अंग विश्व सांई छाया बैनर तलॆ नवनिर्माणाधीन अंगिका फिल्म,’ ऐलै हो मिलन के बेला ‘ केरॊ निर्माण मॆं अंग देश केरॊ स्थानीय कलाकारॊ सीनी कॆ प्राथमिकता देलॊ जैतै. अंगिका फिल्म ‘ ऐलै हो मिलन के बेला ‘जुलाई-2014 तक रिलीज होय जैतै. इ कहना छै  फिल्म केरॊ निर्माता-निदेशक  राजीव रंजन दास के.

बेसब्री सॆं इंतजार छै अंगिका भाषी कॆ अंगिका फीचर फिल्म, ' ऐलै हो मिलन के बेला' केरॊअंगिका फीचर फिल्म, ‘ ऐलै हो मिलन के बेला ‘ केरॊ संगीत निर्देशक एस. कुमार (बायाँ)आरू गीतकार लक्ष्मी नारायण मधुलक्षमी (दायाँ)अंगिका फीचर फिल्म, ' ऐलै हो मिलन के बेला ' केरॊ  संगीत निर्देशक एस. कुमार (बायाँ),आरू गीतकार लक्ष्मी नारायण मधुलक्षमी (दायाँ)  फिल्म निर्माता - निर्देशक राजीव रंजन दास(बीच) सथॆंअंगिका फीचर फिल्म, ' ऐलै हो मिलन के बेला ' केरॊ गीतकार,  लक्ष्मी नारायण मधुलक्षमी (दायाँ) निर्माता - निर्देशक  राजीव रंजन दास (बायाँ) सथॆं अंगिका फीचर फिल्म, ' ऐलै हो मिलन के बेला ' केरॊ  निर्माता - निर्देशक  राजीव रंजन दासअंगिका फीचर फिल्म,'ऐलै हो मिलन के बेला' केरॊ मुख्य सहायक निर्देशक हेमंत राहा अंगिका फीचर फिल्म, 'ऐलै हो मिलन के बेला' केरॊ कैमरामैन अमित सिंहअंगिका फीचर फिल्म, ' ऐलै हो मिलन के बेला ' केरॊ गीत-संगीत प्रोगामर मनु वर्माअंगिका फीचर फिल्म, ' ऐलै हो मिलन के बेला ' केरॊ एस. कुमार (संगीत निर्देशक), राजीव रंजन दास (निर्माता - निर्देशक),लक्ष्मी नारायण मधुलक्षमी (गीतकार) (बायाँ सॆं दायाँ)
अंगिका फीचर फिल्म, ' ऐलै हो मिलन के बेला ' केरॊ टीम : बायाँ सॆं दायाँ - हेमंत राहा (मुख्य सहायक निर्देशक), अमित सिंह ( कैमरामैन), एस. कुमार (संगीत निर्देशक), मनु वर्मा (गीत-संगीत प्रोगामर), लक्ष्मी नारायण मधुलक्षमी (गीतकार), राजीव रंजन दास (निर्माता - निर्देशक)

अंगिका.कॉम सॆं बातचीत करतॆं हुऎ श्री राजीव रंजन दास नॆ कहलकै कि अंग देश क्षेत्र मॆं काफी प्रतिभावान कलाकार सीनी  छै, जेकरॊ प्रतिभा के सही उपयाग नै होय रहलॊ छै. ऐन्हॆ प्रतिभा सभ कॆ पहचान करी कॆ ओकरा अंगिका फिल्म उद्योग सॆं जोड़ै के जरूरत छै. सही प्रतिभा के खोज लेली हुनी अंग क्षेत्र के विभ्न्न भागॊ के व्यापक दौरा भी करलकै.

‘ ऐलै हो मिलन के बेला ‘ मॆं स्थानीय कलाकार, गौरव गर्ग, कौशल किशार मिश्रा, आरू नवनीता वर्मा, सानवी झा कॆ क्रमशः  मुख्य अभिनेता आरू अभिनेत्री के रोल मिलै के संभावना छै. हालाँकि मुख्य अभिनेत्री के नाम तय करना अभी शेष छै. श्री राजीव रंजन दास के अनुसार मेन हिरोइन के तलाश जल्दिये पूरा होय जैतै. हुनका अनुसार 2 फरवरी कॆ भागलपुर मॆं एगॊ विवाह सामारोह छै, जेकरा मॆं शायद मेन हिरोइन के तलाश पूरा होय जैतै.

‘ ऐलै हो मिलन के बेला ‘ केरॊ सब्भे गीत स्थानीय काली स्थान, मुंदीचक के निवासी आरू वरिष्ठ गीतकार, लक्षमी नारायण मधुलक्षमी लिखनॆ छथिन. लक्षमी नारायण मधुलक्षमी जी, हिन्दी साहित्य केरॊ मुर्धन्य साहित्यकार गीतकार स्व. गोपाल सिंह नेपाली केरॊ स्मृति मॆं हर साल मनैलॊ जाय वाला  नेपाली उत्सव सॆं जुड़लॊ रहलॊ छथिन. ”ऐलै हो मिलन के बेला” मॆं सात-सात मधुर आरू उत्कृष्ट गीत रहतै. श्री राजीव रंजन दास केरॊ कहना छै कि चालू द्वीअर्थी फिल्मी गाना सॆं परे इ फिल्म केरॊ गीत सब परिवार मॆं एक साथ बैठी कॆ सूनै वाला होतै.

स्व. गोपाल सिंह नेपाली केरॊ परिवार केरॊ सविता नेपाली कॆ भी ऐकरा मॆं एगॊ गाना गाबै के मौका मिलतै.

‘अंग विश्व सांई छाया’ द्वारा ही चार-चार अंगिका फिल्म निर्माण के योजना छै. ‘ऐलै हो मिलन के बेला’ के अलावा एकरा मॆं प्रमुख छै –  ’जहियो नै हमरा सॆं दूर’, ‘रंगॊ मॆं तोरे रंगी गेलॊं हो’आरू एगॊ अन्य फिल्म जेकरॊ नाम अभी तय होना शेष छै.

 

Comments are closed.