमरा सॆं दूर’, ‘रंगॊ मॆं तोरे रंगी गेलॊं हो’. एगॊ अन्य फिल्म केरॊ नाम अभी तय होना शेष छै.

चारॊ फिल्म केरॊ निर्माता-निदेशक  राजीव रंजन दास केरॊ कहना छै कि नवनिर्माणाधीन अंगिका फिल्म,”ऐलै हो मिलन के बेला” जुलाई-2014 तक रिलीज होय जैतै.

श्री  दास कॆ फिल्म निर्माण केरॊ क्षेत्र मॆं एक लम्बा अनुभव छै आरू फिल्म निर्माण केरॊ बारीकी के बड़ा बढ़िया समझ छै. श्री  प्रकाश झा के साथ मुख्य सहायक निर्देशक केरॊ रूप मॆं काम करी चुकलॊ  श्री राजीव रंजन दास कॆ 1993 ई. सॆं ही प्रकाश झा सथॆं काम करै के मौका मिलतॆं रहलॊ छै. हिनकॊ सहनिर्देशित हिन्दी फिल्म मॆं प्रकाश झा केरॊ फिल्म- दीदी, बंदिश, मृत्युदंड,गंगाजल शामिल छै. जबकि एगॊ आरू फिल्म, ‘ मुंभाई द गैंगस्टर ‘ मॆं भी सहायक निर्देशक केरॊ रूप मॆं काम करी चुकलॊ छथिन.

ऐकरा सॆं पहिलॆ ‘अंग विश्व सांई छाया’ अन्तर्गत निर्मित  अंगिका फिल्म , ‘अंग-पुत्र’ पहलॆ ही सिनेमा घरॊ मॆं प्रदर्शित होय चुकलॊ छै.

Comments are closed.